Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

उच्च सदन के वोटो की सियासत में राजा भैया के घर पहुंचे अखिलेश संग मुलायम

 Tahlka News |  2016-06-06 15:43:37.0

akhilesh raja

तहलका न्यूज़ ब्यूरो

लखनऊ. इसे सियासत का तकाजा कहें या फिर राज्य सभा और विधान परिषद् के चुनावो के उलझे हालत, मगर सोमवार की शाम सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव और मुख्यमंत्री अखिलेश यादव  और पार्टी के कद्दावर नेता  शिवपाल यादव के एक साथ प्रतापगढ़ के बाहुबली निर्दलीय विधायक और सपा सरकार में कैबिनेट मंत्री रघुराज प्रताप सिंह उर्फ़ राजा भैया के सरकारी आवास 8 कालिदास मार्ग पर पहुचने से सियासी हलकों में नयी हलचल पैदा हो गयी.


हांलाकि आधिकारिक रूप से इस मुलाकात को इसे राजा भैया के नजदीकी यशवंत सिंह के MLC चुने जाने की दावत और रजा भैया के एक बच्चे के जन्मदिन का आयोजन बताया जा रहा है मगर  यह भी कहा कहा जा रहा है कि समाजवादी पार्टी के सभी कद्दावर नेताओं के एक साथ राजा भैया के घर पहुचने की वजह किस बड़ी सियासी उथल पुथल को रोकने की कोशिश है.

raaja ghar

कुंडा से बतौर निर्दलीय विधायक जीतने वाले राज भैया ने सूबे की अखिलेश सरकार को अपना समर्थन दिया था और सरकार में मंत्री बने थे.साल 2013 में प्रतापगढ़ के डिप्टी एसपी जियाउल हक़ की हत्या में विपक्ष के हमलो के बाद उन्हें इस्तीफा देना पड़ा था. बाद में सीबीआई की जांच में क्लीन चिट मिलने के बाद रजा भैया फिर से मंत्री बन गए थे, मगर समाजवादी पार्टी से उनके खिचाव की खबरे भी यदा कदा आती रही.

mulayam raaja

राजा भैया को राजपूतो का नेता माना जाता है. केंद्रीय मंत्री राजनाथ सिंह से भी उनकी नजदीकियाँ रही हैं. यह भी कहा जाता है कि राजा भैया का अच्छा प्रभाव कई राजपूत विधायको पर है, इनमे से कई समाजवादी पार्टी के विधायक हैं. बीते दिनों इस बात की काफी चर्चा चल रही थी कि राजा भैया आने वाले विधान सभा चुनावो से पहले सपा का साथ छोड़ सकते हैं.

समाजवादी पार्टी को राज्यसभा में अपना सातवा विधायक जिताने के लिए 8 अतिरिक्त वोटों की जरुरत है. इसी तरह विधान परिषद् के 8 वे उम्मेदवार के लिए उसे 3 अतिरिक्त वोट चाहिए. इस बीच भाजपा ने प्रीति महापात्र को बतौर निर्दलीय उम्मीदवार उतार कर सपा में सेंध लगाने की योजना भी बना रखी है. ऐसे में एक एक वोट का महत्व बढ़ गया है.

रघुराज प्रताप सिंह के सपा का साथ न देने की स्थिति में सरकार को इन अतिरिक्त वोटो के जुगाड़ के साथ ही अपने पाले के विधायको के भी बहकाने की संभावना थी. इसी लिए सोमवार की शाम खुद सपा सुप्रीमो और अखिलेश यादव राजा भैया के आवास पर पहुँच गए .
सूत्रों के अनुसार इस मुलाकात में राज्य सभा और विधान परिषद् के लिए रणनीति पर मंथन हुआ.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top