Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

सारनाथ में होगा इंटरनेशनल बुद्धिस्ट कॉन्क्लेव, 70 देशों की होगी भागीदारी

 Anurag Tiwari |  2016-06-11 02:36:16.0

SARNATHतहलका न्यूज़ ब्यूरो

वाराणसी. दुनिया भर के बौद्ध अनुयायियों और बौद्ध धर्म मानने वाले देशों को भारत में मौजूद भगवान बुद्ध से जुड़ी विरासत से परिचित कराने के उद्देश्य से, अक्टूबर में टूरिज्म मिनिस्ट्री इंटरनेशनल बुद्धिस्ट कॉनक्लेव का आयोजन सारनाथ में कराने जा रही है।

3-5 अक्टूबर चलेगा महाकॉनक्लेव , 70 देश करेंगे शिरकत

यह इंटरनेशनल बुद्धिस्ट कॉनक्लेव इस साल 3 से 5 अक्टूबर तक आयोजित किया जाएगा। इस इंटरनेशनल बुद्धिस्ट कॉनक्लेव में दुनिया के 70 देशों के 300 से ज्यादा प्रतिनिधि हिस्सा लेने आएंगे। इस कॉन्क्लेव की शुरुआत प्रदेश के सीएम अखिलेश यादव करेंगे और इसमें देश के कई राज्यों के टूरिज्म मिनिस्टर्स के शिरकत करने की संभावना है। माना जा रहा है कि इस कॉन्क्लेव से पर्यटन कारोबारियों को काफी फायदा मिलेगा।


सारनाथ में सबकुछ दुरुस्त करने का आदेश हुआ जारी

कमिश्नर ने कॉन्क्लेव के मद्दे-नजर सारनाथ इलाके में व्यवस्था दुरुस्त और चक चौबंद रखने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने मूलगंध कुटी बिहार सहित आस-पास के लगभग चार पार्कों को दुरूस्त कराने का निर्देश दिया है। कमिशंरा ने मूलगंघ कुटी के ठीक सामने सड़क पर अतिक्रमण को तुरंत हटाए जाने के लिए एसएसपी को कहा है। इसके साथ ही बाबतपुर एयरपोर्ट-कचहरी, पुलिस लाइन चौराहा से मूलगंध कुटी बिहार सारनाथ वाया आशापुर एवं पुराना आरटीओ ऑफिस से मवइया तिराहा तक वाया तिब्बती संस्थान और कचहरी से मकबूल आलम रोड मार्गों को ठीक कराने के साथ ही सड़क के किनारे से मलबा हटवाने का भी अधिकारियों को निर्देश दे दिए हैं । सारनाथ स्थित पार्कों के फुव्वारा एवं लाइट्स आदि को दुरूस्त कराये जाने पर भी जोर दिया। कमिशनर ने बताया कि कॉन्क्लेव के दौरान इन्ही स्थानों पर लेक्चर, कॉन्फ्रेंस व सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन सम्पन्न होगा।

सुबह-ए-बनारस और गंगा आरती भी देखेंगे

सारनाथ कॉन्क्लेव में आने वाले दुनिया के कई देशों के सैकड़ों बुद्धिस्ट अपने वाराणसी दौरे पर सुबह-ए-बनारस और शाम को गंगा आरती का नजारा देखेंगे। इसके मद्देनजर कमिश्नर ने गंगा घाटों को भी दुरुस्त करने और उनकी सफाई का खास निर्देश दिया है। कमिश्नर ने नगर निगम से लेकर लोकनिर्माण विभाग तक के अधिकारियों को कई निर्देश दिए गए हैं। सारनाथ में पाथवे की रंगाई एवं पार्कों की सफाई कराने के साथ ही प्रमुख स्थानों पर प्रमुख स्थलों के संबंध में साइनेंज लगवाये जाने का भी निर्देश दिए गए हैं।

सारनाथ में आयोजित होने वाले इस कॉनक्लेव में हिस्सा लेने के लिए अभी तक अमेरीका, जापान, श्रीलंका, कोरिया, बर्मा, भूटान एवं थाइलैंड सहित कई देशों के बौद्ध प्रतिनिधियों के साथ टूर ऑपरेटर्स और ट्रेवल एजेंट्स आने के लिए अपनी हामी भर चुके हैं। वाराणसी के डिविजनल कमिश्नर नितिन रमेश गोकर्ण खुद इंटरनेशनल बुद्धिस्ट कॉनक्लेव के लिये सभी तैयारियों पर नजर रख रहे हैं और आए दिन इन तैयारियों की रिव्यु मीटिंग भी कर रहे हैं।

पहले यहाँ हो चुका है सम्मलेन

पहला कॉनक्लेव नई दिल्ली और बोधगया (2004)

दूसरा कॉनक्लेव नालंदा और बोधगया (2010),

तीसरा वाराणसी और बोधगया (2012),

चौथा कॉनक्लेव बोधगया और वाराणसी (2014)

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Top