Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

पौने तीन फीट की 'रागिनी' ने बढ़ाया दिव्यांगों का सम्मान

 Abhishek Tripathi |  2016-09-02 09:00:38.0

ragini_guptaसंजय द्विवेदी
सोनभद्र. 'खुदा बंदे से खुद पूछे बता तेरी रज़ा क्या है।' जी हां, अगर हुनर और लगन हो तो कोई काम असंभव नहीं होता। इसी जज्बे को सही कर दिखाया है राजेंद्र नगर कानपुर देहात की रहने वाली रागिनी गुप्ता ने। रागिनी गुप्ता शरीरिरिक रूप से विकलांग है यानी उनकी लंबाई मात्र पौने तीन फ़ीट के करीब है, लेकिन उनके अंदर टैलेंट कूट-कूट कर भरा है। अपनी लंबाई को अपनी कमी नहीं बनने देने की चुनौती के साथ शिक्षा ग्रहण कर रागिनी ने बड़े-बड़ों को पीछे छोड़ दिया है। रागनी पीएचडी, एमफील गोल्ड मेडलिस्ट, बीटीसी और तीन पुस्तकों की लेखिका सर्वगुन संपन्न अध्यापिका है।


शुक्रवार को प्राथमिक विद्यालय मुसही राबर्ट्सगंज ब्लॉक में बतौर सहायक अध्यापिका नियुक्ति पत्र लेकर ज्वाइन करने खंड शिक्षाधिकारी कार्यलय राबर्ट्सगंज पहुंचीं। जहां पर खंड शिक्षाधिकारी उदय चंद्र राय, प्राथमिक शिक्षक संघ अध्यक्ष अशोक सिंह, वरिष्ठ अध्यापक उदय श्रीवास्तव, न्याय पंचायत बढौली प्रभारी धर्मेन्द्र कुमार उपाध्याय ने ज्वाइन करने आई अध्यापिका को सम्मान के साथ बैठाकर उनका पूरा सहयोग किया। इस अवसर पर उपस्थित खंड शिक्षाधिकारी ने कहा की रागिनी एक योग्य टीचर है इनकी हर तरह से मदद की जायेगी। शैक्षणिक कार्य के दौरान इनकी लंबाई आड़े ना आये इसके लिए ब्लैक बोर्ड की व्यवस्था अलग से करा दी जायेगी।


एमफिल गोल्ड मेडलिस्ट हैं रागिनी
वहीं, प्राथमिक शिक्षक संघ अध्यक्ष अशोक सिंह ने कहा कि 'कौन कहता है कि आसमान में सुराख नहीं हो सकता, एक पत्थर तो तबियत से उछालो यारो।'

यह जिले का सौभाग्य है कि रागिनी गुप्ता जैसी अध्यापिका मिली हैं। रागिनी पीएचडी, एमफील गोल्ड मेडलिस्ट, बीटीसी की हुई सर्वगुन संपन्न अध्यापिका हैं। इनकी योग्यता ने इनके अंदर की शरीरिक कमी को कोसों दूर छोड़ दिया है।


मेरे पति ने किया सहयोग
जब रागिनी गुप्ता से बात किया गया तो उन्होंने बताया कि मेरे जीवन साथी के रूप में मिले मेरे पति वेद प्रकाश गुप्ता का सहयोग और मेरी इच्छाशक्ति ने आज मुझे यहां लाकर खड़ा कर दिया है और उन्होंने कहा कि मन में चाह और अपने आप पर कुछ कर गुजरने की इच्छाशक्ति हो तो किसी भी मंजिल को आसानी से पार किया जा सकता है। मैंने ज़माने से मिलने वाले ताने को अपने हुनर से दूर कर दिया। यही कारण है कि आज सभी लोग मुझे सम्मान की दृष्टिकोण से आदर देते हैं।


पति की हाइट है तीन फिट
रागिनी के पति वेद प्रकाश गुप्ता तीन फीट के हैं। दोनों की जोड़ी देखकर एक बार लोग जरूर कहते हैं कि ये ऊपर वाले की लीला है, क्या जोड़ी बनाया है। वेद प्रकाश मकैनिक है जो अपना वर्कशाप चलाते हैं जिसमें मोटर वाइंडिंग का काम होता है। वेद ने अपने शादी और मिलन के बारे में बताया कि हम दोनों के अभिभावक एयर इण्डिया में नौकरी करते हैं। एयर इण्डिया में ट्रेनिंग के दौरान रागिनी के पिता और मेरे पिता अच्छे दोस्त हो गए थे। उसी दौरान रागिनी के पिता ने मुझे देखा और शादी का प्रस्ताव रखा। जिसके बाद हम दोनों की शादी हो गई। हम दोनों के प्रेम का प्रतिक एक हमारी बेटी भी है। आज हमें अपनी जिंदगी से कोई शिकायत नहीं है।

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top