Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

पुलिस के समानान्तर पुलिस है यूपी-100

 Sabahat Vijeta |  2016-11-19 11:53:01.0

up-100-2

तहलका न्यूज़ ब्यूरो


लखनऊ. मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने आज यूपी-100 सुविधा शुरू कर दी. कानून व्यवस्था को लेकर विपक्ष के लगातार निशाने पर रहने वाली अखिलेश सरकार यूपी-100 के ज़रिये न सिर्फ विपक्ष का मुंह बंद करने में कामयाब होगी बल्कि दूसरे प्रदेशों के सामने उदाहरण भी पेश करेगी.


up-100-3


यूपी-100 वास्तव में पुलिस के समानान्तर पुलिस व्यवस्था है. यह व्यवस्था कानून को दुरुस्त करने के लिये है. अपराधियों के हौसले ध्वस्त करने के लिये है लेकिन इसका इस्तेमाल वीवीआईपी सुरक्षा में नहीं किया जा सकेगा. इसे किसी मंत्री की फ्लीट का हिस्सा नहीं बनाया जा सकेगा.


up-100


यूपी-100 को लांच करने के बाद अखिलेश यादव ने खुद यह कहा कि हमारे विकास कार्यों पर कभी ऊँगली नहीं उठी लेकिन कानून व्यवस्था को लेकर विपक्ष अक्सर सवाल उठाता रहा है. आज से यूपी-100 इस सवाल को भी खत्म कर देगा. उन्होंने कहा कि मैंने खुद एक बार 100 नंबर डायल किया था. नंबर उठा ही नहीं. मैंने जांच कराई तो पता चला कि भुगतान नहीं होने पर यह नंबर नहीं उठता है. उसी दिन मेरे मन में पहली बार यूपी-100 व्यवस्था का ख्याल आया था.


मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि वेंकट छंगावल्ली से मुलाक़ात हुई तो लगा कि यह सपना पूरा हो जाएगा. वह 12 प्रदेशों की पुलिस व्यवस्था को दुरुस्त कर चुके थे. उन्होंने ब्ल्यू प्रिंट तैयार किया और 22 महीने में योजना साकार हो गई. मुख्यमंत्री ने आज इसे विधिवत शुरू कर दिया. मुख्यमंत्री ने 1302 भवनों का उदघाटन भी किया.


यूपी-100 के सपने को साकार करने वाले वेंकट छंगावल्ली ने बताया कि साउथ से जब इस योजना पर काम करने यूपी आया तो बिहार और झारखंड से फोन आये कि यूपी में आपका ब्रांड खराब हो जायेगा. मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के भीतर की ऊर्जा देखने के बाद तय किया कि काम किया जायेगा. आज 22 महीने की मेहनत साकार हो गई है. आज यहाँ से बिहार और झारखण्ड के मित्रों से कहना चाहता हूँ कि हमारा ब्रांड और भी बड़ा हो गया है.


up-100-4


वेंकट छंगावल्ली ने कहा कि मैं 20 मुख्यमंत्रियों को जानता हूँ. इनमें अखिलेश को सर्वश्रेष्ठ पाता हूँ. 8 हेक्टेयर क्षेत्र में यूपी-100 का कार्यक्षेत्र तैयार किया गया है. एल एंड टी ने राजकीय निर्माण निगम के सहयोग से इसे तैयार किया है. उन्होंने कहा कि मैंने सीएम से साफ़ कर दिया था कि मुझे पैसा नहीं आजादी चाहिए है. मुझे आज़ादी मिली और मैंने मन से काम किया. उन्होंने बताया कि कई देशों का अध्ययन करने के बाद इसे तैयार किया गया है लेकिन यह किसी की कापी नहीं है.


up-100-5


यूपी-100 कार्यक्रम में विधानसभा अध्यक्ष माता प्रसाद पाण्डेय, मुख्य सचिव राहुल भटनागर, मुख्यमंत्री के सलाहकार आलोक रंजन, प्रमुख सचिव गृह देबाशीष पंडा, पुलिस महानिदेशक जावीद अहमद और अपर पुलिस महानिदेशक अनिल अग्रवाल ने भी कार्यक्रम में अपने विचार व्यक्त किये. कार्यक्रम में मंत्री रविदास मेहरोत्रा, पंडित सिंह, रियाज़ अहमद, उद्योग व्यापार मंडल के अध्यक्ष संदीप बंसल भी मौजूद थे.


यूपी-100 की ख़ास बातें




1- यूपी-100 का नेटवर्क पूरी तरह इंटरनेट और रोड मैपिंग पर बेस्डा रहेगा.
2- शहर में लगे सीसीटीवी कैमरे के कंट्रोल रूम बाइ एयर ऑनलाइन रहेंगे.
3- पूरे शहर को स्क्रीन के जरिए देखा जा सकेगा.
4- जहां घटना होगी, वहां का लैंडमार्क और मैपिंग सैटेलाइट के जरिए लोकेट की जाएगी.
5- पीड़ित व्यक्ति के कॉल करते वहां की लोकेशन तत्काल ली जाएगी.


6- पीड़ित डायल 100 पर कॉल करेगा और उसके सबसे पास के कैमरे और लोकेशन को ट्रेस किया जाएगा.
7- कंट्रोल रूम सबसे पास में मौजूद डायल 100 की वैन में तैनात पुलिसकर्मियों को वायरलेस सेट पर सूचना देगा.
8- निश्चित टाइम पर पुलिस पीड़ित के पास मौके पर पहुंचेगी.
9- पुलिस टीम पीड़ित को तुरंत राहत या सर्विस उपलब्ध कराएगी.
10- डायल 100 की टीम लोकल थाने की पुलिस को घटना की जानकारी देगी.
11- डायल 100 के कंट्रोल रूम से पीड़ित के पास फीडबैक कॉल भी आएगी.
12- उसके संतुष्ट होने के बाद कॉल पूरी मानी जाएगी, वरना पूरा प्रॉसेज दोबारा किया जाएगा.


Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top