Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

मुलायम की सख्ती, शिवपाल का ट्विट, अखिलेश का बैठक में जाना, मतलब कुछ तो है

 Sabahat Vijeta |  2016-08-15 15:33:31.0

akhilesh-mukhtar-shivpal
तहलका न्यूज़ ब्यूरो


लखनऊ. कौमी एकता दल के समाजवादी पार्टी में विलय को लेकर सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव काफी गंभीर हैं. अपने आवास पर इस मुद्दे पर वह गहन मंत्रणा में जुटे हैं. सूबे के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव भी मुलायम सिंह के आवास पर पहुँच चुके हैं. कैबिनेट मंत्री शिवपाल सिंह यादव को भी उन्होंने इटावा से बुलवा लिया है. कुछ ही देर में शिवपाल सिंह भी इस मंत्रणा में शामिल होने वाले हैं. कौमी एकता दल के समाजवादी पार्टी में विलय के अलावा और भी बहुत से मुद्दे हैं जिन्हें मुलायम आज ही निबटाने के मूड में हैं.


मुलायम सिंह यादव ने आज समाजवादी पार्टी को खड़ा करने में शिवपाल सिंह यादव के योगदान को सबसे ज्यादा बताया. उधर शिवपाल सिंह ने भी ट्विट कर कहा कि हम सब एक हैं और अपने कर्तव्य के प्रति प्रतिबद्ध हैं. नेताजी का संकेत ही मेरे लिए आदेश है. कुछ देर बाद शिवपाल ने दूसरा ट्विट किया कि मुलायम सिंह यादव समाजवादी परिवार के मुखिया हैं और उनकी बात सबको माननी पड़ेगी. शिवपाल ने सख्ती न करने वाले अफसरों के खिलाफ भी एक्शन लेने की बात की. उन्होंने कहा कि प्रदेश में अवैध कब्जों की बाढ़ आ गई है और अधिकारी सख्ती नहीं कर रहे हैं.


सपा सुप्रीमो आज तमाम मुद्दों पर खिन्न दिखे. उन्होंने ढेर सारे सवाल उठाये. बीते दिनों में पार्टी को हुए नुकसान का चर्चा किया. उत्तराखंड और महाराष्ट्र में एक भी सीट जिता लेने की चुनौती दी. उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय पार्टी को क्षेत्रीय पार्टी बनाकर रख दिया. मुलायम ने पार्टी के वरिष्ठ नेताओं और मंत्रियों के प्रापर्टी डीलिंग में लगे होने पर सवाल उठाये. कहा कि जनता की बात नहीं सुनेंगे तो जनता चुनाव में सबक सिखा देगी.

आज मैनपुरी में शिवपाल सिंह यादव द्वारा पार्टी में भ्रष्टाचार का मुद्दा उठाने और ऐसे लोगों को जल्दी ही बाहर का रास्ता न दिखाने पर मंत्री पद छोड़ देने के बयान पर मुलायम काफी सख्त दिखे. उन्होंने कहा कि शिवपाल ने पार्टी को खड़ा करने में बहुत मेहनत की है वह सरकार से हटेंगे तो सरकार असहज हो जायेगी. भ्रष्ट अफसरों को भी मुलायम ने फ़ौरन सुधर जाने की चेतावनी दी.

शिवपाल के इन दो ट्विट और मुलायम के आज के नाराजगी भरे तेवरों से यह पूरी तरह से स्पष्ट हो गया है कि कौमी एकता दल और समाजवादी पार्टी के बीच की दीवार अब ढहने ही वाली है और कौमी एकता दल अब समाजवादी पार्टी का हिस्सा बनने वाला है.


akhilesh, mulayam, mukhtar


आज इटावा में शिवपाल काफी नाराज़ नज़र आये थे. उन्होंने साफ़ तौर पर कहा कि पार्टी से भ्रष्ट लोगों को बर्खास्त करने के लिए मुख्यमंत्री और मुलायम सिंह से बात करूंगा. अगर उनकी बर्खास्तगी नहीं हुई तो मजबूरी में इस्तीफा दे दूंगा. शिवपाल सिंह यादव के इस बयान के बाद मुलायम काफी गंभीर हो गए और उन्होंने शिवपाल से इटावा का कार्यक्रम निरस्त कर फ़ौरन लखनऊ आने को कहा. शिवपाल के लखनऊ पहुँचने से पहले ही मुलायम ने सरकार और नौकरशाही दोनों की मुश्कें कसीं. मुलायम ने स्पष्ट कर दिया कि पार्टी में वही होगा जो वह चाहेंगे. अपनी पार्टी को मज़बूत करने और इसे फिर से राष्ट्रीय पार्टी की मान्यता दिलाने के लिए मुलायम ने कोशिशें तेज़ कर दी हैं. शिवपाल सिंह के मुलायम के आवास पर पहुँचने के बाद विलय के मुद्दे पर मोहर लगने के अलावा कई अन्य मसलों का हल निकलना तय माना जा रहा है.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Top