Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

'मुलायम के लोग': ये है इटावा में शिवपाल का नया दफ्तर

 Girish |  2017-02-01 04:44:44.0



तहलका न्‍यूज ब्‍यूरो
लखनऊ: समाजवादी पार्टी में मचे घमासान में अब एक नया मोड़ ले लिया है। इटावा में जसवंतनगर से नामांकन भरने के बाद शिवपाल सिंह यादव ने कहा कि 11 मार्च के बाद वे समाजवादी पार्टी से अलग नई पार्टी बनाएंगे। शिवपाल ने सीएम अखिलेश यादव पर तंज कसते हुए कहा कि उन्होंने टिकट देकर मेहरबानी की है। शिवपाल ने कहा अगर टिकट न देते तो सोचता, टिकट नहीं मिलता तो निर्दलीय चुनाव लड़ता।

मुलायम के लोग
बता दें कि इससे पहले शिवपाल यादव ने 'मुलायम के लोग' ऑफिस का उद्घाटन करके इस बात का संकेत दे दिया कि वे अब अलग राह पकड़ने के मूड में हैं। इस दफ्तर को शिवपाल का वॉर रूम कहा जा रहा है। यही ठीक सपा के स्‍थानीय ऑफिस के बगल में है। मंगलवार को शिवपाल ने नामांकन किया। इस मौके पर सैकड़ों समर्थक उनके साथ मौजूद थे। नामांकन के बाद उन्होंने नुमाईश पंडाल में एक जनसभा को भी संबोधित किया।

गठबंधन से सिर्फ कांग्रेस का फायदा होगा
शिवपाल ने कहा कि पांच साल तक मेहनत की, अब कहां जाएं? 11 मार्च का रिजल्ट देख लेना। 11 मार्च को तुम सरकार बना लो हम पार्टी बनाएंगे और फिर से संघर्ष करेंगे। समाजवादी पार्टी को कमजोर किया गया। गठबंधन से सिर्फ कांग्रेस को फायदा होगा। शिवपाल ने कहा कि आज हम जो भी हैं नेताजी की वजह से हैं। बहुत से लोगों ने कहा है कि जो कुछ हैं नेताजी के वजह से हैं। उन्हीं लोगों ने नेताजी को अपमानित करने का कम किया है।

फाइलें 2 साल तक रोककर रखी गईं
इस मौके पर शिवपाल यादव ने बतौर मंत्री अपनी उपलब्धियां भी गिनवाईं। उन्होंने याद दिलाया कि कई अहम महकमे संभालने के बावजूद उनपर कोई आरोप नहीं लगा। अपने कार्यकाल में सड़क निर्माण का श्रेय लेते हुए शिवपाल यादव ने दावा किया कि उनपर कई लोगों ने दबाव बनाने की कोशिश की और कई मामलों में उनकी फाइलें 2 साल तक रोककर रखी गईं।

शिवपाल के मुताबिक उन्होंने सरकार में गलत कामों के खिलाफ आवाज उठाई और नकली शराब को बनने से रोका। यही वजह थी कि उन्हें सीएम ने बर्खास्त किया। उनकी मानें तो सीएम ने अच्छा काम कर रहे हैं। अंबिका चौधरी और नारद राय जैसे मंत्रियों को भी हटाने से गुरेज नहीं किया।

हम केवल गलत काम रोक रहे थे
शिवपाल ने आगे कहा कि अभी जो सरकार चली थी 5 साल, हमारे विभाग क्या किसी से कम अच्छे चले हम जानते हैं कि समाजवादी पार्टी में भी भितरघात करने वाले लोग हैं। उनसे सावधान रहने की जरुरत है। हम केवल गलत काम रोक रहे थे। गलत काम का विरोध कर रहे थे, तब हमें निकाल दिया गया। हमने कहा था जो चाहे हमसे ले लो लेकिन नेताजी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकते। मरते दम तक नेताजी के साथ रहेंगे और उनका आदेश मानेंगे।

कांग्रेस की 4 सीटें जीतने की हैसियत भी नहीं
शिवपाल ने कहा कि हमलोग तो ज्यादातर विपक्ष में रहे हैं। बीजेपी, बीएसपी और कांग्रेस को तब हराया जब हमारे पास कोई साधन नहीं थे। कांग्रेस से गठबंधन पर शिवपाल ने कहा कि आज से 6 महीने पहले कांग्रेस की क्या स्थिति थी? यूपी में कांग्रेस की 4 सीटें जीतने की हैसियत भी नहीं है। ऐसे में पार्टी को 105 देने से पार्टी कार्यकर्ता हताश होंगे। उन्होंने बताया कि वो 19 फरवरी के बाद ऐसी सीटों पर प्रचार करेंगे जहां से मुलायम सिंह यादव के समर्थक चुनाव लड़ रहे हैं। शिवपाल यादव ने दोहराया कि वो नेताजी का अपमान किसी कीमत पर बर्दाश्त नहीं कर सकते और मरते दम तक उनका साथ निभाएंगे।

अच्छा हुआ कि साइकिल हमें मिल गई
शिवपाल के इस बयान के बाद अखिलेश यादव ने कड़ी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि जो लोग पार्टी में भितरघात कर रहे हैं वह साथ नहीं रह सकते। जो लोग हमें धोखा दे रहे हैं वह पार्टी में नहीं रह सकते। अच्छा हुआ कि साइकिल हमें मिल गई। सपा और कांग्रेस का गठबंधन आने वाले दिनों में देश की राजनीति की दिशा तय करेगा।

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Top