Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

नोटबंदी के खिलाफ कांग्रेसी सड़कों पर उतरे

 shabahat |  2017-01-18 17:37:02.0

नोटबंदी के खिलाफ कांग्रेसी सड़कों पर उतरे

लखनऊ. अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के आवाहन पर नोट बन्दी के विरोध में 'जनवेदना' के क्रम में रिजर्व बैंक आफ इण्डिया का आज किये जाने वाले घेराव एवं विरोध प्रदर्शन के तहत प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में प्रदेश के विभिन्न जनपदों से सैंकड़ों की संख्या में कांग्रेसजन एकत्र हुए एवं जुलूस की शक्ल में पूर्व केन्द्रीय मंत्री शकील अहमद, सांसद प्रमोद तिवारी एवं डॉ. संजय सिंह, दिल्ली प्रदेश के पूर्व अध्यक्ष एवं पूर्व सांसद जे.पी. अग्रवाल कोआर्डिनेटर उ.प्र., पूर्व मंत्री रावदान सिंह, पूर्व सांसद श्रीमती अन्नू टण्डन एवं विनय कुमार पाण्डेय, महिला कांग्रेस की अध्यक्ष श्रीमती प्रतिमा सिंह, युवा कांग्रेस के अध्यक्ष अंकित परिहार, शहर कांग्रेस अध्यक्ष बोधलाल शुक्ला एडवोकेट एवं जिला कांग्रेस के अध्यक्ष गौरव चौधरी के नेतृत्व में आरबीआई गोमतीनगर की ओर कूच किया जहां रास्ते में माल एवेन्यू चौराहे पर आगे बढ़ने पर भारी पुलिस बल द्वारा कांग्रेसजनों को रोक दिया गया. कांग्रेसजनों द्वारा मोदी सरकार और आरबीआई के खिलाफ नारेबाजी कर अपना विरोध प्रकट किया गया.

प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय से निकलकर माल एवेन्यू चौराहे पर वरिष्ठ नेताओं द्वारा भारत रत्न पूर्व प्रधानमंत्री राजीव जी की प्रतिमा पर माल्यार्पण करने के उपरान्त सैंकड़ों की संख्या में कांग्रेसजनों के हुजूम को आरबीआई जाते समय रास्ते में भारी पुलिस बल द्वारा धक्का-मुक्की के बीच रोक दिया गया. तदोपरान्त वरिष्ठ नेताओं के द्वारा शासन को ज्ञापन सौंपा गया.

प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता आर.ए. प्रसाद ने बताया कि इस मौके पर दिल्ली प्रदेश कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष एवं एआईसीसी के यूपी के कोआर्डिनेटर जे.पी. अग्रवाल पूर्व सांसद ने कहा कि पूंजीपतियों की दलाली करने वाले मोदी ने पहले नोटबन्दी फिर अब भूमि अधिग्रहण करके जमीनों को भी पूंजीपतियों को देने जैसे कार्य करने में लगे हुए हैं. आज हमारे देश का प्रधानमंत्री जनता का धन लूटकर पूंजीपतियों में बांट रहा है यह बड़ा ही दुर्भाग्यपूर्ण है. उन्होने कहा कि जिस प्रकार आरबीआई के गवर्नर ने केन्द्र सरकार के इशारे पर जनविरोधी कृत्य किया है उसके विरोध में आज देश के आरबीआई की 33 शाखाओं पर कांग्रेस पार्टी घेराव कर रही है. मोदी सरकार ने आरबीआई की स्वायत्ता को खत्म करने का काम किया है. कांग्रेस पार्टी हर स्तर पर मोदी सरकार की इन जनविरोधी नीतियों का डटकर विरोध करेगी.

इस मौके पर एकत्र जनसमुदाय को सम्बोधित करते हुए पूर्व केन्द्रीय मंत्री शकील अहमद ने कहा कि विगत लोकसभा चुनाव में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देश की जनता से कहा था कि जो कालाधन विदेश में है उसे हम भारत वापस लायेंगे और देश के प्रति व्यक्ति के खाते में 15-15लाख रूपये जमा करायेंगे किन्तु किसी के खाते में एक रूपया भी जमा नहीं हुआ, उल्टे जब सत्ता में आये तो देश की गरीब जनता का ही धन निकलवाने का काम किया है. उन्होने कहा कि आरबीआई का आंकड़ा है कि 35 प्रतिशत बेरोजगारी नोटबन्दी के चलते बढ़ी है आगे 60प्रतिशत बढ़ जोयगी. मोदी सरकार ने 2 करोड़ प्रतिवर्ष नौकरी देने का जो वादा किया था उसमें वह पूरी तरह विफल रहे हैं.

उ.प्र. कांग्रेस समन्वय समिति के चेयरमैन एवं सांसद प्रमोद तिवारी ने कहा कि किस कानून के तहत जनता का पैसा रोका गया है इसका मोदी जी के पास कोई जवाब नहीं है. नोटबन्दी पर प्रधानमंत्री ने 50 दिन मांगे थे और अब 70 दिन बीत चुके हैं उन्हें वह चौराहा बताना चाहिए जिस पर उन्हें जनता सजा दे सके. उन्होने कहा कि हिटलर, मुसोलिनी और गद्दाफी तीन तानाशाह हुए थे और चौथा हमारे देश का प्रधानमंत्री है जो पूंजीपतियों की नौकरी कर रहा है और तानाशाह बन बैठा है. श्री तिवारी ने कहा कि कांग्रेस पार्टी मोदी की तानाशाही को कभी भी बर्दाश्त नहीं करेगी.

इस मौके पर चुनाव प्रचार अभियान समिति के चेयरमैन एवं सांसद डॉ. संजय सिंह ने मोदी सरकार को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि सत्तर सालों के आजाद हिन्दुस्तान में आरबीआई ने एक लाइन तय की है जिसके तहत रूपये का लेनदेन होता आ रहा है. किन्तु मोदी सरकार की अलग ही लाइन है. मोदी ने आरबीआई जैसी स्वायत्तशासी संस्था को खत्म करने का काम किया है. आज देश की जनता नोटबन्दी से त्रस्त है. बिना किसी तैयारी के की गयी नोटबन्दी से भारत में अर्थव्यवस्था तहस-नहस हो गयी है, लाइनों में लगे सैंकड़ों लोगों की असमय मृत्यु हो गयी है, जिसकी पूरी जिम्मेदारी मोदी सरकार की है. इसका बदला जनता इनसे जरूर लेगी.

प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता आर.ए. प्रसाद ने बताया कि आरबीआई के घेराव कार्यक्रम में मुख्य रूप से पूर्व मंत्री रामकृष्ण द्विवेदी, सत्यदेव त्रिपाठी, विधायक श्रीमती अराधना मिश्रा'मोना', पूर्व विधायक ईश्वरचन्द्र शुक्ला, पूर्व विधायक फजले मसूद, पूर्व विधायक श्यामकिशोर शुक्ला, विजय प्रकाश पूर्व विधायक, महामंत्री हनुमान त्रिपाठी, प्रमोद सिंह एवं डॉ. आर.पी. त्रिपाठी, वीरेन्द्र मदान, द्विजेन्द्र त्रिपाठी, सुबोध श्रीवास्तव, मारूफ खान, डॉ. लालती देवी, अमरनाथ अग्रवाल, विनोद मिश्रा, कै. एस.जे.एस. मक्कड़, रमेश श्रीवास्तव, सम्पूर्णानन्द मिश्र, रमेश मिश्रा, शिव प्रसाद सुदर्शन, अरशी रजा, यूनुस सिद्दीकी, अशोक कुमार, पार्षद प्रदीप कनौजिया एवं मुकेश सिंह चौहान, श्रीमती सुशीला सोनकर, श्रीमती सरलेस रावत, श्रीमती सुधा सिंह, श्रीमती सिद्धिश्री, श्रीमती आरती बाजपेयी, श्रीमती नूतन बाजपेयी, वीरेन्द्र प्रताप पाण्डेय, चन्द्रशेखर सिंह, राघवेन्द्र सिंह राकेश, बृजेन्द्र कुमार सिंह, पंकज तिवारी, आसिफ रिजवी, वीर प्रताप सिंह, आशुतोष मिश्रा, शकील फारूकी, हरिओम कठेरिया, अयाज खान अच्छू, प्रशान्त सिंह, परवीन खान, सुश्री साबरा खातून, शशिभूषण, विजय बहादुर, संगमलाल शिल्पकार, सन्तोष श्रीवास्तव, रामगोपाल सिंह, डॉ. शहजाद आलम, माता प्रसाद नेता, राहुल शुक्ला, मेंहदी हसन, वीशम सिंह, कमल तिवारी, अयूब सिद्दीकी, रातुल हर्ष, विकास शर्मा आदि सहित सैंकड़ों की संख्या में वरिष्ठ नेतागण एवं कार्यकर्ता मौजूद रहे.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Top