Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

मथुरा काण्ड के लिए यूपी और केन्द्र की सरकार बराबर की ज़िम्मेदार : मायावती

 Sabahat Vijeta |  2016-06-06 10:40:54.0

mayavatiतहलका न्यूज़ ब्यूरो


लखनऊ. बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष, सांसद और उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने मथुरा के जवाहरबाग़ खूनी काण्ड के सम्बन्ध में भाजपा की नाटकबाज़ी, केन्द्र सरकार की निष्क्रियता और राज्यपाल राम नाइक की चुप्पी की तीखी आलोचना की है. मायावती ने कहा कि मथुरा हिंसक काण्ड के लिये प्रदेश की सपा सरकार के साथ-साथ भाजपा व केन्द्र की सरकार भी बराबर की ज़िम्मेदार है.


मायावती ने आज यहाँ जारी एक बयान में कहा कि मथुरा हिंसक काण्ड के सम्बन्ध में प्रदेश भाजपा के लोग लगातार किस्म-किस्म की नाटकबाजी कर रहे हैं, जबकि केन्द्रीय मंत्रीगण केवल कोरी बयानबाज़ी कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि सपा सरकार में क़ानून व्यवस्था ध्वस्त हो चुकी है और इससे लोग दहशत में हैं.


उन्होंने कहा कि मथुरा काण्ड पर राज्यपाल भी ख़ामोश बने हुये हैं. इस प्रकार केन्द्र की कोरी बयानबाजी व निष्क्रियता से भी लोगों में काफी बेचैनी है और यह सवाल उठ रहा है कि केन्द्र सरकार की व्यापक जनहित में कोरी बयानबाजी से ज़्यादा कुछ भी जि़म्मेदारी नहीं बनती है?


मायावती ने कहा कि केन्द्र सरकार की निष्क्रियता और लापरवाही के सम्बन्ध में भी लोग सवाल उठा रहे हैं कि मथुरा की धार्मिक नगरी में, जहाँ तीर्थयात्रियों की हमेशा बड़ी भीड़ देश भर से आती-जाती रहती है, वहां केन्द्र सरकार की अपनी खुफिया एजेन्सी क्या कर रही थी?


मथुरा हिंसक काण्ड के सम्बन्ध में वैसे तो यह सर्वविदित ही है कि वहाँ सरकारी सम्पत्ति पर अवैध धरना व कब्जा करने वालों को हर प्रकार का सरकारी संरक्षण प्राप्त था, वरना वहाँ होने वाली अवैध गतिविधियों के खिलाफ प्रदेश की सपा सरकार क़रीब दो वर्ष से ज़्यादा समय तक खामोश क्यों बैठती?


उन्होंने कहा कि इसमें केन्द्र सरकार की भी यह लापरवाही ही मानी जायेगी जो उसने अपनी खुफिया जानकारी लेकर राज्य सरकार को सचेत नहीं किया और आगे की कोई उचित कार्रवाई नहीं की? परन्तु अब इतना भीषण खूनी संघर्ष हो जाने और दो पुलिस अधिकारियों के शहीद होने के साथ-साथ क़रीब 30 लोगों की जान चली जाने पर, केन्द्रीय मंत्रीगण कोरी बयानबाज़ी कर रहे हैं और भाजपा केन्द्र में अपनी पार्टी की सरकार की लापरवाही पर से पर्दा डालने के लिये ही किस्म-किस्म की नाटकबाज़ी कर रही है.


मथुरा काण्ड पर मायावती ने कहा कि वास्तव में केन्द्र की सरकार ने अपने स्तर से कुछ भी कार्रवाई नहीं की. इससे मथुरा का यह मामला लोगों की निगाह में और भी ज़्यादा संगीन व लीपापोती का नज़र आने लगा है. केन्द्रीय गृह मंत्री के अनुसार अगर उत्तर प्रदेश में, जहाँ से भाजपा के 71 सांसद व प्रधानमंत्री और गृहमंत्री स्वयं चुनकर गये हैं, लोग अगर दहशत में हैं तो यह केन्द्र सरकार की ख़ास जि़म्मेदारी बनती है कि वह प्रदेश की सपा सरकार के खि़लाफ संविधान व क़ानून के प्रावधान के अनुसार उचित कार्रवाई करे.


मायावती ने सवाल उठाया कि उत्तर प्रदेश की ध्वस्त क़ानून-व्यवस्था व लोगों के दहशत में होने के कारण क्या केन्द्र सरकार राज्यपाल से रिपोर्ट नहीं माँग सकती थी औ र फिर आगे कोई ‘‘एडवाइज़री‘‘ क्या नहीं भेज सकती थी? उन्होंने कहा कि जहाँ तक मथुरा हिंसक काण्ड का मामला है तो इसकी गम्भीरता को देखते हुये केन्द्र सरकार की सी.बी.आई. जाँच के लिये पहल करनी चाहिए. उन्होंने कहा कि पश्चिम बंगाल के मामले में केन्द्र की भाजपा सरकार अगर आगे बढ़कर पहल कर सकती है तो उत्तर प्रदेश मामले में उसकी खामोशी यह बताती है कि भाजपा- सपा दोनों विधानसभा चुनाव के मद्देनज़र काम कर रही हैं और भीतर ही भीतर दोनों बसपा के खिलाफ आपस में मिली हुई हैं.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Top