Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

जंतर मंतर पर अमित जानी को 'नो एंट्री'

 Tahlka News |  2016-03-25 12:30:28.0

a1तहलका न्यूज ब्यूरो
नई दिल्ली, 25 मार्च. जेएनयू छात्र संघ के अध्यक्ष कन्हैया कुमार के खिलाफ 27 मार्च को जंतर मंतर पर होने वाली महापंचायत खतरे में पड़ गई है। दिल्ली पुलिस ने साफ़ इनकार करते हुए महापंचायत के आयोजन की अनुमति देने से इनकार कर दिया है। दिल्ली पुलिस का यह इनकार सामाजिक कार्यकर्ता शाहीन खान के शिकायती पत्र के बाद सामने आया है।


बता दें कि कन्हैया कुमार द्वारा भारतीय सेना के खिलाफ की गई टिपण्णी से गुस्साई उत्तर प्रदेश नवनिर्माण सेना ने जेएनयू छात्र संघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार के विरुद्ध 27 मार्च को जंतर मंतर पे महापंचायत की घोषणा की थी। इसी बीच आज सामाजिक कार्यकर्ता शाहीन खान ने दिल्ली पुलिस कमिश्नर आलोक कुमार वर्मा से मुलाक़ात की और एक शिकायती पत्र देते हुए आरोप लगाया कि अमित जानी जंतर-मंतर पे हथियार बंद साथियों के साथ जमावड़ा लगाकर दिल्ली की कानून-व्यवस्था को ख़राब करने की प्लानिंग कर रहे हैं।


शिकायत में क्या कहा गया
शिकायत में कहा गया है कि अमित जानी द्वारा गैरकानूनी ढंग से कन्हैया कुमार को 31 मार्च तक दिल्ली छोड़ने का अल्टीमेटम दिया है और न छोड़ने पर 31 मार्च के बाद खुलेआम हत्या की धमकी तक दी है। शाहीन खान ने शिकायत की कि जंतर मंतर की महापंचायत में भी अमित जानी द्वारा धमकी को दोहराया जाना स्वाभाविक है। जिससे भीड़ उत्तेजित हो सकती है और दिल्ली की कानून व्यवस्था पर संकट आ सकता है। शाहीन खान की शिकायत पर दिल्ली पुलिस कमिश्नर द्वारा थाना जंतर मंतर को आदेशित किया है कि महापंचायत की अनुमति न दी जाए। इसके साथ ही शाहीन खान के शिकायती पत्र में लगाये गए आरोपो की जांच के आदेश भी दिए गए हैं।


31 मार्च तक का इंतजार
मिली जानकारी के अनुसार, यदि 31 मार्च के बाद कन्हैया कुमार को अमित जानी द्वारा हत्या की दी गयी धमकी की बात में सत्यता पाई जाती है तो दिल्ली में उनके खिलाफ हत्या की धमकी की धाराओ में मुकदमा कायम हो सकता है। इस सम्बन्ध में जब उत्तर प्रदेश नवनिर्माण सेना के अध्यक्ष अमित जानी से बात की गई तो उन्होंने कहा कि अनुमति देना न देना पुलिस का अधिकार है लेकिन उन्होंने जो घोषणा की है उसको वे जरूर पूरा करेंगे। अमित जानी ने कहा कि पुलिस महापंचायत रोक सकती है लेकिन कन्हैया को कोई पुलिस नहीं बचा पायेगी। हम 31 मार्च तक का इंतज़ार कर रहे है, जैसे ही 31 मार्च बीतेगा कन्हैया की समय सीमा खत्म हो जायेगी।

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Top