Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

कब मिलेगी राजदेव के गुनाहगारों को सज़ा

 Sabahat Vijeta |  2016-05-20 16:31:53.0

rajdev-2पटना. बिहार के सीवान के पत्रकार राजदेव रंजन की हत्या के बाद उनका परिवार भीतर तक हिल गया है. बेटे की मौत के गम राजदेव के पिता की आँखें पथरीली हो गई हैं. दिल्ली से आये पत्रकारों का प्रतिनिधिमंडल राजदेव के घर पहुंचा तो पता चला कि बिहार के मुख्यमंत्री या उनके किसी प्रतिनिधि का उनके परिवार से मिलना तो दूर की बात है. अब तक तो स्थानीय विधायक ने भी राजदेव रंजन के परिवार से मुलाक़ात नहीं की है. उनके परिवार को बिहार छोड़कर चले जाने की धमकियाँ मिल रही हैं.


राजदेव रंजन के परिवार को उम्मीद है कि उन्हें इंसाफ मिलेगा और राजदेव की हत्या के गुनहगारों को कड़ी सजा मिलेगी. राजदेव रंजन को इन्साफ दिलाने के लिए उनके परिजनों के साथ न केवल स्थानीय पत्रकार बल्कि दिल्ली, उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के पत्रकार भी खड़े हो गए हैं. इसी कड़ी में दिल्ली से सीवान पहुंचा पत्रकारों का प्रतिनिधिमंडल आज शुक्रवार की सुबह पीड़ित परिवार से मिला.


राजदेव के परिवार से पता चला कि जिस तरह से सत्ता पक्ष ने पीड़ित परिवार से दूरी बना ली है यह कुछ विशेष इशारा करता है, जिसकी चर्चा भी आजकल सीवान की गलियों में खूब हो रही है. प्रेस फाउन्डेशन ऑफ इंडिया के अध्यक्ष उमेश कुमार ने इस दौरान पीड़ित परिजन को 51,000 रुपए तत्कालीन मदद राशि प्रदान की. साथ ही कहा कि जल्द ही देश भर के पत्रकारों के बीच एक मुहिम चलाकर पीड़ित परिवार को यथासंभव आर्थिक सहायता भिजवाएंगे. मृत पत्रकार के दोनों बच्चों की भी पढ़ाई की जिम्मेदारी लेने की बात भी इस प्रतिनिधिमंडल ने कही है.


परिवार से मुलाक़ात के बाद इस प्रतिनिधिमंडल ने डीएम महेन्द्र कुमार से मुलाकात की और उन्हें एक ज्ञापन सौंपकर पीड़ित परिवार को 25 लाख रुपए की आर्थिक मदद दिए जाने की अपील की.


rajdevवहीं IWFJ के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष हेमंत तिवारी ने कहा कि बिहार के असली सुशासन से परिचय हुआ है. उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार के पास लखनऊ और बनारस जाने का समय तो है लेकिन उन्हें अपने ही सूबे में मारे गए पत्रकार के पीड़ित परिजन से मिलकर सहानुभूति जताने की फुर्सत नहीं है. उन्होंने कहा कि यदि नीतीश सरकार में थोड़ी सी भी शर्म बाकी है तो वे 48 घंटे में पीड़ित परिजन को 25 लाख रुपए की मदद प्रदान करें.


इस प्रतिनिधिमंडल में ‘समाचार प्लस’ के यूपी हेड आलोक पांडे, पत्रकार आशुतोष, पत्रकार अमितेश कुमार श्रीवास्तव, समाज सेवी वीजेन्द्र सिंह, आकाश, ‘जी न्यूज’ के पूर्व पत्रकार सुधीर शर्मा, ‘शंखनाद मीडिया नेटवर्क’ के शिवप्रसाद सती, ‘दूरदर्शन’ के विकास शर्मा, ‘बुंदेलखंडलाइव’ के विनय दिवाकर, ‘समचार4मीडिया’ से अभिषेक मेहरोत्रा, पत्रिका ‘ऑफिसर्स चॉइस’ से लिटिल गुप्ता समेत कई अन्य पत्रकार शामिल थे.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top