Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

लखनऊ में पानाश ने शिक्षा के लिए किया लाइफ स्टाइल एक्सपो

 Sabahat Vijeta |  2016-09-03 17:33:24.0

panash




  • आकांक्षा समिति की अध्यक्ष अनीता सिंघल और फेमिना मिस इंडिया ग्रांड 2016 पंखुड़ी गिडवानी ने किया पनाश 2016 का उद्घाटन

  • पनाश-2016 में नवीनतम ट्रेंड लेकर उपस्थित हैं देश के 60 से अधिक राष्ट्रीय स्तर के डिजाइनर

  • निकेत मिश्रा, सुनीता नागी, अन्सुरी, स्टूडियो एक्सएलएनसी, आइना एवं सुगंधा सेठ जैसे नामी डिजाइनरों की उपस्थिति

  • पनाश- 2016 से प्राप्त आय को आरटीआई एवं एलसीआई द्वारा लखनऊ -कानपुर राजमार्ग पर स्थित जिला उन्नाव के आशा खेड़ा गांव में गरीब बच्चों हेतु बन रहे विद्यालय भवन पर खर्च किया जाएगा

  • पनाश संभवतः देश का एकमात्र ऐसा फैशन एक्सपो है जिसकी पूरी आमदनी चौरिटी में दे दी जाती है


लखनऊ. राउंड टेबल इंडिया (आरटीआई) की ओर से आज यहां शहर के विवान्ता ताज होटल फेमिना मिस इंडिया ग्रांड 2016 - पंखुड़ी गिडवानी द्वारा राउंड टेबल इंडिया की समाज कल्याण मुहिम - शिक्षा के जरिये स्वतंत्रता को समर्थन देने का संकल्प लिया गया. इसके बाद राउंड टेबल इंडिया के लखनऊ चैप्टर द्वारा आयोजित किये जा रहे फंडरेजर कार्यक्रम पानाश-2016 का उद्घाटन हुआ.


कार्यक्रम की मुख्य अतिथि थीं आकांक्षा यूपी की प्रेसीडेंट श्रीमती अनीता सिंघल. उन्होंने साधनहीन बच्चों की प्राथमिक शिक्षा को बढ़ावा देने की दिशा में शानदार कार्य करने के लिये राउंड टेबल इंडिया एवं लेडीज सर्कल इंडिया की सराहना की.


अनीता सिंघल ने बताया कि इस आयोजन के माध्यम से एकत्रित धन से गरीब बच्चों के लिये लखनऊ -कानपुर राजमार्ग पर एक स्कूल का निर्माण किया जा रहा है.


उन्होंने बताया कि स्वतंत्रता प्राप्ति के 67 वर्षों बाद भी भारत में लाखों बच्चे कभी स्कूल नहीं जा पाते हैं. ऐसे निर्धन बच्चों की मदद के लिये आरटीआई ने वर्ष 1996 में पूरे देश में अच्छे विद्यालयों के निर्माण हेतु अनेक परियोजनाओं को हाथ में लेना शुरू किया. गरीब बच्चों की शिक्षा के लिये, वर्ष 1998 में आरटीआई ने राष्ट्रीय स्तर पर फ्रीडम थ्रू एजूकेशन (एफटीई) की नींव रखी. आरटीआई का फोकस भवन निर्माण पर है, ताकि शिक्षा का कार्य लंबे समय तक चले. इसके तहत देश भर में एफटीई स्कूल ब्लॉक तैयार किये जा रहे हैं.


एफटीई कार्यक्रम के तहत ऐसे जरूरतमंद विद्यालयों की खोज की जाती है जो खराब हालत में हैं अथवा खुले में चल रहे हैं. ऐसे विद्यालय जिनके पास जमीन तो है, परंतु भवन निर्माण की क्षमता नहीं है. आरटीआई संपूर्ण जरूरी सुविधाओं के साथ इनके स्कूल ब्लॉक का निर्माण कराती है और तैयार करके विद्यालय प्रबंधन को सौंप देती है. लखनऊ में निर्धन बच्चों के लिये ऐसे एक विद्यालय परिसर का निर्माण लखनऊ -कानपुर राजमार्ग पर स्थित आशा खेड़ा गांव में किया जा रहा है.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top