Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

पी.वी. सिन्धु ने ओलम्पिक में रचा इतिहास, रजत पक्का, निगाहें स्वर्ण की ओर

 Sabahat Vijeta |  2016-08-18 16:19:42.0

sindhu


तहलका न्यूज़ ब्यूरो


नई दिल्ली. भारतीय खेल के इतिहास में आज भारतीय महिला शटलर पीवी सिंधु ने एक और सुनहरा वरक़ लिख दिया. रियो ओलंपिक्स 2016 में महिला सिंगल्स के फाइनल में प्रवेश करके पी.वी. सिन्धु ने जो इतिहास रचा है उस पर हर भारतीय को गर्व है. सिंधु ओलंपिक्स में बैडमिंटन स्पर्धा के फाइनल में पहुंचने वाली भारत की पहली शटलर बन गई.


पी.वी.सिन्धु ने ब्रहस्पतिवार को सेमीफाइनल में जापान की नोजोमी ओकुहरा को सीधे सेटों में 21-19, 21-10 से हराकर एक नया इतिहास लिखा. सिंधु के फाइनल में पहुंचने के साथ ही भारत का बैडमिंटन में रजत पदक पक्का हो गया है. अब सिन्धु का फाइनल में मुकाबला स्पेन की कैरोलिना मरीन से होगा. सिन्धु आज जिस लय के साथ खेली हैं उससे यह साफ़ तौर पर लगता है कि यह भारतीय महिला शटलर अब स्वर्ण पदक लेकर ही भारत लौटेंगी.


पी.वी. सिन्धु विश्व रैंकिंग में 10वें स्थान पर हैं. आज अपने शानदार खेल की बदौलत उन्होंने छठे स्थान पर काबिज़ ओकुहरा को पूरी तरह से पस्त कर दिया. इस मैच का सबसे शानदार समय दूसरे गेम में इंटरवल के बाद का रहा. सिन्धु ने लगातार 11 अंक लेकर यह मैच अपने पक्ष में करते हुए फाइनल की सीढियां चढ़ लीं.


अपना पहला ओलम्पिक खेल रहीं भारत की अग्रणी महिला बैडमिंटन खिलाड़ी पी. वी. सिंघु ने ब्राजील की मेजबानी में खेले जा रहे ओलम्पिक खेलों में गुरुवार को महिला एकल वर्ग के फाइनल में प्रवेश कर लिया और भारत को बैडमिंटन में पहला ओलम्पिक स्वर्ण हासिल करने की उम्मीद जगा दी. बुधवार को कुश्ती में साक्षी मलिक द्वारा जीते गए कांस्य पदक के 24 घंटों के अंदर सिंधु ने भारत को दूसरी बड़ी सफलता दिला दी.

हालांकि गुरुवार को भारत को महिलाओं की कुश्ती स्पर्धा में एक निराशा भी हाथ लगी. फ्रीस्टाइल कुश्ती के 53 किलोग्राम भारवर्ग में बबिता कुमारी प्री क्वार्टर फाइनल मुकाबला हार गईं.

बबिता का रियो ओलम्पिक में यह पहला मुकाबला ही था. उन्हें क्वालिफाइंग राउंड में बाई मिली थी. लेकिन देशवासियों की सबसे बड़ी उम्मीद बनकर उभरीं सिंधु के मुकाबले पर सभी की निगाहें टिकी हुई थीं और सिंधु ने सवा करोड़ भारतीय उम्मीदों को निराश नहीं किया.

रियोसेंटर पवेलियन-4 में खेले गए सेमीफाइनल मुकाबले में सिंधु ने छठी वरीयता प्राप्त खिलाड़ी जापान की निजोमी ओकुहारा को सीधे खेल में 21-19, 21-10 से जीत हासिल करते हुए फाइनल का टिकट पक्का कर लिया.

फाइनल में सिंधु का सामना शीर्ष वरीयता प्राप्त स्पेन की कैरोलिना मारिन से होगा. सिंधु अब अगर फाइनल मैच हार भी जाती हैं तो उनका रजत पदक पक्का है, जो भारत का ओलम्पिक में बैडमिंटन का पहला रजत पदक होगा.

सिंधु ने पहले गेम में जबरदस्त प्रदर्शन किया और 10-6 की बढ़त ले ली. ओकुहारा ने इसके बाद संघर्ष किया और अंकों के अंतर को कम करने की कोशिश की. लेकिन सिंधु ने उनकी लाख कोशिशों के बावजूद भी आगे नहीं निकलने दिया. ओकुहारा एक अंक लेतीं तो सिंधु तुरंत वापसी कर लेतीं. इसी बीच सिंधु 17-14 से आगे थीं.

पहले गेम में सिंधु ने हालांकि कुछ गलतियां की और कई बार शॉट बाहर खेल बैठीं, लेकिन गेम के अंत में उन्होंने अपनी गलती को सुधारा और 27 मिनट में गेम 21-19 से अपने नाम किया.

दूसरा गेम सिंधु के अटूट आत्मविश्वास का गवाह बना. उन्होंने दूसरे गेम की शुरुआत अच्छी नहीं की और वह शुरुआत में ही 0-3 से पीछे हो गईं. 10वीं विश्व वरियता प्राप्त सिंधु ने इसके बाद 5-5 से बराबरी हासिल की.

बराबरी के बाद ओकुहारा ने एक बार फिर 7-5 की बढ़त ले ली, लेकिन सिंधु ने तुंरत दो अंक हासिल करते हुए स्कोर 7-7 से फिर बराबर कर लिया. यहां से दोनों खिलाड़ियों के बीच एक-एक अंक के लिए कड़ा संघर्ष शुरू हुआ जो 8-8 से होते हुए 10-10 तक पहुंचा.

यहां से सिंधु ने विश्व स्तर का खेल दिखाया और जापानी खिलाड़ी को एक भी अंक नहीं लेना दिया. सिंधु ने चौंकाने वाली वापसी की और लगातार 11 अंक हासिल कर 21-10 से मैच जीत लिया. यह गेम 22 मिनट चला.

सिंधु ने इसी के साथ इतिहास रचते हुए ओलम्पिक खेलों के फाइनल में पहुंचने वाली भारत की पहली बैडमिंटन खिलाड़ी बनने की उपलब्धि हासिल कर ली.

इस बीच महिलाओं की गोल्फ स्पर्धा में भारत की एकमात्र दावेदार अदिती अशोक संतुलित प्रदर्शन कर रही हैं. स्पर्धा का दूसरा राउंड अभी चल रहा है और अदिती दूसरे राउंड में संयुक्त रूप से 11वें और ओवरऑल लीडरबोर्ड में संयुक्त रूप से सातवें स्थान पर चल रही हैं.

अदिती मध्यांतर से पहले तक शानदार प्रदर्शन कर रही थीं और बिना एक भी शॉट चूके एक समय संयुक्त रूप से शीर्ष पर पहुंच गई थीं. लेकिन अदिती मध्यांतर के बाद दो बोगी लगा बैठीं.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Top