Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

राहुल गांधी बनें यूपी के सीएम

 Tahlka News |  2016-05-01 17:32:38.0

तहलका न्यूज ब्यूरो
लखनऊ. क्या उत्तर प्रदेश में राहुल गांधी बनेंगे कांग्रेस का चेहरा या प्रियंका गांधी को चेहरा बनायेगी कांग्रेस या फिर शीला दीक्षित पर दांव लगायेगी कांग्रेस? ऐसा कुछ हो जाए तो चौंकिएगा मत क्योंकि पहले मोदी, फिर नीतीश और अब राहुल गांधी के लिए सियासी प्लान बना रहे प्रशांत किशोर यानी पीके का प्लान ही कुछ इस तरह का है, जिसके तहत यूपी में बतौर सीएम कांग्रेस का चेहरा नंबर वन खुद राहुल गांधी ही हैं और उनको फौरन ये फैसला कर लेना चाहिए.


a1


ये है पीके का प्लान
सूत्रों के मुताबिक, पीके ने प्लान दिया है कि मायावती और अखिलेश के सामने कांग्रेस की तरफ से एक बड़ा और भरोसेमंद चेहरा होना जरूरी है. अगर राहुल गांधी खुद सीएम का चेहरा बनें और कांग्रेस यूपी जीते तो 2019 की जीत तय हो जाएगी. कांग्रेस यूपी में 2017 के चुनाव को जीतेगी तो मोदी सरकार आखिरी 2 सालों के लिए लेम-डक सरकार बनकर रह जाएगी. बतौर पीके, कांग्रेस को यूपी में किसी के साथ गठबंधन की जरूरत नहीं है. अगर राहुल नहीं तो फिर प्रियंका पर दांव लगाना होगा. 2019 तक इंतजार सही नहीं रहेगा.


ब्राह्मणों की घर वापस चाहते हैं पीके
सूत्र बताते हैं कि पीके की रणनीति अगड़ी जाति, मुस्लिम और पासी का समीकरण बनाने की है. बीजेपी पहले ही ओबीसी पर दांव लगा चुकी है. इसीलिए वो लगातार बड़े ब्राह्मण चेहरे पर जोर दे रहे हैं. रणनीति के तहत अगर ब्राह्मणों की कांग्रेस में घर घर वापसी होती है, आधा राजपूत मुड़ता है तो मुस्लिम भी कांग्रेस के पाले में आ सकते हैं. दरअसल, पीके यूपी चुनाव में कांग्रेस को आर-पार की लड़ाई लड़ने की सलाह दे रहे हैं और पूरी ताकत झोंकने को कह रहे हैं. इसके लिए वो बिहार की तर्ज पर साम्प्रदायिक ध्रुवीकरण की बीजेपी की सियासत से भी निपटने को तैयार हैं. पीके के करीबी मानते हैं कि बड़ा चुनाव जीतकर ही राहुल और कांग्रेस दोबारा खोयी शान वापस पा सकते हैं.


सीटों का समीकरण
सूत्रों का कहना है कि पीके के मुताबिक हालिया सियासी नतीजों का विश्लेषण करने पर पता चलता है कि कांग्रेस मजबूत चेहरे के साथ विकल्प बने और जीतती हुई दिखे तो 200 का आंकड़ा पार कर यूपी में सरकार बना सकती है या फिर पहले की तरह लड़े तो 28 की जगह 20 पर भी सिमट सकती है. 28 से 60, 70 की उम्मीद पूरी होना नामुमकिन जैसा है.


शीला दीक्ष‍ित पर भी नजर
पीके की सलाह पर गांधी परिवार इसी महीने फैसला सुना देगा. अगर राहुल या प्रियंका पर सहमति नहीं हुई तो पीके ने शीला दीक्षित का भी नाम सुझाया है. दरअसल, पीके की सलाह है कि कांग्रेस के वो ब्राह्मण चेहरे जो पिछले 27 सालों से यूपी की सियासत में हैं, उनसे काम नहीं चलेगा. 1 जून से पीके और उनकी टीम यूपी में काम शुरू कर देंगे. ऐसे में उसके पहले मई महीने में कांग्रेस अपने पत्ते खोल देगी.


जातीय समीकरण के मुताबिक होंगी नई नियुक्तियां
सूत्रों का मानना है कि चेहरे के साथ ही प्रदेश में पूरी नई टीम काम पर जुटेगी. प्रभारी महासचिव मधुसूदन मिस्त्री, प्रदेश अध्यक्ष निर्मल खत्री, विधायक दल के नेता प्रदीप माथुर समते प्रभारी सचिव भी बदल दिए जाएंगे. हालांकि निर्मल खत्री को किसी दूसरे पद पर रखकर उनका इस्तेमाल किया जाएगा. इन अहम पदों पर जातीय समीकरण के लिहाज से जाने-माने चेहरों की नियुक्तियां होंगी.


19 मई के बाद पत्ते खोलेगी कांग्रेस
माना जा रहा है कि फैसला तो दो हफ्तों में हो जाएगा, लेकिन घोषणा शायद 19 मई के बाद होगी. वजह है कि 19 मई को 5 राज्यों के नतीजों को लेकर कांग्रेस ज्यादा आश्वस्त नहीं है. इसलिए वो नतीजों के बाद नई टीम, नए चेहरे और और नई रणनीति के साथ कूदना चाहती है.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top