Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

12 सांसदों ने 1500 रेलवे पैसेंजर्स को इधर से उधर नचाया

 Tahlka News |  2016-05-17 10:05:09.0

[caption id="attachment_80349" align="aligncenter" width="960"]convention committee फाइल फोटो: रेलवे स्टेशन पर पैसेंजर्स की भीड़[/caption]

तहलका न्यूज़ ब्यूरो

लखनऊ. पीएम मोदी एक तरफ संसदीय गरिमा को बचाने के लिए सांसदों की सैलरी का बिल रोक देते हैं तो वहीं नेता अपनी फितरत से बाज नहीं आते। मौक़ा मिलते ही जनता के चुने प्रतिनिधि जनता के लिए ही मुश्किलें पैदा कर देते हैं। ऐसा ही कुछ नजारा देखने को मिला सोमवार रात लखनऊ के चारबाग स्टेशन पर। नेताओं की जिद के चलते दो-दो ट्रेनों के पैसन्जर्स को मुसीबतों का सामना करना पड़ा। महज 12 सांसदों के चलते चारबाग स्टेशन पर 1500 पैसेंजर्स परेशान हुए। यही नहीं ठहरने के सरकारी इंतजाम को छोड़कर ये सांसद टैक्सपेयर्स के पैसे से महंगे होटल में भी रुके।


चंद सांसदों के चलते परेशान रहे

सांसदों के चलते चारबाग स्टेशन पर मची इस अफरातफरी के चलते लखनऊ मेल को वाशिंग लाइन में ही खड़ा रखा गया।  सांसदों को छोड़कर जब श्रमजीवी 9:45 बजे नई दिल्ली की ओर रवाना हुई, तब कहीं जाकर रात 10 बजे लखनऊ मेल को प्लेटफार्म एक पर लाया गया। इधर लखनऊ मेल के से नई दिल्ली की ओर जाने वाले पैसेंजर्स भीषण गर्मी में बेहाल होकर प्लेटफार्म पर ही इंतजार करते रहे। महज चंद सांसदों के चलते लगभग 1500 से अधिक पैसेंजर्स के एक साथ प्लेटफार्म पर पहुंचने के कारण चारों तरफ अफरातफरी मची रही।

निकले हैं पैसेंजर्स फैसिलिटी बेहतर करने

विडंबना यह कि पैसेंजर्स सर्विसेज को सुधारने के लिए रेलवे कन्वेन्शन कमेटी में शामिल मेम्बर ऑफ़ पार्लियामेंट को चारबाग स्टेशन की सीढ़ियां चढ़ने और अंडरपास से जाने पर ऐतराज था। माननीयों की इच्छा हो तो भला रेलवे के ऑफिसर्स उसे भला कैसे टाल सकते थे। श्रमजीवी एक्सप्रेस का प्लेटफार्म ही बदल दिया गया।

डिले हुई लखनऊ मेल भी

प्लेटफार्म चेंज करने का डिसीजन भी ऐसे समय लिया गया, जब प्लेटफार्म नंबर एक से लखनऊ मेल को रवाना होना था। प्लेटफार्म चेंज के चलते लखनऊ मेल के पैसेंजर्स को भी सांसदों की मनमानी की कीमत परेशानी उठाकर चुकानी पड़ी। आम तौर पर 9:30 पर प्लेटफार्म नंबर पर एक पर लग जाने वाली लखनऊ मेल को रात 10 बजे लखनऊ मेल को प्लेटफार्म पर जगह मिली और उसे महज 15 मिनट बाद ही रवाना कर दिया गया।

एक घंटा डिले हुई श्रमजीवी एक्सप्रेस

कन्वेंशन कमेटी की टीम सोमवार की दोपहर वाराणसी  से 12391 श्रमजीवी एक्सप्रेस से लखनऊ के लिए रवाना हुई थी। श्रमजीवी एक्सप्रेस का लखनऊ पहुँचने का समय रात 8:25 बजे है लेकिन ट्रेन लगभग एक घंटे से ज्यादा देरी के बाद रात 9:30 बजे लखनऊ पहुंची। श्रमजीवी का नियत प्लेटफार्म चार नंबर है, सांसदों के चलते लेकिन उसे प्लेटफार्म एक पर लाया गया।

आरडीएसओ में इंतजाम होने के बाद भी महंगे होटल में रुके

रेलवे की कनवेंशन कमेटी में 12 सांसद हैं जो वाराणसी और लखनऊ के दौरे पर निकले हैं। कमेटी की बैठक मंगलवार को आरडीएसओ मे होनी है, इसके लिए ही सांसदों का लखनऊ दौरा हो रहा है। लखनऊ में कई रेलवे के गेस्ट हाउस होने के बावजूद कमेटी के सदस्यों के लिए शहर के एक महंगे होटल में ठहरने की व्यवस्था की गई। जहां करीब एक लाख रुपये का बजट हर एक मेम्बर के लिए रखा गया है।

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Top