Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

यूपी चुनाव: मुख़्तार को पाक-साफ़ बताते हुए मायावती ने बीएसपी में किया शामिल

 Avinash |  2017-01-26 11:39:56.0

यूपी चुनाव: मुख़्तार को पाक-साफ़ बताते हुए मायावती ने बीएसपी में किया शामिल


तहलका न्यूज़ ब्यूरो
लखनऊ. बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने गुरूवार को अपनी पत्रकार वार्ता के दौरान कहा कि मुख्तार अंसारी की इमेज खराब करने के लिए इनके विरोधियों ने फर्जी मुक़दमे दर्ज कराये हैं. मुख़्तार अंसारी पहले भी बसपा में रहे हैं और चुनाव भी लड़े हैं. मुख़्तार अंसारी परिवार को बसपा में शामिल किया गया है. कौमी एकता दल का भी बसपा में विलय हो गया. इस दौरान मायावती की प्रेस कांफ्रेंस में नसीमुद्दीन और सतीश चन्द्र मिश्र भी मौजूद रहे. आपको बता दें कि मऊ से मुख्तार को और घोसी से मुख़्तार के बेटे को टिकट मिला है वहीँ गाज़ीपुर से सिगबत उल्ला अंसारी को टिकट दिया गया है. इस दौरान मायावती ने कहा कि अतीक अहमद और राजा भैया को अपराधी मानती है बसपा, इन अपराधियों को हम बसपा में कभी नहीं लेंगे.

मायावती ने कहा कि, विधान सभा चुनाव में जनता यह सोचकर वोट करे क़ि किस सरकार ने उसे क्या दिया. बसपा सरकार में क़ानून व्यवस्था पर सबसे ज़्यादा ध्यान रहता है . मायावती ने कहा कि क़ानून व्यवस्था को बनाये रखने के लिए मैंने अपनी पार्टी के लोगों को जेल भेज है. मेरी सरकार में किसी भी निर्दोष को सजा नहीं मिली है. हमारी पार्टी क्रिमनल को पार्टी में नहीं लेती लेकिन उन्हें सुधरने का मौक़ा देती है. बसपा में अपराधी नहीं रहते. अगर हमें कोई सुधरने का वादा करेगा तो हम उसे मौक़ा देंगे. उन्होंने कहा कि मुख़्तार के खिलाफ कोई आरोप साबित नहीं है. उन्होंने यह भी सवाल उठाया की मुख्तार जेल में थे तो वे कृष्णा नन्द राय की हत्या कैसे कर सकते है.

बीजेपी पर हमला बोलते हुए बसपा सुप्रीमो ने कहा कि बाबा साहब ने रिज़र्वेशन नहीं दिया होता तो बीजेपी दलितों को कभी टिकट नहीं देती. नोट बंदी के बाद से जनता में केंद्र के प्रति रोष व्याप्त है. बीजेपी ने चुनाव से पहले ही अपनी हार मान ली है और उसे राम मंदिर का सहारा लेना पड़ रहा है. जबकि यह मामला अदालत में है.

वहीँ अफ़ज़ल अंसारी ने कहा कि मुख्तार, दिग्बाट और अब्बास अंसारी बसपा में शामिल है. उन्होने कहा कि मुलायम और शिवपाल की पेशकश पर हमने अपने दल का सपा में विलय किया।
हमारे साथ धोखा हुआ टिकट नहीं दिया। मुलायम ने हमसे कहा था कि अखिलेश मुस्लिम विरोधी है. हमारे परिवार ने देश की सीमाओं पर रक्षा की है. जो धोखा हमें मिला है उसका खमियाज़ा सपा को भुगतना पड़ेगा. हमे कोई पद नहीं चाहिए, हम सेवा करेंगे.

कौमी एकता दल के साथ ही आज बसपा में शामिल हुए सभाजीत सिंह ने कहा कि, मैं 9 साल हाई कोर्ट का जज रहा हूँ. मायावती की लड़ाई में साथ खड़ा हूँ. अखिलेश स्मार्ट फोन दे रहे हैं और मायावती रोज़गार देंगी. अखिलेश सरकार ने कन्नौज , इटावा और फिरोज़बाद के लोगो के अलावा किसी को नौकरी नहीं दी.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top