Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

अखिलेश यादव के चार साल: पढि़ए दिग्गज नेताओं के बयान

 Tahlka News |  2016-03-15 14:50:20.0

a1तहलका न्यूज ब्यूरो
लखनऊ, 15 मार्च. सीएम अखिलेश यादव ने यूपी में सत्ता के चार साल पूरे कर लिए हैं। इसी के साथ ही उन्होंने अपने पिता और सपा मुखिया मुलायम सिंह यादव का रिकॉर्ड भी तोड़ दिया है। दरअसल, मुलायम के हाथों में यूपी की कमान तीन बार आई, लेकिन यूपी के सीएम के रूपी में उनकी पारी अखिलेश से छोटी ही रही। अपने तीसरे कार्यकाल में मुलायम तीन साल आठ महीने तक यूपी की सत्ता पर काबिज रहे। आगे पढि़ए अन्य नेताओं के बयान...


सपा के महासचिव और राज्यसभा सासंद नरेश अग्रवाल का बयान:


मिश्रित रही अखिलेश सरकार: विपक्षियों की बात तो छोड़िये अब सपा सरकार के सासंद नरेश अग्रवाल भी यूपी की सपा सरकार को पूरे नम्बर नहीं दे रहे बल्कि मिश्रित सरकार करार दें रहे हैं।


सीएम सफल, मंत्री नहीं: सीएम अखिलेश यादव की छवि जनता में अच्छी है। उनके दामन पर कोई दाग नहीं, लेकिन मंत्री सीएम जितनी मेहनत नहीं करते वरना सूरत बदल जाती।


केंद्र से नहीं मिली मदद:

सीएम अखिलेश यादव से पीएम मोदी को 100 पत्र लिखे लेकिन मोदी ने अभी उन्हें मिलने नहीं बुलाया, जबकी पीएम खुद यूपी से सासंद हैं।


यूपी में बीजेपी बनाम सपा की जंग: कांग्रेस आरोप लगाती है की वोटों धर्म के आधार पर धुव्रीकरण कर सपा-बीजेपी चुनाव लड़ना चाहती है। वहीं, अब नरेश अग्रवाल भी कहते हैं कि यूपी की ज़ंग बीजेपी बनाव सपा है, बसपा कहीं कहीं मैदान में है, कांग्रेस से कोई मुकाबला नहीं।


किराये के हैं बीजेपी फेसबुकिया:

अमित शाह सासंदो को 50 हज़ार फेसबुक पोस्ट लाइक की नसियत दें रहें है। इस पर सपा का कहना है कि बीजेपी किराये पर फेसबुक लाइक लेती है और दौबारा चुनाव होनें की स्थिति में 70 फीसदी बीजेपी सासंद युपी में चुनाव हार जाएगें।


कांग्रेस सासंद और प्रवक्ता प्रमोद तिवारी का बयान:


सीएम की तारीफ: मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की छवि, विज़न और घोषणाएं बहुत अच्छी हैं। हालांकि, घोषणाओं को ज़मीन पर अमली ज़ामा पहनाने में कुछ कमियां आई और कानून व्यवस्था का सवाल भी खड़ा हुआ।


केंद्र ने किया सौतेला व्यवहार: राजनैतिक कारणों से यूपी सरकार के साथ केंद्र की मोदी सरकार ने सौतेला व्यवहार किया है। जिससे राज्य की विकास गति पर असर पड़ा।


फेसबुक से फतह नहीं होगा यूपी: अमित शाह और बीजेपी अभी तक फेसबुक, झूठे वादों और जुमलों के सहारें चलते आए है लेकिन चमड़े का यह सिक्का इस बार यूपी में नहीं चलने वाला है।


यूपी सरकार में कैबिनेट मंत्री मनोज कुमार पांडेय का बयान:


फेसबुक नहीं, फेस टू फेस होगा यूपी फ़तह: बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह भले ही अपने सासंद को फेसबुक के ज़रिये 50 हज़ार लोगों से जुड़ने को कहा हो लेकिन नेताजी और सीएम ने सपा के हर विधायक 1-1 लाख़ लोगों से मिलकर सरकारी काम बनाते के निर्देश दिए है।


सपा सब पर भारी पर भाजपा से चुनौती: इस बार यूपी में सभी दलों की टक्टर समाजवादी पार्टी से लेकिन अन्य दलों की तुलना में बीजेपी टक्कर दे रही है।


चार साल बेमिसाल: सपा सरकार ने सभी जाति, धर्म, वर्ग के लिए काम किया है। सड़क पर सभी चलते हैं। 108 एम्बुलेंस जाति नहीं पूछती और समाजवादी पेंशन सभी धर्म के लोगों को मिलती है।

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Top