Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

एएमयू के प्रो. सलाहुद्दीन उमरी को नवाब फैजुल्ला खां एवार्ड से नवाज़ेगी की रामपुर रज़ा लाइब्रेरी

 Sabahat Vijeta |  2016-07-12 14:40:33.0

raza laibrery


लखनऊ. उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक की अध्यक्षता में आज राजभवन में आयोजित रामपुर रज़ा लाइब्रेरी बोर्ड की 46वीं बैठक में निणर्य लिया गया कि अरबी भाषा की श्रेणी में एक लाख ग्यारह हजार रूपये का नवाब फैजुल्ला खां एवार्ड अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के प्रो. एम. सलाहुद्दीन उमरी को तथा उर्दू प्रकाशक की श्रेणी का एक लाख रूपये का मुंशी नवल किशोर एवार्ड इस्लामिक बुक फाउण्डेशन, नई दिल्ली को दिया जायेगा। संस्कृत की श्रेणी के लिये नवाब रज़ा अली खां एवार्ड 2015-16 के लिये केवल एक नाम प्राप्त हुआ था, जिसके कारण इस एवार्ड के लिये दोबारा विज्ञापन दिया जायेगा। बोर्ड के सदस्यों ने सम्मान समारोह की तिथि तय करने के लिये राज्यपाल राम नाईक जो पदेन लाइब्रेरी बोर्ड के अध्यक्ष भी हैं, को अधिकृत कर दिया है।


बैठक में प्रो. आई.आर. जैदी, प्रो. अब्दुल अली, प्रो. आई.एम. खान, नसीम अहमद खान, नवाब मोहम्मद अली खान, जगदीश पीयूष, राज्यपाल की प्रमुख सचिव सुश्री जुथिका पाटणकर, जिलाधिकारी रामपुर, राजीव रौतेला, प्रधान महालेखाकार, इलाहाबाद, एस.पी. कटारिया, कार्यकारी निदेशक लाइब्रेरी, सुश्री दीपिका पोखरना तथा रामपुर रज़ा लाइब्रेरी के अन्य पदाधिकारी भी उपस्थित थे।


श्री नाईक ने कहा कि रामपुर रज़ा लाइब्रेरी के पूर्णकालीन निदेशक के लिये संस्कृति मंत्रालय भारत सरकार को दोबारा लिखा जायेगा। रामपुर रजा लाइब्रेरी में कर्मचारियों की स्थिति का आंकलन करने के लिये एक प्रशासनिक रिपोर्ट प्रस्तुत की जाये जिसके आधार पर यह तय हो सके कि कितने नियमित पदों की जरूरत है तथा उन पर विचार किया जा सके। उन्होंने कहा कि प्रशासनिक रिपोर्ट को रामपुर रज़ा लाइब्रेरी के हितों का आंकलन करते हुए तैयार किया जाना चाहिये।


राज्यपाल ने कहा कि रामपुर रज़ा लाइब्रेरी भविष्य में होने वाले कार्यक्रमों का एक कलेन्डर बनाकर अध्यक्ष की जानकारी के लिये भेंजे। इस कार्य के लिये उन्होंने चार सदस्यीय सह-समिति का गठन करने की बात कही जिसमें निदेशक उसके संयोजक होंगे तथा प्रो. अब्दुल अली, प्रो. आई.एम. खान, प्रो. आई.आर. जैदी व पुस्तकालय अध्यक्ष उसके सदस्य होंगे। राष्ट्रीय और अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर संगोष्ठी के आयोजन के लिये यह सह-समिति निर्णय करेगी। उन्होंने कहा कि रामपुर रज़ा लाइब्रेरी के जो भी प्रकाशन हों उसकी प्रति सभी सदस्यों को भी उपलब्ध कराई जाये।


श्री नाईक ने इस बात की प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कहा कि यह रामपुर रज़ा लाइब्रेरी के लिये गर्व का विषय है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 7वीं शताब्दी में हजरत अली द्वारा लिखित पवित्र कुरान की छाया प्रति ईरान के आयतुल्लाह सैय्यद अली हुसैनी खामेनाई को भेंट किया तथा ईरान के राष्ट्रपति डा. हसन रूहानी को सुमेर चन्द द्वारा लिखित फारसी की वाल्मीकि रामायण भेंट की। उल्लेखनीय है कि हजरत अली द्वारा लिखित कुरान तथा फारसी में सुमेर चन्द द्वारा लिखित वाल्मीकि रामायण की प्रतियां रामपुर रज़ा लाइब्रेरी से मंगाई गई थी।


बैठक में पूर्व बैठक की कार्यवृत्त की पुष्टि की गई तथा लाइब्रेरी से जुड़े अन्य विषयों पर भी चर्चा की गई।

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Top