Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

उ.प्र. साइकिल हाइवे बनाने वाला देश का पहला राज्य

 Sabahat Vijeta |  2016-05-20 15:05:21.0


  • राज्य सरकार पर्यावरण के महत्व से पूरी तरह अवगत : मुख्यमंत्री

  • आगामी चुनाव घोषणा पत्र में पर्यावरण को अलग एवं महत्वपूर्ण स्थान दिया जाएगा

  • लखनऊ में 100 किलोमीटर कुल लम्बाई के साइकिल ट्रैक बनाए गए

  • इस वर्ष एक दिन में 5 करोड़ पौधे रोपित करने की योजना

  • को-जनरेशन नीति लागू कर उ.प्र. चीनी मिलों को बिजली पैदा करने की इजाजत देने वाला देश का पहला राज्य

  • अधिक से अधिक वृक्षारोपण, बरसात के पानी के संरक्षण एवं गैर-परम्परागत ऊर्जा पर ध्यान देना होगा

  • मुख्यमंत्री ने ‘लिव ग्रीन यूपी’ कार्यक्रम को सम्बोधित किया




akh-1लखनऊ. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा है कि राज्य सरकार पर्यावरण के महत्व से पूरी तरह से अवगत है। इसीलिए पर्यावरण के प्रति जन-जागरूकता पैदा करने के लिए कई अभिनव कदम उठाए गए हैं। आगामी विधान सभा चुनाव के लिए उनकी पार्टी के चुनाव घोषणा पत्र में पर्यावरण को अलग एवं महत्वपूर्ण स्थान देते हुए इस पर आने वाले व्यय का भी उल्लेख किया जाएगा, जिससे उक्त धनराशि की व्यवस्था बजट के माध्यम से करके योजना को लागू किया जा सके।

मुख्यमंत्री आज यहां इन्दिरा गांधी प्रतिष्ठान में टाइम्स ऑफ इण्डिया समाचार पत्र के तत्वावधान में आयोजित ‘लिव ग्रीन यूपी’ कार्यक्रम को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने विकास एवं कल्याणकारी कार्यक्रमों के अलावा तमाम ऐसे कार्य भी किए हैं, जो लीक से हटकर हैं। आने वाले समय में इनका समाज एवं पर्यावरण पर काफी असर दिखायी देगा। आगरा से इटावा तक करीब 190 किलोमीटर लम्बाई में बनाए जाने वाले साइकिल हाइवे का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश साइकिल हाइवे बनाने वाला देश का पहला राज्य होगा।


akh-2राज्य सरकार प्रदेश के कई नगरों में, सड़कों की चौड़ाई घटाए बिना साइकिल ट्रैक का निर्माण करा रही है। लखनऊ में ही अब तक लगभग 100 किलोमीटर साइकिल ट्रैक बन चुका है। इसके अलावा, 100 किलोमीटर साइकिल ट्रैक अभी और बनाया जाना है। इस प्रकार लखनऊ में कुल 200 किलोमीटर साइकिल ट्रैक बन जाने से विद्यार्थियों एवं अन्य लोगों में साइकिल सवारी के प्रति क्रेज बढ़ेगा। उन्होंने चम्बल क्षेत्र में कुछ माह पूर्व सम्पन्न बर्ड फेस्टिवल का उल्लेख भी किया, जिसमें भारत और 12 अन्य देशों के प्रतिनिधियों ने भाग लिया था। उन्होंने कहा कि सारस पक्षी के संरक्षण के लिए भी कार्यक्रम चलाए जा रहे हैं।


पर्यावरण के प्रति राज्य सरकार की प्रतिबद्धता की चर्चा करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि ‘क्लीन यूपी-ग्रीन यूपी’ कार्यक्रम में पर्यावरण संरक्षण पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है। एक दिन में 10 लाख पौधे वितरित करने का विश्व रिकॉर्ड उत्तर प्रदेश सरकार के नाम है। इस वर्ष जुलाई में एक दिन में 5 करोड़ पौधे रोपित करने की योजना भी बनायी गयी है, जिसके लिए गड्ढे खोदे जा चुके हैं। इस कार्यक्रम पर लगभग 300 करोड़ रुपए खर्च किए जाएंगे। उन्होंने कन्नौज में बन रहे इण्टरनेशनल परफ्यूम एवं परफ्यूम पार्क, प्रदेश के शहरों की खूबियों के हिसाब से विकसित की गईं ‘समाजवादी सुगन्ध’ आदि का उल्लेख करते हुए कहा कि ऐसे कार्य पहली बार वर्तमान राज्य सरकार द्वारा ही किए जा रहे हैं।


akh-3श्री यादव ने कहा कि पूरे विश्व में पर्यावरण के प्रति विशेष चेतना आयी है। विभिन्न देशों की सरकारें भी एक मंच पर आकर पर्यावरण की हिफाजत के लिए कार्यक्रम निर्धारित करने का काम कर रही हैं। ऐसी चेतना हमारे देश एवं समाज में भी दिखने लगी है। उन्होंने कहा कि बढ़ते प्रदूषण एवं प्रकृति के बदलते स्वरूप को ध्यान में रखते हुए विभिन्न स्तरों पर कई इनोवेशन किए जा रहे हैं, लेकिन यह ध्यान देना होगा कि जो भी प्रोजेक्ट तैयार किए जाएं, वे सस्ते होने के साथ-साथ सरल भी हों।


श्री यादव ने गैर-परम्परागत ऊर्जा स्रोतों के विकास का उल्लेख करते हुए कहा कि इस दिशा में समाजवादी सरकार द्वारा काफी काम किया जा रहा है। उत्तर प्रदेश देश का पहला राज्य है, जहां को-जनरेशन नीति लाकर चीनी मिलों को बिजली पैदा करने की इजाजत दी गई। इसी प्रकार सौर ऊर्जा नीति के तहत 500 मेगावॉट से अधिक सौर ऊर्जा आधारित विद्युत उत्पादन पर भी काम किया जा रहा है। पवन एवं जल विद्युत उत्पादन की प्रदेश में कम सम्भावना को देखते हुए गोबर गैस के माध्यम से विद्युत उत्पादन को भी प्रोत्साहित किया जा रहा है।


akh-4इसके साथ ही आर्थिक रूप से कमजोर लोगों के लिए राज्य सरकार द्वारा बनाए जा रहे लोहिया ग्रामीण आवास में सोलर पावर पैक की व्यवस्था के साथ-साथ ग्रामीण इलाकों में सोलर स्ट्रीट लाइटें स्थापित की जा रही हैं। इसी प्रकार नदियों को प्रदूषण से बचाने के लिए काम किया जा रहा है। लखनऊ नगर में गोमती नदी में गंदा पानी जाने से रोकने के लिए डाइफ्रॉम वॉल के माध्यम से नालों का पानी डायवर्ट करने की व्यवस्था की जा रही है। उन्होंने कहा कि वर्तमान पीढ़ी की यह जिम्मेदारी बनती है कि आने वाली पीढ़ियों के लिए नदियों के प्रवाह को साफ-सुथरा रखा जाए।


मुख्यमंत्री ने कहा कि समाज में तेजी से परिवर्तन आ रहा है। रोजमर्रा के जीवन में तकनीक का इस्तेमाल बढ़ रहा है। लेकिन इसी के साथ हम अपनी परम्परागत अच्छी चीजों को भी भूल रहे हैं, जिससे पर्यावरण तेजी से प्रभावित हो रहा है। इसलिए हमें अधिक से अधिक वृक्षारोपण, बरसात के पानी के संरक्षण एवं गैर-परम्परागत ऊर्जा पर ध्यान देना होगा। घरों में एकत्रित होने वाले कूड़ों के प्रति हर व्यक्ति में चेतना जाग्रत करनी होगी। साथ ही पूर्व से स्थापित टेनरियों को पानी शोधन की वैकल्पिक व्यवस्था करनी होगी। सोलर पैनल और अधिक सस्ता एवं सर्वसुलभ करना होगा ताकि अधिक से अधिक लोग सौर ऊर्जा को अपनाने के लिए प्रेरित हो सकें। उन्होंने कहा कि पर्यावरण के मामले में मीडिया, जनता एवं सरकार को मिलकर काम करना होगा, तभी अच्छे परिणाम पाए जा सकते हैं।


इससे पूर्व, मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम स्थल पर पर्यावरण को दृष्टिगत रखते हुए विभिन्न विद्यालयों द्वारा लगाए गए प्रोजेक्ट का अवलोकन किया एवं विद्यार्थियों से उनके प्रोजेक्ट की थीम के सम्बन्ध में जानकारी ली। एमिटी इण्टरनेशनल स्कूल, लखनऊ, दिल्ली पब्लिक स्कूल, आजादनगर, कानपुर, केन्द्रीय विद्यालय, न्यू कैण्ट इलाहाबाद, एलपीएस, शारदानगर, लखनऊ, सनबीम स्कूल, अन्नपूर्णा, वाराणसी तथा विद्यार्थी मॉडर्न वर्ल्ड कॉलेज, लखनऊ के विद्यार्थियों द्वारा विभिन्न विषयों पर बनाए गए प्रोजेक्ट की सराहना करते हुए इन विद्यालयों की टीमों को सम्मानित किया। इसके साथ ही उन्होंने गत दिवस ‘क्लीन यूपी-ग्रीन यूपी’ के सम्बन्ध में जनेश्वर मिश्र पार्क में सम्पन्न परिचर्चा की विजेता छात्राओं सुश्री अभिलक्ष्य वर्मा, स्वाती सिंह व सुचेता चौरसिया को सम्मानित भी किया।


इस अवसर पर राजनैतिक पेंशन मंत्री राजेन्द्र चौधरी, प्रमुख सचिव सूचना नवनीत सहगल सहित बड़ी संख्या में छात्र-छात्राएं, अभिभावक, शिक्षक, गणमान्य नागरिक एवं मीडिया के लोग उपस्थित थे।

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Top