Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

100 करोड़ रुपए देने पर बुरे फंसे मुलायम सिंह यादव

 Tahlka News |  2016-04-21 11:43:39.0

a1तहलका न्यूज ब्यूरो
नई दिल्ली, 21 अप्रैल. सुप्रीम कोर्ट ने उत्तर प्रदेश की समाजवादी पार्टी को जोरदार फटकार लगाई है। कोर्ट ने 2003 में समाजवादी पार्टी की सरकार द्वारा इटावा के चौ. चरण सिंह ड्रिग्री कॉलेज, हैबरा, इटावा को 100 करोड़ रुपया फ़ंड देने के मामले में कहा कि जनता का पैसा प्राइवेट सोसाइटी को कैसे दे दिया गया।


सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायधीश टी एस ठाकुर ने सख्त टिप्पणी करते हुए कहा कि आम जनता का पैसा किसी प्राइवेट सोसाइटी को कैसे दिया जा सकता है जिसे एक राजनेता चला रहा हो? इस सोसाइटी में शिवपाल यादव, रामगोपाल यादव, अखिलेश यादव आदि हैं। 2003 में मुलायम सिंह प्रदेश के मुख्यमंत्री थे।


पिछली सुनवाई पर सुप्रीम कोर्ट ने याचिका पर सुनवाई करते हुए पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव और पीडब्लूडी मंत्री शिवपाल सिंह यादव को हलफ़नामा दायर करने का आदेश दिया था। सुप्रीम कोर्ट ने याचिका पर 8 साल से कोई जवाब न दाख़िल करने को लेकर दोनों नेताओं को फटकार भी लगाई थी। 2 लाख रुपया जुर्माना लगाने का भी आदेश दिया लेकिन बाद में सुप्रीम कोर्ट ने वकीलों के आग्रह पर वापस ले लिया था। इस मामले में कॉलेज की प्रबंध समिति और पीडब्लूडी को सुप्रीम कोर्ट से नोटिस जारी किया था। 10 साल के ऑडिट का पूरा रिकार्ड और उस पर आपत्तियाँ दायर करने को कहा था।


कोर्ट में पीडब्लूडी को ये भी बताना को कहा था कि पैसा किस किस मद में ख़र्च किया गया था। चौ चरण सिंह जन्मशती समारोह में ख़र्चों का ब्यौरा देने को भी कहा था। यूपी सरकार क दावा था कि ये फ़ंड यूपी एप्रोप्रिएयशन एक्ट 2004 के तहत निकाला गया था। याचिकाकर्ता मनेन्द्र नाथ रॉय ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की थी।

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Top