Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

जानिए क्यों मनाया जाता है छठ का महापर्व, कैसे हुई इसकी शुरुआत

 Anurag Tiwari |  2016-11-06 08:30:05.0

Chhth Pooja, Bihar, Uttar Pradesh, Story

तहलका न्यूज वेब टीम

रविवार को दुनिया भर में भारतीय छठ का महापर्व धूमधाम से मन रहे हैं. दीपावली के बाद ही आस्था और हर्षोउल्सास के साथ मनाए जाने वाले महापर्व की तैयारियां शुरू हो जाती हैं. छठ का माहापर्व कार्तिक मॉस की शुक्ल पक्ष की षष्ठी तिथि को मनाया जाता है.

खासतौर से इसे पूर्वी उत्तर परदेश और बिहार में बड़े हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है. छत के पर्व की शुरुआत कब हुई और कैसे हुई इससे जुड़ी कई कहानियां प्रचलित हैं. इस पर्व से जुड़ी छठ मइया कि कहानी के अलावा एक और कहानी प्रचलित है जिससे छठ व्रत की महिमा का ज्ञान होता है.


Chhth Pooja, Bihar, Uttar Pradesh, Story प्राचीनकाल एक राजा प्रियंवद को हुए हैं. उनके कोई संतान नहीं थी. ऋषि-मुनियों की सलाह पर राजा ने एक यज्ञ कराय. महर्षि कश्यप ने यज्ञ के बाद पुत्र की प्राप्ति के उद्देश्य से प्रियंवद की पत्नी मालिनी को आहुति के लिए बनाई गई खीर खाने को दी.

कहा जाता है कि इस खीर के खाने के बाद रानी गर्भवती हुईं और नौ महीने बाद जब उन्होंने एक पुत्र को जन्म दिया जो दुर्भाग्य से वह मृत पैदा हुआ

Chhth Pooja, Bihar, Uttar Pradesh, Story मृत पुत्र के जन्म से दुखी महाराज प्रियंवद उसका शरीर लेकर शमशान पहुंचे. राजा ने पुत्र वियोग में प्राण त्यागने का निश्चय किया. ठीक उसी समय मानस पुत्री देवसेना प्रकट हुईं और उन्होंने राजा प्रियंवद से कहा कि कि उनकी उत्पति सृष्टि की मूल प्रवृति के छठे अंश से हुई हैं और इसी कारण वे षष्ठी कहलातीं हैं.

Chhth Pooja, Bihar, Uttar Pradesh, Story उन्होंने राजा प्रियंवद से उनकी पूजा करने और दूसरों को पूजा के लिए प्रेरित करने को कहा. जिसके बाद राजा प्रियंवद ने पुत्र इच्छा के कारण देवी षष्ठी का व्रत किया और उन्हें एक बार फिर पुत्र रत्न की प्राप्ति हुई. तभी से छठ पर्व पुत्रो  की दीर्घायु की प्रार्थना के लिए मनाया जाता है.



Tags:    

  Similar Posts

Share it
Top