Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

पाकिस्तान में सेना और सरकार के मतभेद उजागर

 Sabahat Vijeta |  2016-03-31 13:19:32.0

Pakistan's President Mamnoon Hussain, center on a military vehicle, reviews a military parade to mark Pakistan's Republic Day in Islamabad, Pakistan, Wednesday, March 23, 2016. Pakistan's President praised his country's security forces and pledged to continue the fight against terrorism, speaking at a rally during a national holiday. During the rally, attended by several thousand people, Pakistan displayed nuclear-capable weapons, tanks, jets, drones and other weapons systems. (AP Photo/Anjum Naveed)

इस्लामाबाद, 31 मार्च| पाकिस्तानी सेना के प्रवक्ता ने एक ट्वीट में देश में नागरिक-सेना के बीच मतभेदों को उजागर किया है। समाचार पत्र डेली टाइम्स के मुताबिक, "लेफ्टिनेंट जनरल असीम बाजवा के ट्वीट व बयानों ने मतभेदों को ऐसे समय में उजागर किया है, जब आतंकवाद के खिलाफ जंग में देश के दोनों पक्षों से बेहतरीन समन्वय की उम्मीद की जा रही है।"


अखबार के मुताबिक, "सेना की उम्मीदों के मुताबिक, सरकार काम नहीं कर रही, लेकिन मतभेदों का इस तरह से सार्वजनिक होना आतंकवाद व अतिवाद से लड़ाई में लाभकारी साबित नहीं होगा।"


अखबार ने सरकार की सर्वोच्चता को कमतर आकना और सेना के प्रभाव को इस तरह आकना, जैसे वह सरकार से ऊपर की संस्था हो, इसके प्रति चेतावनी दी है। लाहौर पार्क में 27 मार्च को फिदायीन हमले के बाद जनरल बाजवा ने घोषणा की कि सेना प्रमुख ने आतंकवादियों के खिलाफ अभियान की घोषणा के लिए एक उच्चस्तरीय बैठक की अध्यक्षता की थी। हमले में 70 से अधिक लोग मारे गए।


अखबार ने कहा कि लाहौर हमले के बाद प्रधानमंत्री नवाज शरीफ तथा पाकिस्तान सेना के प्रमुख अलग-अलग बैठकें कर रहे हैं और उन्होंने समन्वित प्रयास के लिए अभी तक बैठक नहीं की है।


सेना ने यह भी कहा कि जनरल शरीफ ने ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी को पाकिस्तान के आंतरिक मामलों खासकर बलूचिस्तान में भारतीय खुफिया एजेंसी रॉ की संलिप्तता से अवगत कराया है। लेकिन ईरान के राष्ट्रपति ने रॉ के मुद्दे पर चर्चा से इंकार कर दिया है।

  Similar Posts

Share it
Top