Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

पुण्यतिथि पर जानें यूपी की पहली राज्यपाल सरोजिनी नायडू के बारें में खास

 Vikas tiwari |  2017-03-01 19:26:34.0

पुण्यतिथि पर जानें यूपी की पहली राज्यपाल सरोजिनी नायडू के बारें में खास

तहलका न्यूज़ ब्यूरो

लखनऊ. भारत को आजादी दिलाने के लिए देश की कई महिलाओं ने भी कड़ा संघर्ष किया. उनमें से एक नाम है सरोजनी नायडू. लोग सरोजनी जी को भारत कोकिला के नाम से भी जानते हैं. सरोजिनी नायडू की जब 2 मार्च सन् 1949 को मृत्यु हुई तो उस समय वह राज्यपाल के पद पर ही थीं. लेकिन उस दिन मृत्यु तो केवल देह की हुई थी. अपनी एक कविता में उन्होंने मृत्यु को कुछ देर के लिए ठहर जाने को कहा था.....

मेरे जीवन की क्षुधा

, नहीं मिटेगी जब तक

मत आना हे मृत्यु, कभी तुम मुझ तक।

सरोजिनी नायडू की पुण्यतिथि पर जाने उनके बारे में खास....

-सरोजनी नाय़डू का जन्म 13 फरवरी 1879 को हैदराबाद में हुआ था. उनके पिता का नाम अघोरनाथ चट्टोपाध्याय था जो कि विद्वान थे. उनकी माता एक कवयित्री थीं.

-सरोजिनी नायडू एक महान कवयित्री और स्वतंत्रता संग्राम सेनानी थी. सरोजिनी जी पहली महिला थी जो ने इंडियन नेशनल कांग्रेस की अध्यक्ष और यूपी की पहली राज्यपाल महिला थी.

-बचपन में वह बहुत होनहार छात्रा थीं. उन्होंने 12 साल की छोटी उम्र में 12वीं कक्षा अच्छे अंकों में उत्तीर्ण की. 13 साल की उम्र में लेडी ऑफ दी लेक नामक कविता की रचना की.

-मगर उनके बाद के दूसरे और तीसरे कविता संग्रह बर्ड ऑफ टाईम और ब्रोकन विंग ने ही उन्हें एक लोकप्रिय कवयित्री बना दिया.

-वे 1895 में उच्च शिक्षा के लिए इंग्लैंड गईं और पढ़ाई के साथ-साथ कविताएं भी लिखती रहीं. गोल्डन थ्रैशोल्ड उनका पहला कविता संग्रह था. 1914 में इंग्लैंड में वे पहली बार गांधीजी से मिलीं और उनके विचारों से प्रभावित होकर देश के लिए समर्पित हो गयीं.

-उन्होंने देश के लिए अनेक राष्ट्रीय आंदोलनों का नेतृत्व किया और जेल भी गयीं.

-साल 1898 में सरोजिनी नायडू का विवाह डॉ. गोविंदराजुलू नायडू से हो गया और यूपी के लखनऊ में रहने लगी थीं.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Top