Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

स्लाटर हॉउस के सवाल पर फंस गए रविशंकर प्रसाद

 Utkarsh Sinha |  2017-02-05 12:52:41.0

स्लाटर हॉउस के सवाल पर फंस गए रविशंकर प्रसाद

तहलका न्यूज ब्यूरो

लखनऊ. यूपी चुनावो के मद्देनजर भाजपा के बड़े नेता लगभग हर रोज पार्टी मुख्यालय पर प्रेस वार्ता कर रहे हैं. रविवार को लखनऊ में पत्रकारों से बात करने की बारी केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद की थी. रविशंकर प्रसाद ने आक्रामक तरीके से अखिलेश यादव और राहुल गांधी के गठबंधन पर सवाल उठाए. प्रसाद ने इसे भ्रष्टाचारियों का गठबंधन बताया.

इसके बाद वे तीन तलाक और स्लाटर हॉउस जैसे संवेदनशील मुद्दों की तरफ बढे और इसे मानवता और नारी अधिकारों से जोड़ा. मगर स्लाटर हॉउस बंद करने के भाजपा के संकल्प पर वे फंस गए. जब पत्रकारों ने उनसे पूछा कि नरेन्द्र मोदी 2014 के अपने चुनाव अभियानों में भी स्लाटर हॉउस बंद करने की बात की थी और ढाई साल तक केंद्र की सरकार होने के बाद भी इस मामले पर कोई ठोस पहल नहीं की तो रविशंकर प्रसाद ने इसे राज्य का विषय बताया और कहा कि स्लाटर हॉउस के लाईसेंस का मामला राज्य सरकार के अधिकार में आता है और केंद्र इसमें कुछ नहीं कर सकता. इसके बाद तहलका न्यूज ने जब पूछा कि यदि इसमें राज्य सरकार की इतनी महत्वपूर्ण भूमिका है तो मध्य प्रदेश , महाराष्ट्र और हरियाणा जैसे भाजपा शासित राज्यों में स्लाटर हॉउस अब तक क्यूँ नहीं बंद किये जा सके. इस सवाल पर रविशंकर प्रसाद अचकचा गए और उन्होंने कुछ मामलो में कोर्ट का हवाला देते हुए मुद्दे को समेटने की कोशिश की.

ज्ञातव्य है कि भाजपा शासित राज्यों महाराष्ट्र, पंजाब और हरियाणा में बड़ी संख्या में ऐसे स्लाटर हॉउस काम कर रहे हैं और केंद्र की मोदी सरकार के कार्यकाल में भी बीफ एक्सपोर्ट में भारत दुनिया में पहले स्थान पर आ गया है.
रविशंकर प्रसाद ने राम मंदिर मुद्दे पर कहा कि हम संवैधानिक दायरे में इसका समाधान करना चाहते हैं. उन्होंने माना कि यदि हम अपने संकल्प पत्र में राम मंदिर का जिक्र नहीं करते तो उसपर सवाल उठाये जाते और कहा जाता कि हमने राम मंदिर का मुद्दा छोड़ दिया है.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top