Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

राजनैतिक दलों को जल जंगल जमीन के मुद्दों की अनदेखी भारी पड़ेगी : जल पुरुष राजेन्द्र सिंह

 shabahat |  2017-01-22 16:55:41.0

राजनैतिक दलों को जल जंगल जमीन के मुद्दों की अनदेखी भारी पड़ेगी : जल पुरुष राजेन्द्र सिंह

तहलका न्यूज़ ब्यूरो

लखनऊ. पिछले 17 दिसम्बर को गांधी भवन लखनऊ में प्रदेश के सामाजिक एवं जन संगठन के प्रतिनिधि बैठे थे. इसके बाद उ.प्र. के पांच भूसंस्कृति क्षेत्रो में लोक संवाद यात्राएं हुई थीं. इन यात्राओ में निकल कर सामाने आया कि पूरे प्रदेश में किसान संकट में हैं. किसान खेती छोड़ कर शहर के लिए पलायन करने के लिए विवश हैं. जल संकट लगातार बढ़ रहा है जिसके कारण खेती और मानव जीवन प्रभावित हो रहे हैं. नदियाँ सूख रही हैं, तालाब अतिक्रमण के शिकार हो रहे हैं. प्रदेश के नागरिक समाज ने इन सभी क्षेत्रों में तय किया है कि यदि राजनीतिक दल और उनके उम्मीदवार इन मूलभूत मुद्दो को चुनाव में महत्व नहीं देंगे तो उनका विरोध किया जायेगा, और कई संकटग्रस्त क्षेत्रो में चुनाव बहिष्कार किया जायेगा.

24 जनवरी को लखनऊ के गांधी भवन में लोक संवाद सम्मेलन का आयोजन किया जा रहा है जिससे प्रदेश के सभी जिलो के जन संगठनो के कार्यकर्ता, पर्यावरण विद्ध, प्रबद्ध समाज के लोग सहाभागिता करेगे, उ.प्र.देश में जल,जगल, जमीन मुद्दा नहीं बन पा रहा है. जो भी योजनाएं बनाई जा रही है. जमीन पर उनका असर दिखाई नहीं दे रहा है. जल संरक्षण के लिए संचालित योजनाओ में जन भागेदारी नहीं है. प्रदेश का बहुत बड़ा हिस्सा बे पानी होने वाला है. जगंल प्रत्येक साल लगातार कम हो रहे हैं. कृषि योग्य भूमि का गैर कृषि कार्यो में लगातार उपयोग बढ़ रहा है. गांव में नौ जवानों को किसानी से जोड़ना होगा, गांव की जवानी को गांव में ही रोकना होगा.

राजनैतिक दलो को पंच महाभूत का सम्मान करना होगा. जल जन जोड़ो के राष्ट्रीय समन्वयक संजय सिंह ने कहा कि जल वायु परिवर्तन के बढ़ते प्रभाव को रोकने के लिए विकास के समावेशी सिद्धान्त को बढ़ावा देना होगा. जल पुरुष राजेन्द्र सिंह एक माह तक उ.प्र. में रूककर किसान, नौजवान और पर्यावरणविद्व और नागर समाज के विभिन्न घटको से संवाद करेंगे. उनके लिए वह आज पूर्वाचल के प्रवास पर आजमगढ़ और मऊ जा रहे हैं. जहां वह प्राध्यापक, अधिवक्ताओ और चिकित्सको, पर्यावरणविदों, सामाजिक कार्यकर्ताओ के साथ संवाद करेंगे. इसके बाद पश्चिमी उ.प्र. में हिण्डन पंचायत करेंगे.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top