Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

बोले केशव मौर्य, दो शहजादे न वादे समझा पाए न इरादे

 Avinash |  2017-01-29 15:08:19.0

बोले केशव मौर्य, दो शहजादे न वादे समझा पाए न इरादे


तहलका न्यूज़ ब्यूरो
लखनऊ. भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष सांसद केशव प्रसाद मौर्य ने रविवार को पत्रकारों से की वार्ता करते हुए राहुल गांधी और अखिलेश यादव के रोड शो पर तीखी टिप्पड़ी करते हुए कहा कि दो शहजादे न समझा पाये वादे, न ही बता पाये मेरे प्रदेश के विकास के इरादे। रोड-शो में भीड़ नहीं उत्साह नहीं जीत का विश्वास नहीं। सपा-कांग्रेस का नहीं गुण्डागर्दी और भ्रष्टाचार का समझौता है। राहुल जी बता गये की तीसरा भ्रष्टाचारी कौन है। उन्होंने सपा पर हमला करते हुए कहा, विकास किया होता तो कांग्रेस रूपी बैशाखी की आवश्यकता क्यों पड़ी।

उन्होंने आगे कहा कि कहा कि भारतीय जनता पार्टी का संकल्प का पत्र उत्तर प्रदेश के सुशासन व विकास की दृष्टि पत्र तथा मजबूत इच्छा शक्ति का दस्तावेज है।

भाजपा सरकार बनने पर पहली कैबिनेट मीटिंग में किसानों का कर्ज माफ किया जायेगा। किसानों की बिना ब्याज ऋण का प्रस्ताव पास होगा, सभी खेत को पानी के लिए 20 हजार करोड़ का फंड बनाया जायेगा। बुलेन्दखण्ड के किसानों की सिचाई की समस्या का निदान होगा।

भारतीय जनता पार्टी ने अपने संकल्प पत्र में किसान, व्यापारी, युवा, महिला, छात्र गरीब, मजदूर सबके विकास के लिए योजनाऐं और उनके क्रियान्वयन का संकल्प लिया है।
भारतीय जनता पार्टी ने अपने संकल्प पत्र मे कृषि विकास, लघु व सीमान्त किसानों, भूमि हीन किसान मजदूर, कानून व्यवस्था, युवा को रोजगार, शिक्षा क्षेत्र में गुणवत्ता गरीबी से मुक्ति के उपाय बुनियादी विकास की योजना, आद्योगिक विकास, नारी शसक्तीकरण स्वास्थ व देश का भविष्य छात्र सभी पर सम्यक दृष्टि रखी है। समाज के हर वर्ग एवं तबके के लिए समान सोच के साथ योजनाऐं बनायी गई है।

केशव मौर्य की प्रेस वार्ता की अहम बातें:-

1. मुख्तार अंसारी का बसपा में शामिल होना अपराध और गुण्डाई का समर्थन और गुण्डे हाथी पर चढ़गए।
2. मीडिया के मित्रों तथा उत्तर प्रदेश की जनता ने देखा कि सपा-काग्रेस का गठबन्धन पूरी तरह हताशा से ग्रस्त है। मंच पर राहुल द्वारा अखिलेश की उपस्थिति में मायावती की तारीफ करना गठबन्धन की कमजोरियों एवं सम्भावित हार को प्रर्दशित करता है।
3. राहुल गाधी जी तथा अखिलेश जी दोनो न तो उत्तर प्रदेश की बदहाली का कारण ही बता पाए। न ही उत्तर प्रदेश की जनता को सपा राज में अपराध से त्रस्त जनता तथा भ्रष्टाचार से पीड़ित लोगो के सवालों का कोई जबाब दे सके।
4. इनके पास विकास की कोई दृष्टि नही है न ही इच्छा शक्ति।
5. राहुल जी आक्रोश और कुठा से इतना अधिक ग्रस्त है कि प्रेस के लोगो का सवाल ही भूल गये।
6. एक दूसरे की सरकारों की रेटिंग के प्रश्न पर दोनो का कोई जबाब न देना यह दर्शाता हैं की कहीं न कहीं एक दूसरे की सरकारों के कार्यकाल से वे स्वयं सन्तुष्ट नहीं है।
7. राहुल जी और अखिलेश ने कहा कि ये गंगा जमुना का संगम होने जा रहा है मैं बताना चाहता हूॅ कि संगम में यमुना गायब हो जाती है मैं पूछना चाहता हूॅ कि इस नापाक गठबंधन में सपा यमुना बनेगी या कांग्रेस, दरअसल चुनाव बाद यहां ये दोनों ही पार्टियां गायब हो जाएंगी, जनता समझ चुकी है कि ये मौका परस्ती का गठबंधन है।
8. कितना हास्यास्पद है कि राहुल जी अखिलेश जी को बगल में बैठाकर यूपी में परिवर्तन की बात करते रहे, उन्हें ये भी याद नहीं रहा कि यूपी में अखिलेश जी ही सरकार चला रहे हैं और हम भी चाहते है कि यूपी में परिवर्तन हो, अखिलेश सरकार के गुण्डाराज और भ्रष्टाचार समाप्त हो।
9. कई पत्रकारों के सवाल राहुल जी पत्रकार वार्ता के दौरान ही भूल गये, भूलने की उनकी पुरानी आदत है, जनता से किया वायदा भी ये लोग हमेशा भूल जाते है, पर जनता की याददाश्त मजबूत है, वो कांग्रेस और सपा के भ्रष्टाचार का जोरदार जबाव देगी।
10. अखिलेश यादव को बगल में बैठाकर राहुल गांधी मायावती की तारीफ करते रहे, अखिलेश उस पर मुस्कुराते रहे, इसी से साफ है कि ये मौका परस्त लोग हैं और तीनों ही आपस में मिले हुए है।
11. कहां गया राहुल गांधी का 27 साल यूपी बेहाल का नारा।

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Top