Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

तीन तलाक़ सही, अदालत शरीयत में दखल न दे

 Sabahat Vijeta |  2016-04-17 11:53:48.0

muslim-boardतहलका न्यूज़ ब्यूरो


लखनऊ, 17 अप्रैल. राजधानी लखनऊ के नदवतुल उलेमा (नदवा कालेज) में चल रही आल इण्डिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड की बैठक में आज तीन तलाक़ मामले पर छिड़ी बहस पर काफी गर्मागर्मी हुई. बोर्ड ने तीन तलाक़ को शरई तौर पर पूरी तरह से सही ठहराया. बोर्ड ने साफ़ तौर पर कहा कि तीन तलाक़ जायज़ है.


आल इण्डिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने शरीयत कानून में अदालत के फैसलों को शरीयत में दखलंदाजी माना है. पर्सनल लॉ बोर्ड ने शरीयत कानून में अदालत के फैसलों का ज़बरदस्त विरोध किया है, बोर्ड ने अदालत को शरीयत में दखलंदाजी नहीं करने की बात कही है.


बोर्ड ने उत्तराखंड की सायरा बानो मामले में बोर्ड ने खुद सुप्रीम कोर्ट में पैरवी का फैसला लिया है.


बोर्ड के चेयरमैन मौलाना सैय्यद राबे हसनी नदवी ने तीन तलाक, गुजारा भत्ता, चार शादियां और हलाला मामले में कोर्ट के हस्तक्षेप पर नाराजगी दिखायी. बैठक में सीनियर वकील और बोर्ड के सदस्य ज़फ़रयाब जीलानी ने कहा कि वह केन्द्र सरकार से अपील करेंगे कि पर्सनल लॉ बोर्ड किसी भी तरह का हस्तक्षेप नहीं करे. ज़फरयाब जीलानी ने राजस्थान में सूर्य नमस्कार को अनिवार्य किये जाने के फैसले को गलत बताते हुए कहा कि यह तो संविधान की मूल भावना के खिलाफ है.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Top