Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

‘मर चुका’ है ये बनारसी, अब सुषमा स्वराज को देगा किडनी!

 Anurag Tiwari |  2016-11-23 10:18:17.0

Varanasi, Nana Patekar, Santosh Murat Singh, Chaubepur, Chhitauni, Dalit , Marathi, Lover Marriage, Servant, Cook


तहलका न्यूज ब्यूरो

वाराणसी. केंद्रीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज की किडनी फेल हो चुकी है और वे इस समय एम्स में डायलिसिस पर हैं. उनके स्वस्थ होने के लिए एक किडनी की जरूरत है और यह किडनी देने के लिए एक बनारसी ने पेशकश की है. यह बनारसी आज से 13 पहले ही ‘मर’ चुका है.

सुषमा स्वराज को किडनी देने की पेशकश करने वाले वाराणसी के चौबेपुर थानाक्षेत्र के छितौनी गाँव के मूल निवासी संतोष सिंह मूरत हैं. संतोष सिंह सुषमा स्वराज को अपनी किडनी देकर बदले में अपने ज़िंदा होने का सबूत चाहते हैं.

संतोष सिंह खुद को जिंदा साबित करने के लिए बीते 13 साल से संघर्ष कर रहे हैं, इस मामले में वे उत्तर प्रदेश के सीएम अखिलेश यादव से मुलाकात भी कर चुके हैं . उन्होंने खुद को जिंदा साबित करने के लिए कई उपाय भी आजमाए हैं, यहां तक उन्होंने साल 2012 में राष्ट्रपति चुनाव के लिए पर्चा भी भरा ताकि उन्हें लोग जीवित मान लें.

यह भी पढ़ें: काशी की बिटिया की शादी के लिए पीएम मोदी ने डीएम को किया फोन


संतोष की विडम्बना है कि छितौनी गांव जहां के संतोष मूरत रहने वाले हैं, वहां के लोगों ने भी उनका साथ नहीं दिया है. मामला साल 2000 का है जब नाना पाटेकर उनके गांव में अपनी फिल्म सांच की शूटिंग के लिए आए थे. नाना संतोष से प्रभावित हुए और उन्हें अपने साथ ले गए. मुंबई पहुंच संतोष ने नाना के रोसिये के रूप में काम करना शुरू कर दिया.

यह भी पढ़ें: सुषमा स्वराज एम्स में भर्ती, किडनी हुई फेल


इस बीच संतोष के मुलाकात दलित मराठी युवती से, जिससे उन्हें प्रेम हो गया. कुछ दिन बाद इन दोनों ने शादी कर ली. इसके बाद जब वे अपनी पत्नी के साथ अपने गांव छितौनी पहुंचे तो हंगामा हो गया. दलित युवती से प्रेम-विवाह की बात सुनकर घर और गांव वाले नाराज हो गए और उन्होंने संतोष को मारपीट कर भगा दिया. इसके बाद संतोष के घर वालों ने उन्हें मुंबई ब्लास्ट में मरा दिखाकर, उनका अंतिम संस्कार भी कर दिया.

इसके बाद घरवालों ने उनक डेथ सर्टिफिकेट भी हसिल कर लिया. इसक बाद संतोष के हिस्से आने वाली 18 बीघे जमीन भी रिश्तेदारों ने हथिया ली. संतोष के मां-बाप का निधन हो चुका है और उनकी तीनों बहनों की शादी भी हो चुकी है.

अब संतोष पिछले चार साल से जंतर-मंतर पर धरना देकर अपने आपको जीवित साबित करने की मुहीम में लगे हैं. उनके इस संघर्ष में नाना पाटेकर का भी भरपूर सहयोग मिल रहा है. लेकिन नतीजा मन-माफिक नहीं मिला है. अब संतोष सुषमा स्वराज को किडनी डोनेट कर अपने आपको ज़िंदा साबित करना चाहते हैं.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Top