Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

अरविंद केजरीवाल के लिए झटका; 'APP' के विद्रोहियों ने बनाई 'स्वराज इंडिया' पार्टी

 Vikas Tiwari |  2016-10-02 17:40:25.0

 स्वराज इंडिया' पार्टी 


नई दिल्ली. आम आदमी पार्टी के पूर्व नेता योगेंद्र यादव के नेतृत्व में रविवार को महात्मा गांधी की जयंती पर स्वराज अभियान ने 'स्वराज इंडिया' नाम की राजनीतिक पार्टी का गठन किया। नई पार्टी की घोषणा यहां एक संवाददाता सम्मेलन में की गई। योगेंद्र यादव इसके अध्यक्ष और अजीत झा महासचिव होंगे। फहीम खान पार्टी के कोषाध्यक्ष होंगे।

'स्वराज इंडिया'  पार्टी के बनने के बाद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी की मुश्किलें बढ़ सकती है
, क्योंकि इस पार्टी का गठन करने वाले नेता और कार्यकर्ता वही है जो आप के बड़े नेताओं में गिने जाते थे।इस पार्टी ने 2017 में होने वाले एमसीडी का चुनाव लड़ने की घोसणा भी कर दी है।

योगेंद्र यादव, सर्वोच्च न्यायालय के वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण, अजीत झा और आनंद कुमार को आम आदमी पार्टी के संयोजक व दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के साथ पिछले साल मार्च में अनबन होने के कारण आप छोड़नी पड़ी थी।

आप से निकलने के बाद योगेंद्र यादव ने स्वराज अभियान का गठन किया जिसने जमीनी स्तर पर काम किया, लेकिन अब तक चुनावी राजनीति से दूर रहा था।

स्वराज अभियान के नवनिर्वाचित अध्यक्ष प्रशांत भूषण ने कहा, "चुनावी राजनीति में जवाबदेही, ईमानदारी और पारदर्शिता लाने के उद्देश्य से हम एक नई अखिल भारतीय राजनीतिक पार्टी 'स्वराज इंडिया' के गठन की घोषणा करते हैं।"

भूषण ने कहा कि प्रोफेसर आनंद कुमार स्वराज इंडिया के मार्गदर्शक और सलाहकार होंगे।

भूषण ने कहा, "31 जुलाई को हमारे प्रतिनिधियों के राष्ट्रीय सम्मेलन में आए लोगों में से 92.5 प्रतिशत ने एक राजनीतिक दल के गठन के पक्ष में मतदान किया और एक समिति को इसका काम सौंपा। सभी सदस्यों के बीच जनमत संग्रह में पार्टी बनाने के पक्ष में भारी प्रतिशत से मतदान हुआ जिसके बाद पार्टी बनाने का फैसला लिया गया।"

योगेंद्र यादव ने कहा कि फिलहाल 'हमारे गणतंत्र के स्थापना मूल्य खतरे में हैं।'

उन्होंने कहा, "लोकतंत्र, विविधता और अभिव्यक्ति पर हमला किया जा रहा है। विडंबना यह है कि यह उन्हीं लोगों द्वारा किया जा रहा है, जिन पर इन मूल्यों की रक्षा का दायित्व सौंपा गया था। भारत की अवधारणा को ही चुनौती दी जा रही है।

दुखद है कि कोई राजनीतिक शक्ति नहीं है, जिसके पास इस चुनौती से निपटने की दृष्टि या इच्छाशक्ति हो। स्वराज इंडिया इस रिक्तता को भरने की चुनौती स्वीकार करती है। पार्टी चुनावी राजनीति के जरिए लोगों को वास्तविक स्वराज दिलाने के लक्ष्य की दिशा में काम करेगी।"

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top