Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

पुस्तक मेले में आख़री दिन रही खूब धूम

 Sabahat Vijeta |  2016-10-02 16:10:30.0

book-fair-navneet


तहलका न्यूज़ ब्यूरो


लखनऊ. राजधानी के मोतीमहल लॉन में चल रहा दस दिवसीय चौदहवां राष्ट्रीय पुस्तक मेला आज समाप्त हो गया. आख़िरी दिन आज ज़बरदस्त भीड़ उमड़ी. विजयी प्रतिभागियों को आज उनकी मेहनत का पुरस्कार भी मिला. राजधानी के मेयर डॉ. दिनेश शर्मा भी आज पुस्तक मेले में मेहमान की हैसियत से पहुंचे.


साहित्यिक, सांस्कृतिक एवं सामाजिक संस्था "लक्ष्य" ने आज यहाँ कवि सम्मलेन का आयोजन किया. जिसका शुभारम्भ माँ सरस्वती के चित्र पर माल्यार्पण और दीप प्रज्जवलन के साथ हुआ. घनानन्द पाण्डेय "मेघ" ने माँ वाणी की वंदना की. मनमोहन बाराकोटी "तमाचा लखनवी" ने आये हुए कवियों का स्वागत किया. हास्य कवि गोबर गणेश के संचालन में सिद्धेश्वर शुक्ल "क्रान्ति", डॉ. अजय प्रसून, कुंवर कुसुमेश, कृष्णानन्द राय, बेअदब लखनवी, पं. विजय लक्ष्मी मिश्रा, क्रान्ति चौधरी, राम राज भारती "फतेहपुरी", शरद पाण्डेय "शशांक", किरन सिंह, इमरान अलियाबादी, श्याम जी मिश्र, आदित्य चतुर्वेदी, डॉ. सुभाष गुरुदेव, अर्जुन सागर, रवि सारसस्वाति, सतीश चन्द्र श्रीवास्तव, मंजुल मंजर लखनवी, मुकेश कुमार मिश्र, प्रवीण कुमार शुक्ल "गोबर गणेश", मिजाज लखनवी, मनमोहन बाराकोटी "तमाचा लखनवी", अनिल अनाड़ी, टेक चन्द्र, साहबदीन "दीन", बलराम यादव, अनिल बाँके, चेतराम अज्ञानी, हरीश लोहुमी, राहुल द्रिवेदी "स्मित", उमाकान्त पाण्डेय "सरस", सचिन साधारण, महेश घावरी, विपिन मलिहाबादी , अजय श्री, सुकुमार शाहजहाँपुरी, कन्हैया लाल, मृगांक श्रीवास्तव, नन्दलाल शर्मा "चंचल", प्रदीप कुमार सिंह कुशवाहा, केवल प्रसाद "सत्यम" आदि की रचनाओं ने खूब ठहाके बिखेरे.


ज्योति रतन और आस्था ढल ने बताया कि दस दिन चले पुस्तक मेले में हुई विभिन्न प्रतियोगिताओं में 350 बच्चों ने भाग लिया. जिनमे से 92 बच्चों को आज पुरस्कार दिए गए.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Top