सैयद रफत ने अयोध्या में मंदिर बनाने के लिए राखी ये तीन शर्तें

 2017-03-24 11:44:22.0

सैयद रफत ने अयोध्या में मंदिर बनाने के लिए राखी ये तीन शर्तें

तहलका न्यूज़ ब्यूरो
लखनऊ. आल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुसलिमीन (एआईएम) के यूपी के महासचिव सैयद रफत ने शुक्रवार को पार्टी मुख्यालय पर प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित करते हुए कहा कि हम उच्चतम न्यायालय के 'ऑब्जरवेशन' कि अयोध्या विवाद को आपसी बातचीत से तय किया जाए का स्वागत करते है. और इसे एक अच्छा मौका मानते है कि इसके द्वारा न केवल उत्तर-प्रदेश बल्कि देश में हिन्दू-मुसलमानों के बीच 25 वर्षों से बढ़ती जा रही खाई को समाप्त किया जा सकता है. उन्होंने कहा कि इस्लाम का मानना है कि 'माफ़ कर देने वाले का स्थान बदला लेने वाले से बड़ा होता है और 'सुलह' हर हाल में एक बेहतर सौदा है भले इसमें तुम्हारी इज्जत घट क्यों न रही हो'.

उन्होंने अयोध्या विवाद पर त्रिसूत्रीय फार्मूला पेश करते हुए कहा है कि यदि यह फार्मूला बीजेपी सरकार द्वारा स्वीकार किया जाता है तो मुस्लिम समाज राम मंदिर के निर्माण हेतु सहर्ष योगदान देने को तैयार हो जाएगा एवं तीन महीने के अंदर दस लाख मुस्लिमों और धर्मगुरुओं का सहमति पत्र सरकार को सौंपा जाएगा.

ये है त्रिसूत्रीय फार्मूला

1. बीजेपी/ पीएम मोदी द्वारा 1992 में बाबरी मस्जिद विध्वंस पर खेद व्यक्त किया जाए एवं उक्त घटना में अभियुक्त बनाए गए सभी व्यक्तियों द्वारा मुस्लिम समाज से क्षमा मांगी जाए.
2. इस बात का आश्वासन दिया जाए कि राम जन्म भूमि बाबरी मस्जिद विवाद के शांतिपूर्ण समाधान के पश्चात किसी भी अन्य धर्मस्थल/ इमारत के विरुद्ध कोई विवाद उत्पन्न नहीं किया जाएगा.
3. भारत सरकार/यूपी सरकार द्वारा विवादित भूमि के बराबर भूमि अयोध्या में किसी अन्य स्थान पर मुस्लिम समाज/वफ्फ़ बोर्ड को आवंटित की जाएगी तथा सरकार/ व्यक्तिगत के सहयोग द्वारा एक भव्य मस्जिद का निर्माण कराया जाएगा.

Tags:    
loading...
loading...

  Similar Posts

Share it
Top