Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

एमसीए ने वर्ल्ड कप में पुलिस बंदोबस्त के 3.60 करोड़ रूपये अदा नहीं किये 

 Sabahat Vijeta |  2016-07-16 13:19:37.0

Cricket-2


मुम्बई. पुलिस बल के हजारों पुलिस कर्मियों को क्रिकेट वर्ल्ड कप के बंदोबस्त के लिए तैनात किया गया. नियमानुसार जिसका बंदोबस्त शुल्क मुम्बई क्रिकेट एसोसिएशन को अदा करना चाहिए था. लेकिन उसने ऐसा नहीं किया. पिछले 6 क्रिकेट मैच को उपलब्ध कराई पुलिस बंदोबस्त का 3.60 करोड़ रूपये आज तक अदा न करने की जानकारी आरटीआई कार्यकर्ता अनिल गलगली को मुम्बई पुलिस ने दी हैं. एनसीपी नेता शरद पवार और भाजपा नेता आशिष शेलार के पैनल का राज मुम्बई क्रिकेट एसोसिएशन पर होने से मुम्बई पुलिस सावधानी बरत रही हैं.


आरटीआई कार्यकर्ता अनिल गलगली ने मुम्बई पुलिस से 1 जनवरी 2011 से संपन्न हुए क्रिकेट प्रतियोगिता के लिए उपलब्ध कराई पुलिस बंदोबस्त और शुल्क की जानकारी मांगी थी. जन सूचना अधिकारी और सहायक पुलिस आयुक्त (समन्वय) रमेश घडवले ने बंदोबस्त शाखा ने दी हुई जानकारी उपलब्ध कराते हुए बताया कि आईसीसी टी-20 क्रिकेट विश्वकप 2016 अंतर्गत 60 लाख रूपये के हिसाब से 6 मैच का 3.60 करोड़ रूपये बकाया हैं. 10 मार्च को न्यूजीलैंड के विरुद्ध श्रीलंका, 12 मार्च को न्यूजीलैंड के विरुद्ध इंग्लंड और इंडिया विरुद्ध दक्षिण आफ्रिका, दिनांक 16 मार्च को वेस्ट इंडीज विरुद्ध इंग्लंड, दिनांक 18 मार्च को दक्षिण आफ्रिका विरुद्ध इंग्लंड, दिनांक 20 मार्च को दक्षिण आफ्रिका विरुद्ध वेस्ट इंडीज और दिनांक 31 मार्च 2016 को इंडिया विरुद्ध वेस्ट इंडीज ऐसे 6 मैच हुए थे.


आरटीआई के बाद जागी मुम्बई पुलिस


मुम्बई पुलिस ने 3756 इतना बड़ा और भारी भरकम पुलिस बंदोबस्त दिया लेकिन उसके के लिए खर्च हुए शुल्क वसूल किया नहीं. अनिल गलगली की आरटीआई के बाद 24 जून 2016 को पुलिस उपायुक्त अशोक दुधे (अभियान) ने सशस्त्र पुलिस दल के पुलिस उप आयुक्त को लिखित पत्र भेजकर पुलिस बंदोबस्त का रूपये 3.60 करोड़ की रकम वसूल करने की सूचना की. लेकिन अब तक मुम्बई क्रिकेट एसोसिएशन ने कोई रिस्पांस नहीं दिया हैं.


ब्याज पर छोड़ा पानी


गत 4 महीने से बकाया करोडों की रकम वसूल करने की जो कार्यवाही शुरु की हैं उस पर आने वाला ब्याज पर मुम्बई पुलिस ने पानी छोड़ दिया हैं. रूपये 3.60 करोड़ की बकाया रकम पर ब्याज न लेने की मुम्बई पुलिस की भूमिका पर सवाल खड़ा किया जा रहा हैं. इसके पहले 2011 में हुए 4 मैच का बंदोबस्त शुल्क रूपये 2 करोड़ 65 लाख 49 हजार 885 अदा किया गया हैं.


अनिल गलगली के अनुसार पुलिस बंदोबस्त की दम पर बड़े पैमाने पर प्रॉफिट कमानेवाली मुम्बई क्रिकेट एसोसिएशन को बंदोबस्त शुल्क ताबड़तोड़ अदा करने की जरुरत हैं. सशस्त्र दल की लापरवाही से शुल्क वसूल नहीं किए जाने से पुलिस आयुक्त जिम्मेदार अधिकारियों पर नियमानुसार कारवाई करे और ऐसे मैच का शुल्क मैच खत्म होते ही वसूल करे या क्रिकेट की प्रतियोगिता के आयोजक से पहले ही शुल्क वसूल करे. जिससे पुलिस को बंदोबस्त का शुल्क वसूली करने में दिक्कत का सामना करने की नौबत नहीं आए.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Top