Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

माहौल को सियासी तौर पर गर्माने की साज़िश रच रहा है बजरंग दल

 Sabahat Vijeta |  2016-05-25 15:58:14.0

bajrangलखनऊ. समाजवादी पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता राजेन्द्र चौधरी ने कहा है कि मुख्यमंत्री अखिलेश यादव समय-समय पर साजिशें होने की जो आशंका व्यक्त करते हैं, उसके लक्षण दिखाई देने लगे हैं। अयोध्या में बजरंग दल के प्रशिक्षण शिविर ऐसे ही नही लगा है उसके पीछे माहौल को सियासी तौर पर गर्माने की चाल है। आत्मरक्षा का बहाना बनाकर ऐसे शिविरों को जो औचित्य ठहराने की कोशिश करते है वे वास्तव में सांप्रदायिकता की अंधी सुरंग का रास्ता खोलने का काम करने वाले हैं। दुर्भाग्यपूर्ण स्थिति तो यह है कि आरएसएस की शाखा के सदस्य जो अब विभिन्न संवैधानिक पदो पर है या दूसरे दायित्वों को संभाल रहे हैं। वे अपने पद की गरिमा का निर्वहन करने के बजाय सांप्रदायिकता की इस कुत्सित भावना के विस्तार के पक्ष में खड़े हो गए है।


उत्तर प्रदेश में जबसे समाजवादी सरकार बनी है विपक्ष की प्रतिक्रियाएँ नकारात्मक ही रही है। इसमें भी खासकर भाजपा और उसके मातृसंगठन आरएसएस की भूमिका सामाजिक सद्भाव को बिगाड़ने की रही है। मुजफ्फरनगर, कांठ के अतिरिक्त धर्मान्तरण, लव जिहाद, घर वापसी जैसे मुद्दे उछालकर प्रदेश में शांति व्यवस्था को बिगाड़ने की विफल कोशिशें भी इसी साजिश का अंग रही है।


सांप्रदायिक ताकतें आतंक के सहारे अपना एजेन्डा चलाती हैं। बजरंग दल का प्रशिक्षण शिविर इसी क्रम में रखा जा सकता है। ये ताकतें जनता को डराना चाहती हैं। उनका इरादा लोगों को आतंकित करना है। बाबरी मस्जिद का ध्वंस इस साजिश की शुरुआत मानी जा सकती है। समय-समय पर काशी, मथुरा को लेकर भी भड़काऊ बयानबाजी की जाती है। इस सबका उद्देश्य किसी भी तरह सांप्रदायिकता को बढ़ावा देना है ताकि जनता में वैमनस्य की भावना बढ़े।


उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी सांप्रदायिकता के खिलाफ सतत संघर्षशील रही है। अपने विकास के कार्यो से अखिलेश यादव ने विरोधी ताकतों को पीछे कर दिया है और एक नया माहौल बनाया है। केन्द्र के सौतेले व्यवहार के बावजूद अपने साधनों से जनहित की तमाम योजनायें समाजवादी सरकार ने शुरु की हैं।


एक बात सभी साजिश करने वालों को याद रखना चाहिए कि उत्तर प्रदेश में कानून का राज है और जो भी सांप्रदायिकता सौहार्द को बिगाड़ने और शांति व्यवस्था में खलल डालने का प्रयास करेगा उसके खिलाफ सख्त कार्यवाही होगी। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव प्रदेश में आतंक और सांप्रदायिकता फैलाने की कोशिशों की किसी भी स्तर पर सफल नही होने देने वाले हैं। यहाँ विकास की गतिविधियों के आगे नकारात्मक राजनीति और सांप्रदायिक सोच को जनता कभी तरजीह नही देगी।

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Top