Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

गोमती तट पर बही भजनों की रसधार

 shabahat |  2017-01-13 16:55:54.0

गोमती तट पर बही भजनों की रसधार


तहलका न्यूज़ ब्यूरो

लखनऊ। आज आदि गंगा गोमती के तट मनकामेश्वर उपवन पर निराली छटा नज़र आयी. यहाँ पर जाने-माने भजन गायक लखवीर सिंह 'लक्खा' ने गीतों का रसपान कराने के साथ माँ गोमती की महा आरती की अनुपम छटा के भी दर्शन कराये. इससे पहले दोपहर में आयोजन स्थल पर वीरांगना जीजाबाई व युवाओं के प्रेरणास्रोत स्वामी विवेकानन्द की जयन्ती धूमधाम से मनाई गयी.

आज यहाँ रेड ब्रिगेड टीम द्वारा जीजाबाई पर एक नाटक का मंचन किया गया. वहीं दूसरी ओर मनकामेश्वर संस्कार शाला के बच्चों द्वारा डॉ. मंजू शुक्ला और सहयोगियों द्वारा ताईक्वाण्डों का प्रदर्शन हुआ.


इस आयोजन के तहत महन्त देव्यागिरि ने जनमानस को संदेश देते हुये कहा कि वीरांगना जीजाबाई जिन्हें राजमाता भी कहा जाता है. उन्होंने अपने पति शाहजी भोसले द्वारा उपेक्षित किये जाने के बाद भी अपने पुत्र वीर शिवाजी के संरक्षिका बनकर उन्हें स्वराज्य हासिल करने प्रेरणा दी जो अतुलनीय है. वीरांगना जीजाबाई की ही देन है कि हमें शिवाजी जैसी प्रतिभा मिली. उन्होंने कहा कि हमें उन्हें हमेशा याद रखना चाहिए और उनसे प्रेरणा लेनी चाहिए.
स्वामी विवेकानन्द के सम्बन्ध में उन्होंने कहा कि वे वेदांत के विश्वविख्यात और अत्यन्त प्रतिभाशाली आध्यात्मिक गुरु थे.

उनका नाम आते ही जन-जन में श्रद्धा और स्फूर्ति का संचार होने लगता है, क्योंकि उनके द्वारा भारत का नैतिक मूल्य विश्व के कोने-कोने में पहुंचा और इन मूल्यों के कारण ही जीवन को एक नई दिशा मिली. उनका यह कहना कि 'उठो जागो और तब तक रुको नहीं जब तक लक्ष्य को प्राप्त न कर लो' और साथ ही अनुभव को सर्वश्रेष्ठ शिक्षक बताते हुये कहा कि 'हमें जब तक जीवन है तब तक सीखना चाहिए'. इसलिये हमें चाहिए कि हम अपने युवाओं को उनके साहित्य को पढ़ने के लिये प्रोत्साहित करें, ताकि हमारी पीढ़ी उससे प्रेरणा लेकर देश व समाज की सेवा अच्छी तरह से कर सके.

माँ गोमती की आरती से पूर्व नमोस्तुते माँ गोमती की ओर से महन्त द्वारा स्वर सम्राट लखवीर सिंह 'लक्खा' को सम्मानित करते हुये उनके द्वारा आदि गंगा माँ गोमती के जल संरक्षण एवं नदियों की शुचिता स्थापित करने में जो अपना योगदान दिया है उसके लिये लखनऊ वासियों की ओर से आभार व्यक्त करते हुये कहा कि जो भी व्यक्ति नदियों व पर्यावरण के प्रति गम्भीर है और अपना योगदान देता है उसे प्रकृति का भरपूर आशीर्वाद मिलता है.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top