Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

गरीबों के इलाज की जिम्मेदारी सरकार की : अखिलेश

 Sabahat Vijeta |  2016-07-14 16:22:25.0

akh-era-3




  • पिछले चार वर्षों के दौरान राज्य सरकार ने गरीबों के इलाज के लिए अच्छी व्यवस्थाएं सुनिश्चित कीं: मुख्यमंत्री

  • गरीबों की सहूलियत के लिए सरकारी अस्पतालों में सभी प्रकार के जांचें निःशुल्क उपलब्ध कराई जा रही हैं

  • राज्य सरकार द्वारा पिछले चार सालों के दौरान एमबीबीएस की सीटों में 700 की वृद्धि करवायी गई

  • कैंसर सहित अन्य गम्भीर बीमारियों पर लगातार शोध की आवश्यकता

  • कम खर्च में गंभीर बीमारियों के इलाज पर विचार करना जरूरी

  • लखनऊ मेडिकल हब के रूप में विकसित हो रहा है

  • मुख्यमंत्री ने ‘मेडिकाॅन-2016’ को सम्बोधित किया


लखनऊ. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा है कि पिछले चार वर्षों के दौरान राज्य सरकार ने गरीबों के इलाज के लिए अच्छी व्यवस्थाएं सुनिश्चित की हैं। गरीबों की सहूलियत के लिए सरकारी अस्पतालों में सभी प्रकार के जांचें निःशुल्क उपलब्ध कराई जा रही हैं। इसके अलावा मरीजों के लिए दवा, एक्स-रे इत्यादि की व्यवस्था भी निःशुल्क मुहैया कराई जा रही है। राज्य सरकार द्वारा पिछले चार सालों के दौरान एमबीबीएस की सीटों में 700 की वृद्धि करवायी गई। इसके अलावा कई नए मेडिकल काॅलेज भी स्थापित करवाए गए हैं। उन्होंने कहा कि इसके चलते गरीबों को उत्कृष्ट चिकित्सा सेवाएं निःशुल्क मिल रही हैं।


मुख्यमंत्री आज यहां एराज लखनऊ मेडिकल काॅलेज में आयोजित ‘मेडिकाॅन-2016’ को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि समाजवादियों का मानना है कि गरीबों के इलाज की जिम्मेदारी सरकार की है। इसलिए सरकार समाज के कमजोर तबके को इलाज की अच्छी सुविधाएं उपलब्ध करा रही है। गरीबों के इलाज में चिकित्सकों की कमी आड़े न आए, इसके दृष्टिगत राज्य सरकार मेडिकल काॅलेजों की स्थापना को प्राथमिकता दे रही है।


akh-era


श्री यादव कहा कि इस कार्यक्रम का आयोजन मेडिकल के अण्डरग्रेजुएट छात्रों में रिसर्च को बढ़ावा देने तथा उनको राष्ट्रीय स्तर पर एक प्लेटफार्म देने के उद्देश्य से हर साल किया जाता है। यह खुशी की बात है कि यह आयोजन पहली बार उत्तर प्रदेश में किया जा रहा है। उन्होंने उम्मीद जताई कि इस आयोजन से मेडिकल की पढ़ाई कर रहे सभी छात्र-छात्राओं को उपयोगी जानकारी मिलेगी, जो आगे मरीजों के इलाज में उनकी काफी मदद करेगी। उन्होंने इलाज के दौरान रोगियों को कम दवाओं से ठीक करने की जरूरत पर बल दिया। उन्होंने कैंसर सहित अन्य गम्भीर बीमारियों पर लगातार शोध की आवश्यकता को रेखांकित करते हुए कहा कि इन बीमारियों को कम खर्च में कैसे ठीक किया जाए, इस पर भी सोचा जाना चाहिए।


श्री यादव ने संतोष जताया कि एराज मेडिकल काॅलेज में गरीबों को इलाज की सभी सुविधाएं बहुत ही कम दामों पर उपलब्ध कराई जा रही हैं। उन्होंने मेडिकल के अण्डरग्रेजुएट छात्र-छात्राओं से कहा कि जब वे अपनी पढ़ाई पूरी कर लें और मरीजों का इलाज शुरू करें तो गरीब और कमजोर लोगों को सम्मान देते हुए उन्हें राहत पहुंचाने का काम करें। उन्होंने इस मेडिकल काॅलेज में उपलब्ध अवस्थापना सुविधाओं की भी तारीफ की। उन्होंने आशा व्यक्त की कि यह मेडिकल काॅलेज शीघ्र ही मेडिकल यूनिवर्सिटी का रूप ले लेगा। उन्होंने मेडिकल छात्रों से चिकित्सा क्षेत्र में मौजूद कुप्रथाओं तथा भ्रष्टाचार से भी निपटने की शपथ लेने को कहा।


मुख्यमंत्री ने कहा कि किसी भी देश की तरक्की के लिए अच्छी शिक्षा और बेहतर स्वास्थ्य सेवाएं बहुत जरूरी हैं। इस तथ्य को ध्यान में रखते हुए समाजवादी सरकार ने इन दोनों क्षेत्रों पर विशेष रूप से फोकस किया है। उन्होंने कहा कि निजी क्षेत्र के साथ आने से अब इस क्षेत्र में एक नई पहल हो रही है। उन्होंने कहा कि लखनऊ धीरे-धीरे मेडिकल हब के रूप में विकसित हो रहा है। मेदांता हाॅस्पिटल की स्थापना भी लखनऊ में की जा रही है।


akh-era-1


श्री यादव ने कहा कि समाजवादियों ने हमेशा जनता को अच्छी से अच्छी स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराने का प्रयास किया है। इसी क्रम में कई नए मेडिकल काॅलेज तथा पैरा मेडिकल काॅलेज राज्य में स्थापित कराए जा रहे हैं। इस समय प्रदेश में एलोपैथी के 12 सरकारी मेडिकल काॅलेज संचालित हैं। इसके अलावा कई जनपदों में सरकारी मेडिकल काॅलेज भी स्थापित किए जा रहे हैं। इन काॅलेजों की स्थापना से जहां एक ओर लोगों को इलाज की बेहतर सुविधाएं उपलब्ध होंगी, वहीं दूसरी ओर आर्थिक रूप से कमजोर छात्रों को चिकित्सा शिक्षा भी उपलब्ध कराई जा सकेगी।


मुख्यमंत्री ने कहा कि केजीएमयू, डाॅ. राम मनोहर लोहिया इन्स्टीट्यूट आॅफ मेडिकल साइंसेज, एसजीपीजीआई तथा उ.प्र. आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय, सैफई जैसे संस्थानों में लोगों को उच्च स्तरीय चिकित्सा सेवाएं उपलब्ध कराई जा रही हैं। इसके अलावा राज्य सरकार द्वारा गोरखपुर तथा रायबरेली में एम्स की स्थापना के लिए जमीन मुहैया कराई जा चुकी है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार गरीबों के साथ-साथ प्रदेश के सभी नागरिकों को अच्छी स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध कराने के लिए कटिबद्ध है और इसके लिए लगातार प्रयास कर रही है।


कार्यक्रम को धर्मगुरू मौलाना डाॅ. क़ल्बे सादिक, एराज लखनऊ मेडिकल काॅलेज की प्रिंसिपल प्रो. कुमकुम श्रीवास्तव, डाॅ. के.एस. भार्गव, प्रो. गुस्ताव ने भी सम्बोधित किया।


akh-era-2


इससे पूर्व, मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम का शुभारम्भ दीप प्रज्ज्वलित कर किया। मुख्यमंत्री को काॅलेज की ओर से एक स्मृति चिन्ह भी भेंट किया गया। इस अवसर पर उन्होंने मेडिकल काॅलेज की स्मारिका तथा न्यूज लेटर का विमोचन भी किया। उन्होंने मेडिकल काॅलेज के स्टाफ, छात्रों तथा कार्यक्रम के आयोजकों को सम्मानित भी किया। कार्यक्रम के दौरान राजनैतिक पेंशन मंत्री राजेन्द्र चौधरी, काॅलेज के शिक्षक, छात्र-छात्राएं तथा बड़ी संख्या में गणमान्य नागरिक मौजूद थे।

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Top