Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

बसपा का विकल्प खड़ा करेंगे आर.के. चौधरी

 Sabahat Vijeta |  2016-09-11 07:34:48.0

r.k.chaudhry


तहलका न्यूज़ ब्यूरो


लखनऊ. बसपा छोड़कर बीएस-4 को पुनर्जीवित करने वाले यूपी के पूर्व मंत्री आर.के. चौधरी ने आज एलान किया कि वह आने वाले दिनों में बहुजन समाज पार्टी का विकल्प खड़ा करेंगे. राजधानी के परिवर्तन चौक से सामाजिक परिवर्तन यात्रा शुरू करने से पहले उत्तर प्रदेश प्रेस क्लब में संवाददाताओं से मुखातिब चौधरी ने यह एलान किया.


आर.के. चौधरी ने कहा कि आज़ादी के इतने बरसों बाद भी संविधान की मंशा के अनुरूप समाज में बराबरी का माहौल तैयार नहीं हो सका. उन्होंने कहा कि समाज से गैर बराबरी खत्म करने के लिये यह सामाजिक परिवर्तन यात्रा शुरू की जा रही है. यह यात्रा लखनऊ से उन्नाव, कानपुर, सीतापुर, लखीमपुर, फैज़ाबाद, अमेठी, सुल्तानपुर और प्रतापगढ़ होते हुए 30 सितम्बर को इलाहाबाद पहुंचेगी.


30 सितम्बर को इलाहाबाद (गंगा पार) के चर्च मैदान में सामाजिक परिवर्तन रैली का आयोजन होगा. इस रैली में आर.के. चौधरी भविष्य की योजनाओं का खुलासा करेंगे. चौधरी ने कहा कि संवैधानिक पदों पर बैठे लोग दोहरी मानसिकता के हैं. संविधान समता मूलक समाज की बात करता है लेकिन सदियों से गैर बराबरी की बात चली आ रही है.


उन्होंने कहा कि समता मूलक समाज के निर्माण के लिए अलग से बजट की ज़रुरत नहीं है. इसके लिए नेताओं को दलितों के घर खाना खाने की ज़रुरत भी नहीं है. उन्होंने कहा कि सड़क निर्माण में अगर 23 फीसदी ठेका दलितों को और 27 फीसदी ठेका पिछड़ों को दिया जाने लगे तो दलितों और पिछड़ों को बराबरी से खड़े होने का अधिकार मिलने लगेगा.


आर.के. चौधरी ने कहा कि रेलवे हर साल अपने 20 लाख कर्मचारियों को वर्दी देता है. अगर रेलवे यह तय कर ले वह 23 फीसदी वर्दी दलित से और 27 फीसदी पिछड़े से सप्लाई लेगा तो दलितों को 4 लाख 60 हज़ार और पिछड़ों को 5 लाख 40 हज़ार वर्दियों की सप्लाई करने का मौक़ा मिल जायेगा. इससे दलितों और पिछड़ों की गरीबी दूर हो जायेगी. इसी तरह से शराब के ठेकों में भी दलितों और पिछड़ों को मौक़ा दिया जाए तो समता मूलक समाज का निर्माण हो सकता है.


राम लोटन ने छोड़ी बसपा 




आर.के चौधरी की प्रेस कांफ्रेंस में 1993 में मिर्ज़ापुर से विधायक रहे राम लोटन ने आज बसपा छोड़ने की घोषणा की. उन्होंने कहा कि मायावती ने उनसे टिकट के लिए 50 लाख रुपये लिए लेकिन उसके बाद भी उनका टिकट काट दिया. टिकट काटने के बावजूद उनका पैसा भी वापस नहीं लिया. ऐसे में बहुजन समाज पार्टी में बने रह पाना संभव नहीं है. उन्होंने आज यह खुलासा नहीं किया कि अब वह कौन सी पार्टी का दामन थामेंगे.


Tags:    

  Similar Posts

Share it
Top