Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

उनके लोग हमारे बन रहे थे इसलिये रिश्तों से डर गई पत्थरों वाली सरकार : अखिलेश

 Sabahat Vijeta |  2016-10-09 10:22:37.0

coffee-table-book
तहलका न्यूज़ ब्यूरो


लखनऊ. अपने नये ऑफिस लोक भवन में 4 किताबों के विमोचन समरोह में मुख्यमंत्री अखिलेश यादव आज काफी कांफिडेंट दिखे. समर्थन में नारे लगा रहे नौजवानों ने उन्होंने साफ़ तौर पर कहा की उनके पास पांच महीने हैं. पांच महीने मेहनत करेंगे तो पांच साल कि सरकार फिर मिल जायेगी. उन्होंने कहा कि अपने इस कार्यकाल में उन्होंने ताजगंज को हजरतगंज से जोड़ दिया है. दूसरी सरकारें जातियां देखकर विकास कि प्राथमिकता तय करती हैं लेकिन हमारी सरकार ने आबादी देखकर विकास का पैमाना तय किया है.


अखिलेश यादव ने कहा कि हमारी सरकार में जो सड़कें बनी हैं उसमें कहीं गड्ढा देखने को नहीं मिलेगा. वह लम्बे समय तक चलने वाली सड़कें हैं. प्रदेश के अधिकांश जिलों को हमने फोर लेन सड़कों से जोड़ा है. आगरा से लायन सफारी तक आने वाले दिनों में लोग सायकिल से जा सकेंगे. उन्होंने कहा कि हम अगर लैपटाप कि बात करते हैं तो कामधेनु कि बात भी करते हैं. सड़कें ऐसी बनवाते हैं कि 120 कि रफ़्तार में भी गाड़ी चले तो पानी छलकता नहीं है. विपक्ष इस पर भी सवाल उठा सकता है लेकिन हमारा विकास सभी को दिख रहा है.


मायावती पर कटाक्ष करते हुए अखिलेश ने कहा कि हम तो राजनीति में काम के साथ रिश्ते भी बनाकर चलना चाहते हैं लेकिन पत्थरों वाली सरकार को हमारा बनाया रिश्ता इसलिए पसंद नहीं आ रहा क्योंकि उनकी पार्टी के लोग हमसे जुड़ते जा रहे हैं. उन्हें लगता है कि जब भतीजा अच्छा काम कर रहा है तो फिर इसी को ही क्यों न कंटीन्यू किया जाये.


कार्यक्रम के दौरान लग रहे नारों से उत्साहित अखिलेश ने कहा कि नौजवान उत्साहित तो हैं लेकिन नारों कि ठीक से तैयारी नहीं किए हैं. नारा लगा कि अखिलेश भैया कोहिनूर. तो भाई कोहिनूर का इतिहास पता कर लो कि कहाँ चला गया. एक नारा लगा विकास का पहिया अखिलेश भैया. एक और नारा लगा जय अखिलेश. नारे अच्छे हैं मगर हमें तो तभी अच्छे लगेंगे जब सरकार फिर से बनेगी.


उन्होंने कहा कि काम हमने भरपूर किया है. पांच महीने बचे हैं इसमें काम का प्रचार कर दो फिर से सरकार बन जायेगी.


मुख्यमंत्री के सलाहकार आलोक रंजन ने कहा कि साढ़े चार साल में यूपी का जितना विकास हुआ पहले कभी नहीं हुआ था. 302 किलोमीटर का लखनऊ आगरा एक्सप्रेस वे रिकार्ड दो साल में तैयार हो गया. 22 महीने में मेट्रो तैयार हो गई. कानपुर, आगरा, मेरठ और बनारस में भी मेट्रो कि तैयारी है. मेडिकल कालेज की सीटें 1100 से बढ़ाकर 2000 कर दीं. मुफ्त डायलेसिस कि सुविधा दे दी.


majaz


नवीन चन्द्र वाजपेयी ने कहा कि यह बहुत खुशी कि बात है कि उत्तर प्रदेश सरकार कि उपलब्धियां बताने के लिए चन्दन मित्रा के संपादन में काफी टेबिल बुक यूपी द ग्रोथ फैक्ट्री का आज विमोचन हो रहा है. उन्होंने कहा कि बहुत जल्द मुख्यमंत्री इसके दूसरे भाग का भी विमोचन करेंगे. उन्होंने कहा कि मुख्यमन्त्री ने पांच बजट पेश किए. पाँचों बजट मील के पत्थर साबित हुए हैं. उन्होंने कहा कि हमारी ग्रोथ रेट 7.1 फीसदी है जो पहले कभी नहीं थी. उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री चाहते तो अपने ऑफिस का नाम लोकतंत्र भवन रख सकते थे लेकिन उन्होंने इसका नाम लोक भवन रखा ताकि यूपी में लोक तन्त्र पर हावी रहे.


मुख्यसचिव राहुल भटनागर ने कहा कि पिछले 4-5 साल में यूपी का जितना विकास हुआ पहले कभी नहीं हुआ. उन्होंने कहा कि 2012 में यूपी के विकास की डर 2.9 फीसदी थी जो 2016 में 6.6 फीसदी हो गई है. यूपी का बजट देश में सबसे बड़ा बजट है. यूपी के बाद महाराष्ट्र का नंबर आता है. सड़कें, सिंचाई, बिजली और इंफ्रास्ट्रक्चर पर सरकार ने खूब खर्च किया है. आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस वे के बाद लखनऊ-बलिया एक्सप्रेस वे की तैयारी है.


इस मौके पर यूपी द ग्रोथ फैक्ट्री के संपादक चन्दन मित्रा ने बताया कि अरुणाचल प्रदेश के बाद उन्होंने यूपी के विकास पर काफी टेबिल बुक तैयार की. उन्होंने कहा कि यूपी लगातार तरक्की कि तरफ बढ़ रहा है. उन्होंने कहा कि यह पुस्तक अंग्रेज़ी में प्रकाशित की गई है ताकि यूपी में आने वाले निवेशकों को यहाँ के विकास के बारे में विस्तार से जानकारी मिल सके. उन्होंने कहा कि शहरों को जोड़ने कि पहल बहुत अच्छे बात है. इससे हस्तशिल्पियों कि तरक्की के दरवाज़े खुलेंगे.


मुख्यमंत्री के सलाहकार ए.एम. खान ने कहा कि सूचना विभाग द्वारा प्रकाशित नयी उमंग में यूपी सरकार के विकास कार्यों को दर्शाया गया है. इस किताब में खासकर अल्पसंख्यकों के बारे में किए गए कामों पर रौशनी डाली गई है. उन्होंने कहा कि यूपी सरकार ने रफीकुल मुल्क मुलायम सिंह यादव आईएएस स्टडी सेंटर खोला. इसमें पढ़ने वाले 28 छत्रों ने जो तरक्की कि वह इसमें मिलेगा. उर्दू अकादमी में मॉस काम कि क्लास शुरू कि. पुराने लखनऊ को माडर्न लुक दिया. मुसलामानों को नौकरियों में 20 फीसदी रिज़र्वेशन कि बात कही.


सूचना विभाग के उप निदेशक डॉ. वजाहत हुसैन रिजवी ने कहा कि आज विमोचित होने वाला नया दौर का मजाज़ अंक आपके हवाले है, उन्होंने कहा कि मौलाना मोहम्मद अली जौहर अंक देखने के बाद मुलायम सिंह यादव ने मुझे बुलाकर इसका हिन्दी अनुवाद करने को कहा था ताकि वह भी उसे पढ़ सकें. इसी क्रम में मजाज़ पर भी हिन्दी अनुवाद किया गया. उन्होंने कहा कि खुमार, उर्दू पत्रकारिता और अली बिरादरान का भी हिन्दी अनुवाद जल्द सामने आएगा.


मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने आज लोक भवन में मजाज़ अंक, यूपी द ग्रोथ फैक्ट्री (काफी टेबिल बुक) और डॉ. हरी ओम कि किताब ख़्वाबों कि हंसी का विमोचन किया. कार्यक्रम में प्रदेश सरकार के मंत्री अहमद हसन, प्रो. अभिषेक मिश्र, राजेन्द्र चौधरी, राम मूर्ती वर्मा, प्रमुख सचिव सूचना नवनीत सहगल और सचिव संस्कृति डॉ. हरिओम भी मौजूद थे.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Top