Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

लखनऊ के वैज्ञानिक की खोज बनी वर्ल्ड हेरिटेज का हिस्सा

 Sabahat Vijeta |  2016-07-24 17:58:48.0

CM-Akhilesh-Yadav




  • मुख्यमंत्री ने उ.प्र. के वैज्ञानिक डाॅ. एस.बी. मिश्र द्वारा खोजे गए न्यूफाउण्डलैण्ड के मिस्टेकेन प्वाइन्ट को यूनेस्को द्वारा वर्ल्ड हेरिटेज साइट घोषित करने पर बधाई दी

  • डाॅ. एस.बी. मिश्र ने प्रदेश व देश का नाम रोशन किया है, उत्तर प्रदेश को उनकी इस कामयाबी पर गर्व: मुख्यमंत्री

  • मिस्टेकेन प्वाइन्ट के सबसे पहले जीवाश्म की खोज डाॅ. एस.बी. मिश्र द्वारा अपने छात्र जीवन में की गई थी

  • इस खोज ने डार्विन की क्रमिक विकास के सिद्धान्त सम्बन्धी जिज्ञासाओं का समाधान किया


लखनऊ. मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने लखनऊ, उत्तर प्रदेश में रहने वाले भारतीय वैज्ञानिक डाॅ. एस.बी. मिश्र द्वारा खोजे गए (जीवाश्म) न्यूफाउण्डलैण्ड (कनाडा) के मिस्टेकेन प्वाइन्ट को यूनेस्को द्वारा वर्ल्ड हेरिटेज साइट घोषित किए जाने पर बधाई दी है। उन्होंने कहा कि डाॅ. एस.बी. मिश्र की इस सफलता ने प्रदेश व देश का नाम रोशन किया है और उत्तर प्रदेश को उनकी इस कामयाबी पर गर्व है।


यह जानकारी देते हुए राज्य सरकार के प्रवक्ता ने बताया कि रविवार (24 जुलाई, 2016) को इस्तानबुल में यूनेस्को द्वारा न्यूफाउण्डलैण्ड के मिस्टेकेन प्वाइन्ट को वर्ल्ड हेरिटेज साइट घोषित किया गया। इस मिस्टेकेन प्वाइन्ट में जीवाश्मों की खोज उत्तर प्रदेश के ग्रामीण इलाके में जन्मे भारतीय भू-वैज्ञानिक डाॅ. एस.बी. मिश्र द्वारा की गई थी। इस खोज ने पृथ्वी के इतिहास के सम्बन्ध में तमाम सवालों के उत्तर प्राप्त करने में सहायता की है।


प्रवक्ता ने बताया कि मिस्टेकेन प्वाइन्ट सबसे पहले जीवाश्म की खोज डाॅ. एस.बी. मिश्र द्वारा अपने छात्र जीवन के दौरान सन् 1967 में की गई थी, जिसने डार्विन की क्रमिक विकास के सिद्धान्त सम्बन्धी जिज्ञासाओं का समाधान किया। मिस्टेकेन प्वाइन्ट, जो कि एवलाॅन पेनिन्सुला के दक्षिण-पूर्वी प्वाइन्ट है, पृथ्वी का सबसे बड़ा, पहला, जटिल, मल्टीसेल्युलर जीव रूप है। यह मिस्टेकेन प्वाइन्ट 565 मिलियन वर्ष पुराना समुद्री तल इकोलाॅजिकल प्रिजर्व है, जो कि विभिन्न जीवाश्मों का संग्रह है। यूनेस्को द्वारा इसे वर्ल्ड हेरिटेज साइट घोषित किए जाने से इसकी मान्यता बढ़ी है। इस साइट को वर्ष 1987 में इकोलाॅजिकल रिजर्व घोषित किया गया था।


उल्लेखनीय है कि डाॅ. एस.बी. मिश्र वर्तमान में लखनऊ से प्रकाशित होने वाले दैनिक ‘गांव कनेक्शन’ के प्रधान सम्पादक के रूप में कार्यरत हैं। इनका जन्म सन् 1949 में बाराबंकी जनपद के देवरा ग्राम में हुआ था। डाॅ. मिश्र विदेश छोड़कर अपने गांव वापस लौटे और उन्होंने वहां पर भारतीय ग्रामीण विद्यालय की स्थापना कर उसका संचालन किया, जिससे वहां के लोगों के जीवन में बदलाव आया।

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top