Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

समाज से अलग नहीं है ट्रांसजेंडर

 Sabahat Vijeta |  2016-12-10 14:31:15.0

transjender

लखनऊ. राजधानी में ट्रांसजेडर और किन्नर समुदाय को उनके अधिकारों और उनको समाज में बराबरी का दर्जा दिये जाने को लेकर एक जागरूकता कार्यशाला का आयोजन गोमतीनगर में किया गया. वालेन्टरी हेल्थ सर्विसेज के दीवा प्रोजेक्ट की सहायता से रिदम फाउण्डेशन ने इस कार्यक्रम का आयोजन किया. सेंसटाइजेशन आफ टांसजेंडर विद लायर्स आन इश्यू इपफेक्टिंग टांसजेंडर एण्ड किन्नर रिगार्डिंग एचआईवी एण्ड ह्रयूमन राइट्स विषय पर आयोजित उपरोक्त कार्यशाला में टांसजेंडर समुदाय के लोग और सहयोगीजन शामिल हुए. कार्यशाला को संबोधित करते हुए संजय सिंह ने कहा कि अब टांसजेंडर किन्नर समुदाय समाज से अलग नहीं है बल्कि देश के अन्य सामान्य नागरिकों की तरह ही इस समुदाय के लोगों को बराबरी का हक एवं अधिकार है.


कार्यशाला के दूसरे स़त्र में उपस्थित समुदाय के लोगों को सम्बोधित करते हुए एडवोकेट अजय श्रीवास्तव ने कहा कि किन्नर समुदाय को लेकर सुप्रीम कोर्ट के द्वारा तीसरे जेंडर के रूप में मान्यता मिलने के बाद अब इस समुदाय के पास कानूनी मजबूती भी हो गयी है अतः किसी भी विपरीत परिस्थिति या सुविधाओं आदि के न मिलने की दशा में वह कानूनी सहायता प्राप्त कर अपना हक ले सकते हैं. इस कार्यशाला के समापन अवसर पर अपने उद्बोधन में सामाजिक कार्यकर्ता अश्वनी कुमार रंजन ने सभी आगन्तुकों को धन्यवाद ज्ञापित करते हुए कहा कि वह प्रदेश में टांसजेंडर और किन्नर समुदाय के हितों और उनके अधिकारों को लेकर एक बडे कार्यक्रम की शुरूआत करने की योजना बना रहें हैं ताकि समुदाय के लोगों को सभी सुविधाएं आसानी से दिलाने में मदद मिल सके.


इस अवसर पर ट्रांसजेंडर समुदाय की करिश्मा, करन उर्फ सब्बो, सविता ,रूकसार, पूजा, गोविन्दा उर्फ करीना, बब्बी उर्फ़ आरती, मारिया, पूनम, मनीषा, काजल, पिंकी,नाजिया, नन्दनी, सीता, दिव्या, वन्दना, राधिका, रामदुलारी, अंजली और कविता आदि अन्य सहयोगी सदस्य उपस्थित रहीं.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Top