इलाहाबाद में BSP नेता की गोली मार कर हत्‍या, बीजेपी नेता पर केस दर्ज

 2017-03-20 03:19:12.0

इलाहाबाद में BSP नेता की गोली मार कर हत्‍या, बीजेपी नेता पर केस दर्ज

तहलका न्‍यूज ब्‍यूरो
इलाहाबाद: यूपी के इलाहाबाद में बदमाशों ने रविवार रात बीएसपी नेता और पूर्व ब्लॉक प्रमुख मो़ शमी (60) की गोली मारकर हत्या कर दी। घटना मऊआइमा कस्बे की है। बदमाशों ने दफ्तर परिसर में घुसकर वारदात को अंजाम दिया। मऊआइमा ब्लॉक के दुबाही गांव निवासी मो़ शमी पांच बार से लगातार ब्लॉक प्रमुख रहे। पिछली बार चुनाव में उन्हें सफलता नहीं मिली।

इस घटना के बाद मृतक के घरवालों ने भाजपा नेता और मौजूदा ब्लॉक प्रमुख समेत चार लोगों के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज करवाया है। परिजनों का आरोप है कि प्रधानी के चुनाव की रंजिश के चलते भाजपा नेता ने साथियों संग मिलकर इस घटना को अंजाम दिया है।

हमले के बाद बदमाश फरार हो गए। वारदात से नाराज समर्थकों ने इलाहाबाद-प्रतापगढ़ रोड जाम कर दिया। सूचना पर पहुंची पुलिस ने जांच-पड़ताल के बाद शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया है। परिवार के लोगों से मिली सूचना के आधार पर पुलिस ने बदमाशों की धरपकड़ के प्रयास तेज कर दिए हैं।

बताया जा रहा है कि रविवार रात पूर्व ब्लॉक प्रमुख शमी अपने दोस्तों के साथ ढाबे पर खाना खाने गए थे। खाने के बाद शमी अपने दफ्तर में चले गए। इसके बाद जब वह अपनी कार की तरफ बढ़े तो बदमाशों ने उन पर गोलियां बरसा दीं। गोली लगते ही शमी गिर गए और बदमाश वहां से फरार हो गए।

मोहम्मद शमी इलाके के बड़े नेता हैं। वह तीन बार मऊआइमा के ब्लॉक प्रमुख रह चुके हैं। इस मामले में शमी के परिवार ने मऊआइमा के ब्लॉक प्रमुख सुधीर मौर्या समेत कई लोगों के खिलाफ तहरीर दी है।

शमी पहले कांग्रेस, फिर सपा में रहे, लेकिन विधानसभा चुनावों से ठीक पहले उन्होंने सपा छोड़कर बीएसपी जॉइन कर ली थी। उन्हें सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव का करीबी माना जाता रहा है। यही नहीं, कांग्रेस में रहने के दौरान शमी पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के भी करीबी रहे। यही कारण था कि, उन्हें कांग्रेस से विधानसभा चुनाव लड़ने का मौका भी मिला लेकिन वह हार गए थे। हालांकि वह लगातार पांच बार मऊआइमा के ब्लॉक प्रमुख रहे।

पुलिस के मुताबिक, शमी पर लूट और डकैती जैसे कई मामले दर्ज हैं। उनकी कई लोगों से रंजिश भी रही है। इसलिए अभी यह कहना जल्दबाजी होगी कि हत्याकांड को किसने अंजाम दिया। परिवार के लोगों से पूछताछ के आधार पर पुलिस हत्या के कारणों की पड़ताल कर रही है। बता दें कि उन्हें राष्ट्रपति से बेस्ट ब्लॉक प्रमुख का पुरस्कार भी मिला। शमी का बेटा इम्तियाज अहमद अब भी दुबाही का ग्राम प्रधान है।

Tags:    
loading...
loading...

  Similar Posts

Share it
Top