Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

बसपा में स्वार्थी लोगों के लिए कोई जगह नहीं : राजभर

 Sabahat Vijeta |  2016-06-30 13:26:35.0

rajbhar


लखनऊ. बहुजन समाज पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष रामअचल राजभर ने आज यहाँ कहा कि बसपा में स्वार्थी किस्म के लोगों के लिये कोई स्थान नहीं है. पार्टी में बसपा के मानवतावादी मूवमेन्ट के लिये समर्पित लोगों के लिये ही समुचित सम्मान है.


आर.के. चौधरी द्वारा दोबारा से बसपा छोड़कर जाने पर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुये उन्होंने अपने बयान में कहा कि उनके जाने से न तो पहले पार्टी पर कोई प्रभाव पड़ा था और न ही अब कोई प्रभाव पड़ने वाला है.


उन्होंने कहा कि आर.के. चौधरी अपने स्वार्थ के कारण ही पहले पार्टी छोड़कर गये थे और फिर बाद में अपनी गलती की माफी माँग कर बसपा में वापस आ गये थे और उन्हें पार्टी में पूरा आदर-सम्मान दोबारा दिया गया. सन 2014 में लोकसभा का आम चुनाव लखनऊ में मोहनलालगंज (सुरक्षित) सीट से लड़ा था और वे चुनाव हार भी गये थे.


राजभर ने कहा कि बसपा के पक्ष में मजबूत हवा को देखते हुये आर.के. चौधरी ने अपना वायदा तोड़ते हुये विधानसभा चुनाव मोहनलालगंज से लड़ने की माँग की. इस पर उन्हें समझाया गया कि उनका वायदा था कि वे लोकसभा आमचुनाव ही लड़ेंगे और बाकी समय वह पार्टी संगठन में काम करेंगे, तो यह नया चुनाव स्वार्थ क्यों?


बसपा हाई कमान द्वारा विधानसभा आमचुनाव में टिकट दिये जाने से साफ इन्कार कर दिये जाने पर पार्टी संगठन में इनकी दिलचस्पी कम देखी गयी थी, जिस पर पार्टी की पैनी नजर थी. आर.के. चौधरी बसपा को दोबारा छोड़कर गये हैं. यह उनका व्यक्तिगत स्वार्थ है. वह पहले भी अकेले गये थे और उनके जाने का पार्टी पर कोई प्रभाव नहीं पड़ा था. आज फिर वह व्यक्तिगत स्वार्थ में बसपा को छोड़कर अकेले गये हैं. उनके जाने से बसपा मूवमेन्ट के कारवाँ पर कोई फर्क पड़ने वाला नहीं है.


यह पार्टी में, मेरे व अन्य साथियों की गलती है कि हम लोगों ने मायावती से खास अपील करके, इनको पार्टी में वापिस प्रवेश कराया है, जबकि पार्टी अध्यक्ष इनके पार्टी छोड़ने के बाद के कारनामों से, इनको कतई भी पार्टी में वापिस नहीं लेना चाहती थीं. इसके लिए हम सभी बहन जी से माफी चाहते हैं.


इसके अलावा यह कोई नई बात नहीं है कि उत्तर प्रदेश में विधानसभा के आमचुनाव नजदीक आने की वजह से जो भी स्वार्थी किस्म के लोग पार्टी छोड़कर जाते हैं तो पार्टी अध्यक्ष पर टिकट देने को लेकर जो भी गलत आरोप लगाते हैं, उसकी हमारी पार्टी कड़े शब्दों में निन्दा करती है.


जबकि आर.के. चौधरी को खुद भी यह बताना चाहिये था कि उसने सन् 2014 में लोकसभा के टिकट के एवज में पार्टी को कितना धन दिया था, लेकिन इसका आज तक कोई भी जवाब नहीं दे सका है. इसलिए इस किस्म के लोगों द्वारा पार्टी को नुकसान नहीं बल्कि फायदा ही पहुँचेगा.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top