Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

रेलमंत्री से खफा उत्तर भारतीय यात्रियों के लिये 'प्रभु' ने चलाई ये समर स्पेशल ट्रेंने

 Tahlka News |  2016-04-23 05:24:10.0

download

तहलका न्यूज ब्यूरो
मुंबई, 23 अप्रैल. गर्मी की छुट्टियों में अपने गांव जाने वाले महानगर और आसपास के इलाकों के उत्तर भारतीय इस बार रेलमंत्री सुरेश प्रभु को कोस रहे हैं। रेलवे को आर्थिक रूप से मजबूत करने के नाम पर इस बार नाममात्र के लिए ग्रीष्मकालीन विशेष ट्रेंने चलाई गई। इससे मुंबई के उत्तर भारतीयों में रेल मंत्रालय को लेकर भारी नाराजगी है। रेलमंत्री प्रभु को लेकर सोशल मीडिया पर भी लोग जमकर गुस्सा जाहिर कर रहे हैं, साथ ही सत्ताधारी भाजपा के उत्तर भारतीय नेताओं के सामने भी अपना आक्रोश जता रहे हैं। वहीं, इस बारे में रेलवे का कोई अधिकारी बात करने के लिए तैयार नहीं है।


बता दें कि गर्मी के मौसम से मुंबई से उत्तरभारत की तरफ जाने वाले यात्रियों की संख्या को देखते हुए सरकार हर साल बड़ी संख्या में ग्रीष्मकालीन विशेष ट्रेन चलाती थी। लेकिन यात्रियों की जेब काटने के लिए नए-नए तरीके खोजने वाले रेलमंत्री के इशारे ग्रीष्मकालीन ट्रेनों की संख्या में कटौती कर दी गई। जिससे उत्तरभारत की तरफ जाने वाली ट्रेनों में लोग अमानवीय स्थिति में यात्रा कर रहे हैं। हालांकि रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने यात्रियों की नाराजगी को देखते हुए कुछ समर स्पेशल ट्रेंने चलाई हैं।

बीजेपी नेताओं ने दिखाई सक्रियता
हालांकि उत्तरभारत की ओर जानेवाली ट्रेनों के यात्रियों की तकलीफों को दूर करने के लिए मुंबई के बीजेपी नेताओं द्वारा दिखाई गई सक्रियता आखिर रंग लाई है। रेल मंत्री सुरेश प्रभु मुंबई में थे। मुंबई बीजेपी के महामंत्री अमरजीत मिश्र के नेतृत्व में एक प्रतिनिधिमंडल ने रेल मंत्री से मिलकर उत्तर भारत की ओर जानेवाले यात्रियों की तकलीफ की जानकारी उन्हें दी। रेल मंत्री ने मध्यरेल के महाप्रबंधक सुनील कुमार सूद, पश्चिम रेल के महाप्रबंधक अग्रवाल और रेल बोर्ड के अधिकारियों से बात की और यूपी, बिहार की ओर जाने वाली ट्रेनों में तुरंत अतिरिक्त कोच उपलब्ध कराने तथा अतिरिक्त ट्रेन शुरू करने का निर्देश दिया।


यूपी विधानसभा चुनाव का भी है डर
प्रभु के आदेश के बाद बीजेपी के प्रतिनिधिमंडल ने महाप्रबंधकों से अलग-अलग मुलाकात की। प्रतिनिधिमंडल के प्रमुख अमरजीत मिश्र इस बात के लिए अड़ गए कि शुक्रवार से ही एक अनारक्षित ट्रेन शुरू की जाए। बीजेपी नेताओं का कहना था कि प्रीमियम ट्रेन जैसी सुविधा खत्म कर सामान्य यात्रियों के दर्द की ओर ध्यान दिया जाए। प्रतिनिधिमंडल का कहना था कि इलाहाबाद, बनारस, दरभंगा, पटना, लखनऊ के लिए कुछ ट्रेन तत्काल शुरू की जाएं ताकि आसपास के लोग वहां उतरकर अपने गांव जा सकें। वहीं, जानकारी के अनुसार, इस बीच मुंबई बीजेपी का प्रतिनिधिमंडल रेलमंत्री सुरेश प्रभु से सतत संपर्क बनाए हुए था। नेताओं को इस बात का भी डर है कि कहीं उत्तर भारतीय यात्रियों की नाराजगी का इसका भाजपा को यूपी विधानसभा चुनाव में भुगतना न पड़े।


नई ट्रेन की हुई घोषणा


अमरजीत मिश्र ने बताया कि काफी जद्दोजहद के बाद शुक्रवार से ही गोरखपुर के लिए अनारक्षित डिब्बों की एक नई ट्रेन शुरू करने की घोषणा हुई है। इसके साथ ही शनिवार को बनारस के लिए आरक्षित और रविवार को पटना के लिए अनारक्षित ट्रेन चलाने की भी घोषणा हुई। यह गाड़ियां नियमित रूप से एक दिन छोड़कर चलाई जाएंगी। मिश्र ने बताया कि उन्होंने अनारक्षित डिब्बों के यात्रियों को ट्रेन में चढ़ाने के लिए किसी भी तरह का बल प्रयोग न किए जाने और पूरे-पूरे दिन यात्रियों को लाईन में खड़े रखने के बजाय चंद घंटे पहले ही कतार लगवाने की मांग भी की है।


नए नियम से भी लोग अंजान
टिकट वापसी के नए नियम के अनुसार जिसमें गाड़ी छूटने के 48 घंटे पहले तक टिकट कटने पर फर्स्ट एसी व एक्सक्यूटिव क्लास में 240 रुपये, सेकंड एसी व फर्स्ट क्लास में 200 रुपये, थर्ड एसी में 180 रुपये, स्लीपर में 120 व सेकंड क्लास में 60 रुपये कटनेवाले थे। ट्रेन रवाना होने के 48 से 12 घंटे के दौरान टिकट रद्द करने पर 25 प्रतिशत कटौती, 12 से 4 घंटे के दौरान 50 प्रतिशत, ट्रेन चलने से 4 घंटे पहले कोई रिफंड नहीं मिलेगा। इसके अलावा आरएसी व वेटिंग लिस्ट की टिकट पर क्लेरीकल चार्ज कटौती होगी। यह भी दोगुना कर दी है। साथ ही इन्हें ट्रेन चलने के आधा घंटे पहले तक ही रद्द किया जा सकता है। अन्यथा कोई रिफंड नहीं मिलेगा। पर रेलवे ने इन नियमों के प्रचार प्रसार के लिए कोई कदम नहीं उठाया।

टिकट वापसी सबसे बड़ी मुसीबत
वेटिंग टिकट वापसी के नए नियमों ने लोगों की परेशानी और बढ़ा दी है। एलटीटी कुर्ला से भदोही की यात्रा के लिए वेटिंग टिकट निकालने वाले मिथलेश सिंह कहते हैं कि रात 10 बजे चार्ट बनने पर पता चलता है कि टिकट कंफर्म नहीं हुआ। सुबह टिकट वापसी पर 75 फीसदी धन राशि नहीं मिलती। इसलिए रात में ही किसी तरह टिकट वापस किया। 4 हजार रुपए खर्च कर 3 एसी का वेटिंग टिकट निकालने वाले मनोज कुमार बताते हैं कि टिकट कंफर्म नहीं हुआ।

ट्रेने चलाने की घोषणा हुई
लोगों की नाराजगी का आभास होने के बाद आख़िरकार शुक्रवार की रात मध्य रेलवे ने ग्रीष्मकालीन ट्रेंने चलाने की घोषणा की। मध्यरेल्वे के प्रवक्ता के मुताबिक ग्रीष्मकालीन छुट्टियों के दौरान अतिरिक्त भीड़ को देखते हुए मध्य रेल, छत्रपति शिवाजी टर्मिनस मुंबई-गोरखपुर के बीच 28 तथा छत्रपति शिवाजी टर्मिनस पटना के बीच 26 अनारक्षित विशेष गाड़ियां चलाएगी। इन गाड़ियों में सभी डिब्बे सामान्य द्वितीय श्रेणी के रहेंगे। हालांकि इन गाड़ियों को चलाने में देरी हुई है। क्योंकि शादी विवाह के अधिकांश मुहुर्त बीतने को हैं।


गाड़ी नंबर कहां के लिए कितने बजे कब

गाड़ी नंबर      कहां के लिए              कितने बजे                           कब

01077 -   सीएसटी-गोरखपुर -      रात 11.35 -            26 और 30 अप्रैल, 4, 8, 12, 16, 20, 24, 28 मई और 1, 5, 9 13 जून

01078 -   गोरखपुर से सीएसटी -  दोपहर 2 बजे -       24, 28 अप्रैल, 2, 6, 10, 14, 18, 22, 26, 30 मई और  3, 7, 11, 15 जून

01069 -   सीएसटी-पटना -           रात 11.35 -            24, 28 अप्रैल, 2, 6, 10, 14, 18, 22, 26, 30 मई और 3, 7, 11 जून

01070-    पटना-सीएसटी -          सुबह 10 बजे -          26, 30 अप्रैल, 4, 8, 12, 16, 20, 24, 28 मई, 1, 5, 9, 13 जून

01055 -    सीएसटी-वाराणसी -    रात 11.35 -               23, 27 अप्रैल, 1, 5, 9, 13, 17, 21, 25, 29 मई, 2, 6, 10, 14 जून

01056 -    वाराणसी-सीएसटी -    सुबह 8 बजे -             25, 29 अप्रैल, 3, 7, 11, 15, 19, 23, 27, 31 मई, 4, 8, 12, 16 जून

(नोट: आज जाने वाली ट्रेन का आरक्षण शुरू है और अन्य गाड़ियों का आरक्षण विशेष शुल्क के साथ 24 अप्रैल से शुरू होगा।)

  Similar Posts

Share it
Top