Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

थानेदार फूफा से सीएम ने गिरवा दी मेरी बिल्डिंग, विधायक रामपाल ने गवर्नर से की यह शिकायत

 Sabahat Vijeta |  2016-05-24 12:28:39.0

rampal-yadavशबाहत हुसैन विजेता


लखनऊ. समाजवादी पार्टी के बागी विधायक राम पाल यादव ने आज उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाइक से मुलाक़ात कर अखिलेश यादव की सरकार को बर्खास्त करने की मांग की है. उन्होंने कहा कि अखिलेश यादव दमनकारी रवैया अख्तियार किये हुए हैं और जिसने भी उनकी मर्जी के खिलाफ कुछ किया उसे बर्बाद करने में यह सरकार देर नहीं कर रही है. रामपाल यादव ने कहा कि उन्होंने जिला पंचायत अध्यक्ष चुनाव में बेटे का समर्थन कर दिया तो यह इतना बड़ा गुनाह हो गया और मुख्यमंत्री का भाई प्रतीक यादव गोमतीनगर के मिठाई चौराहे पर रिहायशी बिल्डिंग का व्यावसायिक इस्तेमाल कर रहा है तो सबकी आँख बंद है.


रामपाल यादव ने बताया कि राजधानी में 22 हज़ार मकान बगैर नक्शा पास कराये बनाया जाना चिन्हित है. 1100 को ध्वस्त करने का हाईकोर्ट का आदेश है लेकिन सरकार इस मुद्दे पर चुप है.


सरकार मेरी हत्या करा सकती है: रामपाल यादव


राम पाल यादव ने राज्यपाल को बताया कि समाजवादी पार्टी में हाईकमान के खिलाफ कुछ सोचना भी गुनाह हो गया है. उन्होंने कहा कि मेरा अपराध यह है कि मैंने पार्टी के अधिकृत प्रत्याशी का समर्थन करने के बजाय अपने बेटे जीतेन्द्र यादव का समर्थन कर उसे जिला पंचायत अध्यक्ष बनवा दिया, इसी तरह ब्लाक प्रमुखी चुनाव में मेरे द्वारा समर्थित 14 प्रत्याशी ब्लाक प्रमुख बने जबकि सरकार समर्थित सिर्फ पांच प्रत्याशी ही ब्लाक प्रमुख बन पाए.


राम पाल यादव ने राज्यपाल से कहा कि जिला पंचायत चुनाव में बेटे का समर्थन किया तो सरकार उत्पीड़न पर उतर आई. लखनऊ और सीतापुर में ढूंढ कर मेरे समर्थकों के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है. मेरे समर्थकों के साथ अपराधियों सरीखा व्यवहार हो रहा है. उन्होंने बताया कि दो दिन पहले वह बिस्वा तहसील गए थे. उनके साथ जितने लोग भी थे सबके खिलाफ 107/17 की कार्रवाई की गई. सबको पांच-पांच लाख रुपये का मुचलका भरने को कहा गया.


बागी सपा विधायक रामपाल यादव को मिली जमानत

उन्होंने बताया कि सीतापुर में उनके समर्थकों को व्यापार नहीं करने दिया जा रहा है. मेरे समर्थक कलीम का मकान बन रहा था उसकी नींव तक खोद दी गई. राम पाल यादव ने राज्यपाल से कहा कि पार्टी प्रत्याशी के बजाय बेटे का समर्थन करने की वजह से मुझे और मेरे समर्थकों को पार्टी से निकाल दिया गया था. पार्टी से निकाले जाने के बाद ब्लाक प्रमुखी चुनाव में 19 में से 14 ब्लाक प्रमुख मेरे समर्थन पर जीत गए और सरकार सिर्फ पांच ब्लाक प्रमुख ही जिता पाई. इस बड़ी पराजय के बाद ही मेरे खिलाफ कार्रवाई हो गई होती लेकिन इसी बीच एमएलसी चुनाव आ गया तो मुझे पार्टी में ससम्मान वापस ले लिया गया लेकिन आनन्द भदौरिया के निर्विरोध जीत जाने के बाद सरकार ने फिर से मेरा उत्पीडन शुरू कर दिया.


विधायक रामपाल यादव ने कहा कि इतिहास में पहली बार निर्विरोध एमएलसी निर्वाचित होते देख अखिलेश सरकार मेरी लोकप्रियता से इतना ज्यादा डर गई कि उसने मेरे खिलाफ अपराधियों जैसी कार्रवाई शुरू करा दी. उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने अपने कथित फूफा एसओ पारा अशोक यादव और अपने निकट सम्बन्धी शिवकुमार गुप्ता की शह पर विदेशी आक्रमणकारियों की तरह बगैर नोटिस के मेरी बिल्डिंग को ध्वस्त कर दिया गया.


अपनी ही सरकार के खिलाफ राज्‍यपाल से गुहार लगाएंगे MLA रामपाल यादव

उन्होंने बताया कि सीतापुर में जिस स्पर्श होटल को ध्वस्त किया गया है उसे तोड़ने के खिलाफ हाई कोर्ट का स्टे था लेकिन हाईकोर्ट के आदेश को फाड़कर फेंक दिया गया और डीएम सीतापुर अम्रतमणि त्रिपाठी ने कहा कि मेरे लिए मुख्यमंत्री का आदेश ही सर्वोपरि है.


विधायक रामपाल ने बताया कि उजरियांव में एक भी बिल्डिंग का नक्शा पास नहीं है. केवल मेरी बिल्डिंग का नक्शा पास कराने के लिए अप्लाई किया गया था. उन्होंने बताया कि उजरियांव में जो बिल्डिंग ध्वस्त कराई गई वह उनकी बेटी दीपा यादव की थी. 18 नवम्बर 2015 को एलडीए के वीसी को शासन ने लिखा था कि 10 बीसवा ज़मीन का अर्जन नहीं किया गया है. इस सम्बन्ध शासन से किसी कार्यवाही की ज़रुरत नहीं है. इस विषय में एलडीए के वीसी से अपने स्तर पर फैसला ले लेने का निर्देश दिया गया था. समय के साथ परिस्थितियां बदलीं तो सारे आदेश बेमानी हो गए और एलडीए और नगर निगम ने भारी पुलिस बल की मौजूदगी में बिल्डिंग को ढहा दिया. हालाँकि विधायक राम पाल ने बताया कि जब मुझे इस तरह की कार्यवाही की भनक लगी थी तो मैंने हाईकोर्ट से स्टे भी ले लिया था लेकिन बिल्डिंग तोड़ने आयी टीम ने बात ही नहीं सुनी और सीधे कार्रवाई कर दी. उन्होंने कहा कि वह हाईकोर्ट में अदालत के आदेश की अवहेलना की शिकायत करेंगे.


जेल जाते वक्त मुस्कुरा रहे थे बागी सपा विधायक रामपाल यादव

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Top