Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

जनता की अपक्षाओं से बना जन घोषणा पत्र

 shabahat |  2017-01-13 13:44:53.0

जनता की अपक्षाओं से बना जन घोषणा पत्र



लखनऊ. उत्तर प्रदेश विधान सभा चुनाव-2017 को देखते हुए, पैरवी-नई दिल्ली और अन्य सामाजिक संस्थाओं विजन, रिदम, सिकोइडिकोन व बियोण्ड कोपेनहेगन द्वारा लखनऊ में "जनता की सरकार-जनता के मुद्दे" विषय पर एक राज्य स्तरीय संवाद का आयोजन किया गया.

इस चर्चा में सभी प्रमुख राजनीतिक दलों के प्रतिनिधि, स्वैच्छिक संस्थाओं के प्रतिनिधि और शिक्षाविद शामिल हुए. कार्यशाला में राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों ने अपनी पार्टी के चुनावी घोषणा पत्र की प्रमुख बातों पर प्रकाश डाला.

चर्चा में कांग्रेस के पी.एल. पुनिया व सुरेन्द्र राजपूत, सपा के के.सी. जैन, भाजपा के दिलीप श्रीवास्तव, रालोद के अनिल दुबे ने हिस्सा लिया और समाज की मुख्य चिन्ताओं पर अपने विचार रखे. दलित मुद्दों पर एस.आर. दारापुरी, कृषि पर डॉ. कृष्णा गांधी, भूमि अधिकार पर अजय शर्मा, पर्यावरण व जलवायु पर अजय झा, युवाओं की स्थिति पर शिशिर चन्द्रा, शिक्षा पर रमाकान्त राय, महिला मुद्दों पर संगीता शर्मा, बाल अधिकारों के मुद्दे पर डॉ. जितेन्द्र चतुर्वेदी ने मुद्दों की जमीनी सच्चाई से जुड़े मुद्दों पर अपनी चिन्ताएं और जन घोषणा पत्र से अपनी अपेक्षाएं ज़ाहिर कीं.

मीडिया सरोकारों के सत्र में रामदत्त त्रिपाठी, सिद्धार्थ कलहन्स,डॉ. योगेश बन्धु, और उत्कर्ष सिन्हा ने अपने विचार रखे.

पैरवी-नई दिल्ली के दीनबन्धु वत्स और निरमा बोरा ने सत्रों का संचालन किया. इस कार्यशाला में सभी प्रतिभागियों का मत था था कि हर वर्ग की उचित अपेक्षाओं का जन घोषणा पत्र में समावेश हो. खासकर युवाओं के लिये रोजगार, गरीबों के लिये सामाजिक सुरक्षा व जीवन यापन की सुविधाएं, किसानों को जमीन और उत्पादन का उचित मूल्य, महिलाओं व बच्चों को उचित व गुणवत्तापरक शिक्षा व स्वास्थ्य की सुविधाएं, हिंसा से सुरक्षा और भ्रष्टाचार मुक्त सरकार व शासन व्यवस्था मिले.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Top