Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

भाभा रिसर्च सेंटर की महिला वैज्ञानिक ने परिजनों को भेजा सुसाईट ई-मेल

 Ashwin Pratap |  2017-01-25 06:53:48.0

भाभा रिसर्च सेंटर की महिला वैज्ञानिक ने परिजनों को भेजा सुसाईट ई-मेल

तहलका न्यूज़ ब्यूरो

कुशीनगर. भारत देश का प्रतिष्ठित संस्थान भाभा रिसर्च सेंटर मुम्बई भी अब सवालों के घेरे में आने लगा है. इसका खुलासा इस संस्थान में साइंटिफिक आफिसर के पद पर तैनात महिला वैज्ञानिक बबिता सिंह के एक ईमेल से हुआ है. परिजनों को भेजे गए ई-मेल में साइंटिफिक आफिसर बबिता सिंह ने अपने सीनियर अफसर की प्रताड़ना से तंग आकर ख़ुदकुशी करने की बात कही है.

हॉस्टल में लगे सीसीटीवी कैमरे में बबिता की अंतिम तस्वीर 23 जनवरी को दिन में 1 बजकर 4 मिनट पर आयी है. इसके बाद से ही बबिता भाभा इंस्टिट्यूट से लापता है. यहां तक कि बबिता ने अपना मोबाइल भी कमरे में रखने के बाद कमरे को लॉक करके चाभी वार्डेन को दे दिया है. साइंटिफिक आफिसर बबिता सिंह का ई-मेल मिलने के बाद परिजनों का रो-रो कर बुरा हाल है.

परिजन अपने होनहार बेटी के साथ कोई अनहोनी की आशंका से परेशान हैं. कुशीनगर जनपद के कुबेरस्थान थाना क्षेत्र के खन्हवार गांव के साधारण किसान विजय बहादुर सिंह की तीन संतानों में सबसे छोटी बेटी बबिता प्रतिभा की धनी निकली. बबिता को पढ़ाने के लिए परिजनों ने भी कोई कोर-कसर नहीं छोड़ा. हाई स्कूल से लेकर मास्टर डिग्री तक बबिता ने हमेशा स्कूल टॉप किया है.

बबिता की मेहनत और परिजनों के विश्वास का ही नतीजा रहा कि उसका चयन मुम्बई स्थित भाभा रिसर्च इंस्टीट्यूट में हो गया था.जहां वह लो-लेवल रेडिएशन रिसर्च सेक्शन के रेडिएशन बायोलॉजी एण्ड हेल्थ साइंस डिवीजन में साइंटिफिक आफिसर के पद पर कार्यरत है.

बबिता पिछले कुछ दिनों से अपने सीनियर आफिसरों से परेशान चल रही थी. यह बात उसने अपने मां और भाई से शेयर भी किया था लेकिन परिवार में अपने विकलांग भाई और किसान पिता से बबिता अपनी परेशानी खुल कर नहीं कह पा रही थी.

बबिता के विकलांग भाई विकास की माने तो बबिता ने 15 जनवरी को ही सीनियर द्वारा परेशान करने और सुसाइट करने वाला मेल भेज दिया था लेकिन उसे 23 तो शाम तीन बजे भेजा उसके बाद से ही बबिता का कोई पता नहीं है.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top