Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

पिछड़ी जातियों का समस्त अधिकार जाति विशेष के मजबूत लोगों के लिये ही आरक्षित है

 Sabahat Vijeta |  2016-12-29 14:55:01.0

cp-joshi


लखनऊ. उत्तर प्रदेश के अति पिछड़ा वर्ग की समुचित भागीदारी सुनिश्चित किये जाने हेतु उत्तर प्रदेश काँग्रेस कमेटी के तत्वाधान में आज यहां प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में ‘‘अति पिछड़े वर्ग प्रतिनिधियों का महासम्मेलन’’ आयोजित किया गया. सम्मेलन का संयोजन अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के सचिव एवं उ.प्र. काँग्रेस के वरिष्ठ उपाध्यक्ष-पूर्व सांसद राजाराम पाल ने किया. कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के महासचिव-पूर्व केन्द्रीय मंत्री सी.पी. जोशी मौजूद रहे. कार्यक्रम में प्रदेश के लगभग समस्त जनपदों से अति पिछड़ा वर्ग के हजारों प्रतिनिधियों ने भाग लिया.


इस मौके पर कार्यक्रम के संयोजक पूर्व सांसद राजाराम पाल ने अपने सम्बोधन में सम्मेलन के उद्देश्य को स्पष्ट करते हुए कार्यक्रम की प्रस्तावना ‘‘जाति से जमात’’ की पुरजोर वकालत की और उपस्थित अतिपिछड़ा समाज के प्रतिनिधियों को जमात के फायदे बताये. उन्होने राजस्थान, बिहार सहित अन्य प्रदेशों की तर्ज पर यूपी में भी पिछड़ा वर्ग आरक्षण 27 प्रतिशत में से 22 प्रतिशत पृथक करने का आह्वान किया. उन्होंने याद दिलाया कि पिछड़ा आरक्षण वर्तमान में सत्ताधारी दल का ग्रास बन चुका है. तमाम पिछड़ी जातियों का समस्त अधिकार जाति विशेष के मजबूत लोगों के लिये ही आरक्षित कर दिया गया है, जिससे अति पिछड़ी जातियों के कमजोर लोगों में असंतोष व्याप्त है. श्री पाल ने कहा कि जिन अति पिछड़ी जाति के लोगों को पिछड़ा आरक्षण का लाभ नही मिल पा रहा है, उन लोगों को एक जमात बनाकर अपने अधिकार को सुरक्षित करना ही एकमात्र विकल्प है. श्री पाल ने अतिपिछड़ों के आरक्षण को पृथक किये जाने का मसौदा खींचने के लिये काँग्रेस नेतृत्व का आभार व्यक्त किया.


कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में मौजूद सी.पी. जोशी ने सम्मेेलन में अपार हर्ष व्यक्त किया और कहा कि काँग्रेस पार्टी ने एक ऐसे नेता को अतिपिछड़े वर्ग का नेतृत्व सौंपा जो जाति नही जमात की बात करता है. उन्होने कहा कि काँग्रेस जाति और धर्म का भेद नहीं करती हैं. पिछड़ा होना वास्तव में एक सामाजिक श्रेणी है, जिसके उन्मूलन के लिये काँग्रेस वचनबद्ध है. उन्होने कहा कि पिछड़े वर्ग से अतिपिछड़ा वर्ग को पृथक कर समुचित लाभ दिलाने को काँग्रेस अपने घोषणापत्र में शामिल करेगी. कांग्रेस सत्ता में आती है तो अतिपिछड़ों के आरक्षण को स्थानीय निकायों एवं पंचायतों में अलग से देने का कार्य करेगी. उन्होने कहा कि पारदर्शी नीतियों के तहत ही अतिपिछड़ों को लाभ मिल सकता है अत्यधिक ताकतवर और शिक्षित होने के लिए संगठन का बोध आवश्यक है. इसलिए उन्होने इन अतिपिछड़े वर्ग के तमाम जातियों के लोगों को कांग्रेस के पक्ष में लामबन्द होने और प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनाने का आवाहन किया.


सम्मेलन में सांसद पी.एल. पुनिया ने कहा कि काँग्रेस पार्टी सामाजिक न्याय की रक्षा के लिये अति पिछड़ों की बेहतरी के कार्य करेगी. उन्हानेे आह्वान किया कि अतिपिछड़ा समाज काँग्रेस कैडर की तरह से काम करके यदि काँग्रेस को प्रदेश की सत्ता में वापस लाती है तो काँग्रेस पार्टी उत्तर प्रदेश में उनका आरक्षण पृथक कर सामाजिक न्याय दिलाने का कार्य करेगी.

सम्मेलन का संचालन कानपुर नगर ग्रामीण के उपाध्यक्ष आनन्द वर्मा ने किया.


कार्यक्रम में मुख्य रूप से उ.प्र. कांग्रेस के वरिष्ठ उपाध्यक्ष एवं पूर्व मंत्री रणजीत सिंह जूदेव, पूर्व विधायक रामेश्वर भाई, पूर्व विधायक लालचन्द निषाद, पूर्व विधायक ध्रुव राम चौधरी, प्रदेश कांग्रेस के महासचिव चौधरी सत्यवीर सिंह, कैलाश पाल पूर्व महामंत्री प्रदेश कांग्रेस बिहार, श्रीमती सम्पत पाल, तूफानी निषाद, राजपाल बघेल, सियाराम पाल एडवोकेट, छोटेलाल चौरसिया, श्रीमती सीमा विश्वकर्मा, लल्ला मान सिंह बंजारा, राजू कश्यप एडवोकेट, नौशाद आलम मंसूरी, इजहारूल अंसारी, पप्पू प्रधान, अनिल कटियार, पूर्णमासी प्रजापति, श्रीमती हेम कुमारी पटेल, राजेन्द्र राठौर, रामकिशन राजभर, रामायन चौरसिया, देवमुनि राजभर, शिवनाथ विश्वकर्मा, रामकुमार गौड़, पवन सबिता, चोब सिंह बघेल जिलाध्यक्ष एटा, दीनानाथ चौरसिया आदि प्रदेश के कोने से कोने से अतिपिछड़े वर्ग के प्रमुख भारी संख्या में मौजूद रहे।.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Top