Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

अखिलेश के CM रहते महिलाओं के खिलाफ अपराधों में आई कमी: रिपोर्ट

 Avinash |  2017-02-22 15:46:30.0

अखिलेश के CM रहते महिलाओं के खिलाफ अपराधों में आई कमी: रिपोर्ट

तहलका न्यूज़ ब्यूरो
लखनऊ. उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव में तीन चरणों का मतदान संपन्न हो चुका है तो वहीँ चौथे चरण का मतदान कल यानी 23 फरवरी को है. ऐसे में सूबे में सियासी माहौल अपने पुरे सबाब पर है. एक ओर सभी राजनीतिक दल अपनी-अपनी जीत का दावा कर रहें हैं तो दूसरी ओर विपक्षी दलों पर शब्दभेदी बाण भी चला रहे हैं.

गौरतलब है कि यूपी में सबसे बड़ा चुनावी मुद्दा कानून व्यवस्था का है, जिसके लिए बीजेपी और बीएसपी अखिलेश सरकार को घेरने की कोशिश कर रही हैं. लेकिन ऐसे में नेशनल क्राइम रिकार्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) की रिपोर्ट अखिलेश सरकार को बड़ी राहत और बीजेपी को झटका भी दे सकती है.

जी हाँ, दरअसल बात ये है कि, इस रिपोर्ट के मुताबिक अखिलेश यादव के सीएम रहते हुए यूपी में महिलाओं के खिलाफ अत्याचार कम हुआ है. जबकि बीजेपी शासित, मध्य प्रदेश की बात करें तो यहां महिलाओं के खिलाफ अपराध बढ़े हैं. वहीँ राजस्थान में भी हालात ठीक नहीं है.

बता दें कि, नेशनल क्राइम रिकार्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) के आंकड़ों के मुताबिक 16 फीसदी अत्याचार महिलाओं के खिलाफ कम हुआ. आंकड़ों के अनुसार 2001 में हर 100 बलात्कार के मामलों में से 12.27 यूपी में दर्ज होते थे लेकिन 2015 में यह कम होकर प्रति 100 मामलों 8.73 रह गया है. इतना ही यूपी में लिंगानुपात प्रति 1,000 898 से बढ़कर 912 हो गया है. अगर हम महिलाओं के खिलाफ सभी अपराधों की बात करें तो पूरे देश के मुकाबले यूपी में 2001- 2015 के बीच 17 फीसदी से कम होकर 14 फीसदी हो गया है.

वहीँ 2001 में जहां मध्य प्रदेश में 23.14 लाख मामले दर्ज हुए थे वो 2015 में बढ़कर 26.73 लाख हो गए. साथ ही नहीं बलात्कार की संख्या में भी इजाफा हुआ है. साल 2001 में जहां 9.86 लाख महिलाओं के खिलाफ रेप के मामले दर्ज किए गए थे, 2015 में बढ़कर वो 12 लाख हो गए.

जबकि राजस्थान में 2001 में जहां 33.67 लाख मामले दर्ज थे वो 2015 में घटकर 25.34 लाख तक पहुंच गए. साथ ही 2001 में जहां 3.87 लाख बलात्कार के मामले दर्ज हुए थे वो 2015 में बढ़कर 10.60 लाख मामले हो गए.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Top