Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

परम्परा से प्राप्त संस्कृति को आधुनिक युग में निभाने की आवश्यकता: एसपी सिंह

 2017-03-06 14:19:08.0

परम्परा से प्राप्त संस्कृति को आधुनिक युग में निभाने की आवश्यकता: एसपी सिंह

तहलका न्यूज़ ब्यूरो
लखनऊ. भारत सरकार द्वारा संचालित राष्ट्रीय संस्कृत संस्थान (मानित विश्यविद्यालय) के लखनऊ परिसर में आधुनिक संकाय द्वारा समायोजित राष्ट्रीय संगोष्ठी का उद्घाटन लखनऊ विश्यविद्यालय के कुलपति प्रो. एसपी सिंह ने किया. उहोने संगोष्ठी के विषय ''परम्परा और आधुनिकता: समाज एवं साहित्य के सन्दर्भ में'' को अत्यंत प्रासंगिक बताते हुए कहा कि परंपरा से प्राप्त अच्छी संस्कृति को आधुनिक युग में निभाने की आवश्यकता है.

संस्थान के प्राचार्य प्रो. सुरेन्द्र पाठक ने परम्परा और आधुनिकता को दो पहियों की तरह मानने का परामर्श दिया तो वहीँ अहमदाबाद के समागत योग-विशेषज्ञ डॉ.अरुण कुमार मिश्र ने कहा कि सभी आधुनिक मानसिक रोग योग एवं आयुर्वेद से पूरी तरह ठीक हो सकते हैं. आधुनिक संकायाध्यक्ष प्रो. शिशिर कुमार पाण्डेय ने मानस-रोगों के आयुर्वेदिक एवं यौगिक निदान को समाज की महती आवश्यकता के रूप में रेखांकित किया.

कार्यक्रम में प्रो. सुरेन्द्र झा, प्रो. रामसागर मिश्र, डॉ. आशाराम त्रिपाठी, डॉ. अनिल पोरवाल, डॉ. अभिमन्यु सिंह आदि विद्वान् उपस्थित हुए. कार्यक्रम का संचालन डॉ. कविता बिसारिया ने किया. जगन्नाथ झा ने अतिथियों का आभार व्यक्त किया. कार्यक्रम का प्रारंभ भगवती सरस्वती की अर्चना, वैदिक मंगलाचरण(डॉ. नीरज तिवारी) और लौकिक मंगलाचरण से हुआ.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Top