Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

योगी की कितनी 'आंखें' हैं, जानकर चौंक जाएंगे आप कैसे रहती है हर तरफ नजर

 Anurag Tiwari |  2017-03-26 07:40:47.0

योगी की कितनी

तहलका न्यूज ब्यूरो

गोरखपुर.
एक कुशल प्रशासक होने के लिए लिए सबसे ज्यादा जरूरी होता है कि उसके आंख-कान खुले रहे हैं. साथ ही उसके साथ काम करने वालों को यह पता लग सके कि उनके काम की मॉनिटरिंग हो रही है. यूपी के नए सीएम के बारे में जो तथ्य सामने आए हैं, उन्हें जानकार चौंक जाएंगे आप. गोरक्षपीठ के महंत होने के नाते आदित्यनाथ योगी मठ से जुड़े 44 संस्थानों के मुखिया है.

चाहें योगी कहीं भी हों लेकिन वे इन सभी संस्थानों पर एक जैसी पैनी निगाह रखते हैं. ये सब मॉडर्न टेक्नोलॉजी का कमल है जो संभव हो सका है. गोरक्षपीठ से जुड़े संस्थान पूरे पूर्वांचल में फैले हैं. इन सब पर नोगाह रखने के लिए इन सभी संस्थानों में सीसीटीवी कैमरे लगे हैं और इन सभी सीसीटीवी कैमरों का एक्सेस सीधा योगी के पास रहने वाले मोबाइल में है. योगी दुनिया के किसी कोने में हों उन्हें मालूम रहता है कि इन संस्थानों में क्या चल रहा है.


इन्हों सीसीटीवी कैमरों का कमल है कि मन्दिर परिसर में चलने वाले गोरखनाथ अस्पताल की एक-एक गतिविधि पर योगी की नजर रहती है. चाहे वह मरीजों के साथ व्यवहार हो या फिर किसी डॉक्टर का ड्यूटी पर न आना हो. योगी हर बात की जानकारी रखते हैं.

गोरखनाथ मंदिर की रसोई इतनी बड़ी है कि उसमें रोजाना दोनों टाइम लगभग 450 लोगों का खाना बनता है. इन लोगों में मठ के कर्मचारी, गौशाला की देखरेख करने वाले लोग, स्कूल में पढ़ने वाले बच्चे, टीचर और एनी स्टाफ मेम्बर शामिल हैं. रसोई का जिम्मा 13 लोगों की टीम सम्भालती है. इस रसोई में वैदिक रीति से भोजन तैयार किया जाता हैं. साथ ही मन्दिर के ट्रस्ट द्वारा संचालित किए जाने वाले स्कूलों और कॉलेजों को भी इसी रसोई से सब्सिडी पर भोजन उपलब्ध कराया जाता है.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Top