Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

पीएफ मुद्दे पर हिंसक हुए श्रमिक, आगज़नी और पथराव

 Sabahat Vijeta |  2016-04-19 13:00:47.0

bengaluru-protestबेंगलुरू, 19 अप्रैल. एक गारमेंट फैक्ट्री के कामगारों ने भविष्य निधि के नियमों में बदलाव के विरोध में मंगलवार को मैसूर-बेंगलुरू राजमार्ग को जाम कर प्रदर्शन किया. पुलिस और प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि प्रदर्शनकारियों ने कई वाहनों में आग लगा दी. पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि प्रदर्शनकारियों ने पत्थरबाजी की और हेब्बागोड़ी पुलिस थाने में आग लगा दी. भीड़ ने थाने के पास खड़े वाहनों में आग लगा दी. करीब 20 प्रदर्शनकारियों को गिरफ्तार किया गया है. पुलिस ने चेतावनी के लिए हवा में गोलियां भी चलाईं. भविष्य निधि निकासी के नियम में केंद्र सरकार ने जो बदलाव किए हैं, उसके विरोध में कामगार सोमवार से ही प्रदर्शन कर रहे हैं. भविष्य निधि राशि से कर्मचारी के 58 के होने तक उसके योगदान की निकासी पर रोक लगाने के नियम को केंद्र सरकार ने मंगलवार को और तीन महीने के लिए स्थगित कर दिया.


bengaluru-protest-fireपीएफ निकालने संबंधी नए नियम के विरोध में बेंगलुरु के कपड़ा उद्योग के श्रमिकों का प्रदर्शन अचानक मंगलवार को हिंसक रूप में आ गया. आगज़नी और पथराव के बाद पूरे शहर में भीषण ट्रैफिक जाम हो गया.


होसुर रोड, तुमकुर रोड और जलाहल्ली से शुरू हुआ प्रदर्शन धीरे-धीरे बेकाबू होने लगा. प्रदर्शनकारियों ने एक पुलिस अधिकारी को घेर लिया, इसके बाद पुलिस ने हवाई फायरिंग की. बेकाबू भीड़ को काबू करने के लिए पुलिस ने आंसू गैस का भी सहारा लिया. जिससे कई लोग घायल हो गए.


कर्नाटक के गृहमंत्री जी परमेश्वरा ने शांति की अपील करते हुए कहा कि प्रदर्शन की कोई जरूरत नहीं है. हालांकि केंद्र सरकार ने पीएफ से जुड़े विवादित नियम को फिलहाल टाल दिया है लेकिन प्रदर्शन करने वाले श्रमिक पीएफ संबंधी नियम में किए गए बदलाव का विरोध कर रहे हैं. उनका कहना है कि नए नियम लागू हुए तो हमें कम राशि मिलेगी और 58 साल की उम्र तक फंड भी निकाल नहीं सकेंगे. बेंगलुरु शहर में सैकड़ों कपड़ा बनाने वाली इकाइयां हैं. इनमें करीब 5 लाख श्रमिक करते हैं.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Top