Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

नरेन्द्र-बराक के बीच 'ये दोस्ती हम नहीं तोड़ेंगे..' जैसा रिश्ता

 Anurag Tiwari |  2016-06-07 06:19:49.0

modi barak  File Photo: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा


वाशिंगटन. राष्ट्रपति बराक ओबामा भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की वाइट हाउस में दूसरी बार मेजबानी की तैयारी कर रहे हैं, जैसे कई वर्ष बाद वह ऐसा कर रहे हैं। न्यूयॉर्क टाइम्स की रपट में इन दोनों के बीच जुड़ाव को एक 'अविश्वसनीय दोस्ती' करार दिया गया है।

भारतीय प्रधानमंत्री मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति ओबामा के बीच सातवीं बैठक से पहले न्यूयॉर्क टाइम्स ने लिखा है, "ओबामा की मोदी के साथ जैसी दोस्ती है, वैसी अविश्वसनीय दोस्ती उनकी दुनिया के अन्य नेताओं के साथ बहुत कम है।"

रपट में कहा गया है कि दुनिया के दो सबसे बड़े लोकतंत्रों को 'सामूहिक कारण ढूंढ़ने के मजबूर करने वाले' कारण हैं।

File Photo: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा

उदाहरण के तौर पर अमेरिका भारत के उदय को ओबामा की तथाकथित 'एशिया नीति की धुरी' और चीन की वैश्विक आर्थिक एवं सैन्य महाशक्ति बनने की महत्वाकांक्षा के जवाब के लिए एक क्षेत्रीय महाशक्ति के रूप में प्रोत्साहित कर रहा है।

अखबार के अनुसार, भारत के लिए अमेरिकी जुड़ाव अमेरिकी कंपनियों के निवेश से अपनी अर्थव्यवस्था को रफ्तार देने की जरूरत है।

लेकिन मोदी और ओबामा के बीच रिश्ता फिर भी 'अविश्वसनीय' है।

narendra-barak

अखबार का कहना है कि ओबामा ने अल्पसंख्यकों की रक्षा को अपने जीवन का मूल सिद्धांत बनाया है, क्योंकि वह मानते हैं कि लोकतंत्र का मूल सिद्धांत आलोचना और मतभेद है।

लेकिन मोदी ने इसके उलट अपने जीवन का अधिकांश समय दक्षिण पंथी संगठन राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ को बढ़ाने में लगाया है, जो भारत में हिंदू बहुलता के लिए जोरदार ढंग से मुहिम चलाता है। इसमें वर्ष 2002 के गुजरात दंगे को याद किया गया है, जब मोदी वहां के मुख्यमंत्री थे। उस दंगे में करीब एक हजार लोग मारे गए थे, जिनमें अधिकांश मुसलमान थे।

obama-modi1

न्यूयॉर्क टाइम्स ने ह्यूमन राइट्स वाच की रपट का उल्लेख करते हुए कहा है कि भारत में भाजपा सरकार ने बोलने की आजादी का गला घोंटने के लिए देश के व्यापक एवं अस्पष्ट कानूनों का बड़े पैमाने पर इस्तेमाल किया है।

अखबार ने ग्रीन पीस जैसे गैर सरकारी संगठनों(एनजीहओ) को बंद करने का मुद्दा भी उठाया है। ग्रीन पीस एक वैश्विक सहायता समूह है, जिसके 40 से भी अधिक देशों में कार्यालय हैं।

ओबामा अपने बच्चों से बेहद प्यार करने वाले पिता एवं जिम्मेदार पति हैं। वह अपने बचपन के दोस्तों से करीबी रिश्ता बनाए रखते हैं। मोदी दशकों पहले पत्नी को छोड़ वैवाहिक जीवन से अलग हो चुके हैं और उनका कोई बच्चा नहीं है।

obama-modi

दोनों नेताओं के बीच कुछ समानताएं भी हैं। दोनों जमीन से उठे हैं। दोनों के अपने पिता से रिश्ते बहुत मुश्किल भरे रहे और जब निर्वाचित हुए तो बदलाव वाली हस्ती माने गए।

मोदी भी ओबामा की तरह सोशल मीडिया का प्रभावी तरीके से इस्तेमाल करते हैं।

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Top